लाइव टीवी

कोरोना का असर! सरकार ने इस कंपनी के लिए बोली लगाने की समयसीमा बढ़ाई

पीटीआई
Updated: April 9, 2020, 4:36 PM IST
कोरोना का असर! सरकार ने इस कंपनी के लिए बोली लगाने की समयसीमा बढ़ाई
सेंट्रल इलेक्ट्रॉनिक्स के लिए बोली लगाने की समयसीमा बढ़ी

कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से देश में लागू लॉकडाउन के मद्देनजर यह कदम उठाया गया है. इससे पहले DIPAM ने CEL में सरकार की शत-प्रतिशत हिस्सेदारी बिक्री के लिए वैश्विक बोलियां आमंत्रित की थीं.

  • Share this:
नई दिल्ली. सरकार ने सेंट्रल इलेक्ट्रॉनिक्स लि. (CEL) के विनिवेश (Disinvestmet) के लिए बोली लगाने की अंतिम तारीख एक महीने और बढ़ाकर 16 मई कर दी है. कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से देश में लागू लॉकडाउन (Lockdown) के मद्देनजर यह कदम उठाया गया है. इससे पहले निवेश एवं लोक संपत्ति प्रबंधन विभाग (DIPAM) ने सीईएल में सरकार की शत-प्रतिशत हिस्सेदारी बिक्री के लिए वैश्विक बोलियां आमंत्रित की थीं. बोली लगाने की अंतिम तारीख 16 मार्च थी, जिसे बढ़ाकर 16 अप्रैल किया गया था. दीपम ने अब कोविड-19 की वजह से पैदा हुई स्थितियों के मद्देनजर बोली लगाने की अंतिम तारीख एक महीने और बढ़ाकर 16 मई कर दी है.

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत आने वाली सीईएल की स्थापना 1974 में हुई थी. 31 मार्च, 2019 तक सीईएल की चुकता पूंजी 69.22 करोड़ रुपये और नेटवर्थ 75.99 करोड़ रुपये थी. सीईएल के लिए बोली लगाने वाले निवेशक का न्यूनतम नेटवर्थ 31 मार्च, 2019 तक 50 करोड़ रुपये होना चाहिए.

ये भी पढ़े: अब आपके घर चलकर आएगा ATM, इस बैंक ने शुरू की नई सर्विस



BPCL की नीलामी में बोली लगाने की समयसीमा बढ़ाई



इसके पहले, सरकार ने देश की दूसरी सबसे बड़ी तेल रिफाइनरी कंपनी भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लि. (BPCL 4) में अपनी पूरी 52.98 प्रतिशत हिस्सेदारी की नीलामी में बोली लगाने की समयसीमा 13 जून तक बढ़ाई थी. सरकार ने कंपनी में अपनी हिस्सेदारी बेचने को लेकर इस महीने की शुरूआत में रूचि पत्र (EoI) आमंत्रित किया था. इच्छुक पार्टियों को निविदाएं प्रस्तुत करने के लिए दो मई तक का समय दिया गया था.

यह निजीकरण की प्रक्रिया है, इसलिए कोई सरकारी कंपनी इस निविदा में हिस्सा नहीं ले सकेगी. जो निजी कंपनी निविदा में हिस्सा लेना चाहती है, उसकी नेटवर्क कम से कम 10 अरब डॉलर होनी चाहिए. अगर कई कंपनियां मिलकर कंसोर्सियम के रूप में निविदा में हिस्सा लेना चाहती हैं, तो कंसोर्सियम में चार से ज्यादा कंपनियां नहीं होनी चाहिए.

ये भी पढ़ें: क्या खेती के लिए लॉकडाउन का समय ठीक नहीं? 7 साल के उच्चतम स्तर पर चावल का भाव

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 9, 2020, 4:36 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading