रेल यात्रियों को अगले पांच सालों में मोदी सरकार देने वाली है ये तोहफे, प्लान तैयार

यात्रियों की सुविधा के लिए सेमी हाई स्पीड कॉरिडोर समेत रेलवे क्रॉसिंग पर अंडरपास और ओवरब्रिज बनाने पर जोर देने का प्लान कर रही है.

News18Hindi
Updated: June 3, 2019, 8:16 AM IST
रेल यात्रियों को अगले पांच सालों में मोदी सरकार देने वाली है ये तोहफे, प्लान तैयार
रेलवे
News18Hindi
Updated: June 3, 2019, 8:16 AM IST
मोदी सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल की शुरुआत के साथ ही सभी विभागों की जिम्मेदारी तय कर दी है. मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर शिक्षा नीति का ड्राफ्ट तैयार होने के बाद अब रेल मंत्रालय ने अपने पांच साल का रोडमैप पेश किया है. रेल मंत्री पीयूष गोयल ने पदभार संभालने के साथ ही रेलवे की ओर से अगले पांच सालों का खाका पेश कर दिया है. इसमें यात्रियों की सुविधा के लिए दिल्ली-हावड़ा व दिल्ली-मुंबई रूट को सेमी हाई स्पीड कॉरिडोर, समस्त रेलवे क्रॉसिंग पर अंडरपास और ओवरब्रिज बनाने पर जोर देने की बात कही गई है.

हिंदी अखबार में प्रकाशित खबर के मुताबिक पीयूष गोयल अगले हफ्ते रेलवे की ओर से तैयार रोडमैप की समीक्षा पर बैठक करेंगे. इस समीक्षा बैठक में रेल राज्य मंत्री अगाड़ी सुरेश भी मौजूद रहेंगे. रेल मंत्री की ओर से कहा गया है कि रोडमैप में यात्रियों की सुरक्षा सबसे ऊपर रखी गई है. बताया जा रहा है कि साल 2022 तक रेलवे क्रॉसिंग पर रेलवे ओवर ब्रिज (आरओबी) या रेलवे अंडर ब्रिज (आरयूबी) बना दिए जाएंगे, जबकि 2024 तक देशभर से रेलवे क्रॉसिंग को खत्म कर दिया जाएगा.

इसे भी पढ़ें :- ट्रेन टिकट खो जाने पर भी आपको नहीं रोक सकता हैं TTE, जानिए नियम के बारे में...

रेल हादसे रोकने पर रहेगा जोर

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि  सरकार की कोशिश है कि रेल हादसों में पूरी तरह से रोक लगा दी जाए. इसके लिए ट्रेनों में हादसे रोकने के लिए टक्कर रोधी उपकरण (टीकैश) लगाने का काम जल्द शुरू कर दिया जाएगा. यह काम अगस्त 2019 से शुरू किया जाएगा और 18 महीनों के अंदर इस काम को पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है. इसी के साथ सभी कोच और स्टेशनों पर अगस्त 2020 तक सीसीटीवी लगाने का काम पूरा कर लिया जाएगा.

इसे भी पढ़ें :- ट्रेन के जनरल कोच की भीड़ में फंसकर युवती की मौत

2020 तक 100 वंदे भारत एक्सप्रेस शुरू करने का लक्ष्य
Loading...

रेलवे की ओर से जानकारी दी गई है कि दिसंबर 2020 तक 100 वंदे भारत एक्प्रेस ट्रेनों के उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है. इसमें राजधानी एक्सप्रेस की तर्ज पर ट्रेन-19 का निर्माण किया जाना तय हुआ है. इसी के साथ रेलवे का लक्ष्य है कि वह ट्रेनों के समय को 100 फीसदी सही करेंगे. इसके लिए टाइम टेबल में बदलाव, एडवांस सिग्नल सिस्टम और बेहतर ट्रैक की व्यवस्था की जाएगी. इसकी के साथ ट्रेन के अंदर और स्टेशनों पर यात्रियों की सुविधाओं का विशेष ध्यान रखा जाएगा.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
First published: June 3, 2019, 7:20 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...