लाइव टीवी

जम्मू-कश्मीर के लिए मोदी सरकार की नई स्कीम! अब बांस की खेती से हर साल होगी 3.5 लाख की कमाई

News18Hindi
Updated: November 1, 2019, 10:55 PM IST
जम्मू-कश्मीर के लिए मोदी सरकार की नई स्कीम! अब बांस की खेती से हर साल होगी 3.5 लाख की कमाई
मोदी सरकार बांस के हर पौधे पर 50 फीसदी तक की छूट दे रही है.

मोदी सरकार ने बांस की खेती के नए मॉडल की शुरुआत की है. इसके जरिए देश के किसी भी कोने में रहने वाले लोग इसकी खेती कर सालाना 3.5 लाख रुपये प्रति हेक्टेयर तक कमा सकते हैं. साथ ही, अन्य फसलों की खेती भी बांस के साथ खाली ज़मीन पर कर सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 1, 2019, 10:55 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. मोदी सरकार ने 31 अक्टूबर को गठित केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर (Jammu- Kashmir) और लद्दाख (Ladakh) में विकास योजनाओं (Government of India Scheme) की शुरुआत की दी है. यहां के लोगों को बांस (Bamboo Farming) लगाकर कमाई करवाने की तैयारी है. इसकी खेती पर सरकार 50 फीसदी पैसा खुद दे रही है. इसके हर पौधे पर 120 रुपये देगी. जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में बांस की खेती का कॅमर्शियल लाभ उठाने के लिए 3 बांस प्रौद्योगिकी पार्क बनाए जाएंगे. जम्मू-कश्मीर के कठुआ तथा तराई वाले जिलों में प्राकृतिक तौर पर बांस (Bamboo Farming in India) उगता है. इसलिए यहां के लोगों को प्रोफेशनल तरीके से इसकी खेती करने की सीख देने के लिए जम्मू, श्रीनगर और लेह में बैंबू टेक्नॉलोजी पार्क बनाने का प्रस्ताव है. सरकार की कोशिश है कि जम्मू कश्मीर और लद्दाख के किसान बांस की खेती करके मोटा लाभ कमाएं और चैन की बंसी बजाएं.

सरकार ने बदला नियम- बांस काटने पर पहले फॉरेस्ट एक्ट लगता था. एफआईआर होती थी. फॉरेस्ट अधिकारी और पुलिस किसान को परेशान करते थे. इसलिए वो बांस लगाने से बचता था. लेकिन अब सरकार ने इस नियम को बदल दिया है. यही नहीं इसकी व्यापक पैमाने पर खेती के लिए राष्ट्रीय बैंबू मिशन भी बना दिया है. जिसके तहत किसान को बांस की खेती करने पर प्रति पौधा 120 रुपये की सरकारी सहायता भी मिलेगी.

ये भी पढ़ें-SBI में बचत खाते पर कम मिलेगा मुनाफा, ज्यादा के लिए यहां करें निवेश

बांस की खेती पर लागत हुई कम- कृषि मंत्रालय की एडिशनल सेक्रेटरी अल्का भार्गव के मुताबिक तीन साल में औसतन 240 रुपये प्रति प्लांट की लागत आती है. जिसमें से 120 रुपये प्रति प्लांट सरकारी सहायता मिलेगी.



>> नार्थ ईस्ट को छोड़कर अन्य क्षेत्रों में इसकी खेती के लिए 50 फीसदी सरकार और 50 फीसदी किसान लगाएगा. 50 फीसदी सरकारी शेयर में 60 फीसदी केंद्र और 40 फीसदी राज्य की हिस्सेदारी होगी.

>> जबकि नार्थ ईस्ट में 60 फीसदी सरकार और 40 फीसदी किसान लगाएगा. 60 फीसदी सरकारी पैसे में 90 फीसदी केंद्र और 10 फीसदी राज्य सरकार का शेयर होगा.
Loading...

बांस की खेती से लाखों कमाने का मौका- जरूरत और प्रजाति के हिसाब से एक हेक्टेयर में 1500 से 2500 पौधे लगा सकते हैं. अगर आप 3 गुणा 2.5 मीटर पर पौधा लगाते हैं तो एक हेक्टेयर में करीब 1500 प्लांट लगेंगे. साथ में आप दो पौधों के बीच में बची जगह में दूसरी फसल उगा सकते हैं. 4 साल बाद 3 से 3.5 लाख रुपये की कमाई होने लगेगी.



>> हर साल रिप्लांटेशन करने की जरूरत नहीं. क्योंकि बांस की पौध करीब 40 साल तक चलती है.
दूसरी फसलों के साथ खेत की मेड़ पर 4 गुणा 4 मीटर पर यदि आप बांस लगाते हैं तो एक हेक्टेयर में चौथे साल से करीब 30 हजार रुपये की कमाई होने लगेगी.

>>  इसकी खेती किसान का रिस्क फैक्टर कम करती है. क्योंकि किसान बांस के बीच दूसरी खेती भी कर सकता है. सरकारी नर्सरी से पौध फ्री मिलेगी.

बांस से क्या बना सकते हैं आप-इसकी 136 प्रजातियां हैं. अलग-अलग काम के लिए अलग-अलग बांस की किस्में. लेकिन उनमें से 10 का इस्तेमाल सबसे ज्यादा हो रहा है. यह देखकर प्रजाति का चयन करना होगा कि आप किस काम के लिए बांस लगा रहे हैं.



>> अगर फर्नीचर के लिए लगा रहे हैं तो संबंधित प्रजाति का चयन करना होगा. बांस कंस्ट्रक्शन के काम आ रहा है. आप इससे घर बना सकते हैं.

>> फ्लोरिंग कर सकते हैं. फर्नीचर बना सकते हैं. हैंडीक्रॉफ्ट और ज्वैलरी बनाकर कमाई कर सकते हैं. बैंबू से अब साइकिलें भी बनने लगी हैं. अब शेड डालने के लिए सीमेंट की जगह बांस की सीट भी तैयार की जा रही है.

बैम्बू टेक्नोलॉजी पार्क के जरिए बांस की पैदावार, इससे बनने वाले प्रोडक्ट्स और इसकी मार्केटिंग की जानकारी जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के किसानों को दी जाएगी.

ये भी पढ़ें-यहां इन 5 टमाटर की कीमत हैं 50 लाख, जानिए पूरा मामला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इनोवेशन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 1, 2019, 11:05 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...