लाइव टीवी

सरकार का बड़ा फैसला- सोशल साइट और ऐप से अब कोई भी नहीं चुरा पाएगा आपकी निजी जानकारी, बिल को मंजूरी

News18Hindi
Updated: December 4, 2019, 12:55 PM IST

बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में इस बिल को मंजूरी मिली. अब इसे अगले हफ्ते संसद में पेश किया जा सकता है. आपको बता दें कि इस बिल में सोशल साइट और ऐप पर आपकी निजी जानकारी को सुरक्षित करने का प्रावधान किया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 4, 2019, 12:55 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए डेटा प्रोटेक्शन बिल (Data Protection Bill) को मंजूरी दे दी है. बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में इस बिल को मंजूरी मिली. अब इसे अगले हफ्ते संसद में पेश किया जा सकता है. आपको बता दें कि इस बिल में सोशल साइट और ऐप पर आपकी निजी जानकारी को सुरक्षित करने का प्रावधान किया गया है. पिछले दिनों वॉट्सऐप (Whatsapp) पर डेटा की सुरक्षा में लगी सेंध के बाद सरकार और सतर्क हो गई है. इस मामले को लेकर बवाल मचा था. तब आईटी मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद ने कहा था कि सरकार निजता को गंभीरता से लेती है और सूचना की गोपनीयता इसी का हिस्सा है.

डेटा प्रोटेक्शन बिल (Data Protection Bill ) में क्या है खास
>> बिल का जो मसौदा सरकार ने अपने वेबसाइट पर डाला था उसके मुताबिक़ आम लोगों के निजी डेटा के सही और पारदर्शी इस्तेमाल की ज़िम्मेदारी सरकारी और प्राइवेट एजेंसियों पर सौंपी गई है, जो डेटा का इस्तेमाल करने वाले हैं.

>> उपभोक्ता की बिना जानकारी या चोरी करके उसके डेटा का इस्तेमाल करना अब दोनों ही तरह की एजेंसियों को भारी पड़ने वाला है. बिल में ऐसी हरकत के लिए ऐसा करने वाली एजेंसियों पर 15 करोड़ रुपये के जुर्माने का प्रावधान रखा गया है.

>> डेटा का सही इस्तेमाल सुनिश्चित करने के लिए बिल में एक डेटा सुरक्षा प्राधिकरण (Data Protection Authority) बनाने का प्रावधान किया गया है.

>> बिल में डेटा प्रोटेक्शन से संबंधित तमाम देशों से जुड़े कानूनों की समीक्षा कर एक नया कानून बनाया गया है. खासकर यूरोप के डेटा प्रोटेक्शन कानून से कई इनपुट लिए गए हैं.

>> इसमें सबसे अधिक फोकस डेटा को साझा करने में लोगों की सहमति लेने पर दिया है. इसके लिए कई प्रावधान बनाए गए हैं और सख्त रूप से कहा गया है कि बिना अनुमति किसी की तरह का डेटा लेना या उसे साझा करना कानूनन अपराध होगा.>> जस्टिस बीएन श्रीकृष्णा की अध्यक्षता में एक कमेटी बनाई थी. इस कमेटी ने बीते वर्ष अपनी सिफारिशों के साथ डेटा प्रोटेक्शन कानून का मसौदा भी सरकार को सौंपा था.

>>बाद में सरकार ने इसे सार्वजनिक चर्चा के लिए जारी कर इसमें संशोधन किये. अब इसके मसौदे को कैबिनेट की अनुमति के लिए प्रस्तुत किया जा रहा है.

(लक्ष्मण रॉय, इकोनॉमिक पॉलिटिकल एडिटर- CNBC आवाज़)

यह भी पढ़ें :-

मोदी कैबिनेट ने नागरिकता संशोधन बिल को दी मंजूरी, अब संसद में किया जाएगा पेश
चुरा लिया जा रहा है आपका बैंक पासवर्ड, अब तक लग चुका है 60 बैंकों को चूना
Airtel-Vodafone के ग्राहकों के लिए बड़ी खबर कंपनी ने बंद किए ये 2 प्रीपेड प्लान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 4, 2019, 11:27 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर