• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • GST को लेकर मोदी सरकार लेकर आई है यह शानदान स्कीम, आपने फायदा नहीं उठाया तो भरना पड़ सकता है भारी जुर्माना

GST को लेकर मोदी सरकार लेकर आई है यह शानदान स्कीम, आपने फायदा नहीं उठाया तो भरना पड़ सकता है भारी जुर्माना

भारत सरकार जीएसटी भरने को लेकर इस स्कीम के जरिए अब आखिरी मौका देने जा रही है.

भारत सरकार जीएसटी भरने को लेकर इस स्कीम के जरिए अब आखिरी मौका देने जा रही है.

GST News: कोरोना काल (Corona Period) में भी अगर आपने जीएसटी (GST Return) नहीं भरा है तो अब हो जाएं सावधान. मोदी सरकार (Modi Government) ऐसे कारोबारियों पर भारी जुर्माने (Penalty) के साथ-साथ राहत (Relief) भी देने जा रही है.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना काल (Corona Period) में भी अगर आपने जीएसटी (GST Return) नहीं भरा है तो अब हो जाएं सावधान. मोदी सरकार (Modi Government) ऐसे कारोबारियों पर भारी जुर्माने (Penalty) के साथ-साथ राहत (Relief) भी देने जा रही है. बता दें कि देश के लाखों व्यवसायियों, जिन्होंने आज तक जीएसटी रिटर्न नहीं भरा है या जिन्होंने एक-दो बार भर कर छोड़ दिया है. वैसे व्यावसायियों को अब हर हालत में जीएसटी भरना ही पड़ेगा. भारत सरकार ने इसके लिए एक स्कीम का भी ऐलान किया है. इस स्कीम के मुताबिक वे व्यवसायी, जिन्होंने साल 2017 से अब तक निबंधन तो कराया है, लेकिन अभी तक एक भी रिटर्न नहीं भरा है या एक-दो रिटर्न भर कर छोड़ दिया है, वैसे लोगों को भारत सरकार एक स्कीम के माध्यम से अब आखिरी मौका देने जा रही है. एमनेस्टी यानी माफी योजना के तहत इन व्यावसायियों का फायदा भी हो सकता है. अगर व्यवसायियों ने 1 अगस्त तक इस योजना का लाभ नहीं लिया तो उन्हें हर महीना 10 हजार रुपये तक जुर्माना भर पड़ सकता है. इस योजना के लिए व्यवसायी अगस्त महीने से पहले अप्लाई कर सकते हैं.

एमनेस्टी योजना का लाभ आप ऐसे उठा सकते हैं
बता दें कि देश में कई छोटे-छोटे व्यवसायी हैं, जिसका जीएसटी नबंधन तो है लेकिन उन्होंने आज तक रिटर्न दाखिल नहीं किया है. ऐसे लोगों पर अब जुर्माने की भारी रकम भरने को लेकर तलवार लटक रही है. यह जुर्माना अधिकतम 10 हजार प्रतिमाह भी हो सकता है. इसी को देखते हुए भारत सरकार ने माफी योजना लेकर आई है. इस स्कीम में गांव-देहात या जिले में रह रहे व्यवसायी भारी जुर्माने से बच सकते हैं.

FM Nirmala sitharaman said GST revenue collection should be increase permanent ndss
 एमनेस्टी योजना के तहत व्यवसायी एक अगस्त से पहले इस योजना का लाभ लेने के लिए आवेदन कर सकते हैं. (फाइल फोटो)


एक अगस्त से पहले आवेदन जमा करना अनिवार्य
देश के सभी राज्यों के राज्य कर आयुक्त और संयुक्त आयुक्त इस बारे में व्यवसायियों को जानकारी दे रहे हैं. इसके मुताबिक, भारत सरकार के एमनेस्टी योजना के तहत व्यवसायी एक अगस्त से पहले इस योजना का लाभ लेने के लिए आवेदन कर सकते हैं. जो व्यवसायी जीएसटी नंबर लेकर व्यवसाय नहीं किए तो उन्हें हर महीने 500 रुपये जुर्माना देना पड़ेगा. अगर व्यवसायी जीएसटी नंबर लेकर व्यवसाय भी कर चुके हैं और जीएसटी रिटर्न नहीं भरे हैं तो उनको 1000 रुपये तक जुर्माना देना पड़ सकता है.

कौन इस योजना का लाभ ले सकते हैं
जीएसटी के एक अधिकारी के मुताबिक, 'ऐसे व्यवसायी, जिन्होंने जीएसटी लागू होने के बाद अपना रजिस्ट्रेशन तो करा लिया है, लेकिन आज तक रिटर्न नहीं भरा है और उनको लगता है कि उनका व्यवसाय भी बंद हो गया या उनका रजिस्ट्रेशन रद्द हो चुका है उन्हें तो रिटर्न भरने की जरूरत नहीं है. ऐसे व्यवसायियों को नुकसान हो सकता है. चाहे आपका व्यवसाय बंद ही क्यों न हो गया है, लेकिन आपको हर महीना जुर्माना का रकम बढ़ता ही जाएगा. आपको हर हाल में रिटर्न दाखिल करना ही पड़ेगा. ऐसे व्यवसायी एमनेस्टी योजना का लाभ लेकर जुर्माने से बच सकते हैं. अगर उन्होंने ऐसा नहीं किया तो एक अगस्त के बाद ऐसे व्यवसायियों को हर महीने 10 हजार रुपये जुर्माने का वसूला जाएगा.

ये भी पढ़ें: कोरोना काल में कमर्शियल व्हीकल्स की बिक्री में जबरदस्त गिरावट, इन राज्यों के राजस्व को हुआ भारी नुकसान

ऐसे में अगर आपने जीएसटी का रजिस्ट्रेशन कराया है और किसी कारण से जीएसटी शुल्क नहीं भर पाए हैं तो भारत सरकार के इस योजना का लाभ लेकर भारी जुर्माने से बच सकते हैं. गांव-देहात और जिला स्तर के व्यवसायियों के लिए भारत सरकार की यह स्कीम काफी राहत देने वाली है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज