कैश ट्रांजैक्शन करने वाले सावधान, मोदी सरकार नियमों में करने जा रही ये बदलाव

मोदी सरकार ने इकोनॉमी में कैश लेनदेन को कम करने और डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए नया प्लान बनाया है. इसके तहत ज्यादा कैश जमा करने या निकासी पर PAN के साथ आधार वेरिफिकेशन कराना अनिवार्य होगा.

News18Hindi
Updated: July 22, 2019, 2:33 PM IST
कैश ट्रांजैक्शन करने वाले सावधान, मोदी सरकार नियमों में करने जा रही ये बदलाव
कैश लेनदेन करने वालों के लिए बड़ी खबर, बदल जाएंगे ये नियम
News18Hindi
Updated: July 22, 2019, 2:33 PM IST
अगर आप बड़े पैमाने पर नकद लेन-देन करते हैं तो आपके लिए ये खबर महत्वपूर्ण है. दरअसल, मोदी सरकार ने इकोनॉमी में कैश लेनदेन को कम करने और डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए नया प्लान बनाया है. इसके तहत ज्यादा कैश जमा करने या निकासी पर PAN के साथ आधार वेरिफिकेशन कराना अनिवार्य होगा. आधार वेरिफिकेशन के लिए सरकार बायोमेट्रिक टूल या फिर वन टाइम पासवर्ड (ओटीपी) का विकल्प दे सकती है.

20 से 25 लाख हो सकती है सीमा
टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, सरकार ने फाइनेंस बिल में कुछ संशोधन किया है. इसके मुताबिक, तय सीमा से ज्यादा फॉरेन एक्सचेंज जैसे कई हाई वैल्यू ट्रांजैक्शन के लिए अभी तक PAN की जरूरत थी. अगर आप बहुत ज्यादा कैश जमा करते हैं तो अब सिर्फ पैन या आधार की कॉपी से बात नहीं बनेगी. अभी आधार वेरिफिकेशन अनिवार्य बनाने के लिए जमा-निकासी की सीमा तय करने पर विचार हो रहा है, लेकिन यह 20 से 25 लाख रुपये के बीच हो सकती है.

ये भी पढ़ें: खुशखबरी! फिर सस्ता हो सकता है कर्ज, RBI गवर्नर ने दिए संकेत

बड़े ट्रांजैक्शन का पता लगाना सरकार का मकसद
सरकारी सूत्रों का कहना है कि इस कदम का मकसद छोटे ट्रांजैक्शन करने वालों को कोई दिक्कत पैदा किए बिना बड़े ट्रांजैक्शन वालों का पता लगाना है. अभी बड़े लेनदेन के लिए पैन नंबर देना अनिवार्य है, लेकिन एक सीमा तय होने के बाद पैन नंबर के साथ आधार का वेरिफिकेशन भी कराना होगा.

प्रॉपर्टी लेन-देन में भी जरूरी होगा आधार वेरिफिकेशन
Loading...

रिपोर्ट के अनुसार, नकद जमा-निकासी के अलावा एक निश्चित मूल्य से ज्यादा की प्रॉपर्टी के लेनदेन में भी आधार वेरिफिकेशन को अनिवार्य किया जा सकता है. सूत्रों का कहना है कि अभी कई जमाकर्ता फर्जी पैन नंबर का इस्तेमाल करते हैं. इससे उनके लेनदेन को ट्रैक नहीं किया जा सकता है. इस समस्या से निपटने के लिए आधार वेरिफिकेशन को अनिवार्य किया जा सकता है. सूत्रों का कहना है कि इस प्रक्रिया से फ्रॉड को रोकने में मदद मिलेगी.

ये भी पढ़ें: SBI ग्राहकों के लिए खुशखबरी! 10 दिन बाद से बैंक फ्री में देगा ये सर्विस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 22, 2019, 2:11 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...