टोल प्लाजा पर कैश पेमेंट करना पड़ेगा महंगा, जानें वजह?

मोदी सरकार ने मेट्रो सिटीज में टोल प्लाजा पर लगने वाली भीड़ पर काबू पाने के लिए नया प्लान बनाया है. इसके तहत मेट्रो सिटीज में टोल प्लाजा पर कैश पेमेंट करने पर सरचार्ज लगाया जा सकता है.

News18Hindi
Updated: July 3, 2019, 8:14 PM IST
News18Hindi
Updated: July 3, 2019, 8:14 PM IST
मोदी सरकार ने मेट्रो सिटीज में टोल प्लाजा पर लगने वाली भीड़ पर काबू पाने के लिए नया प्लान बनाया है. नए प्लान के तहत मेट्रो सिटीज में टोल प्लाजा पर कैश पेमेंट करने पर सरचार्ज लगाया जा सकता है. बड़े शहरों में टोल प्लाजा पर कैश पेमेंट करने पर 10 से 20% तक सरचार्ज लग सकता है. सरकार के इस प्लान से टोल प्लाजा पर कैश पेमेंट करना आपके जेब पर भारी पड़ेगा. सरकार का ये कदम फास्टैग (FASTag) को बढ़ावा देने के लिए है, क्योंकि कैश पेमेंट से टोल प्लाजा पर गाड़ियों की लंबी लाइन लगती है.

क्या है फास्टैग?
FASTag एक वाहन की विंडस्क्रीन से जुड़ा हुआ एक उपकरण है. यह रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) तकनीक पर आधारित है. इससे गाड़ी यदि चल भी रही है तो टोल बूथ से गुजरने पर अपने आप ही रिकॉर्ड दर्ज हो जाएगा. टोल का किराया सीधे बैंक खाते से काट लिया जाता है जो कि FASTag से जुड़ा हुआ है. इसके चलते ड्राइवर को टोल प्लाजा पर रुकना नहीं पड़ता है. केंद्रीय भूतल परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय द्वारा चार साल पहले फास्टैग लागू किया गया था. ये भी पढ़ें: सरकार की गारेंटेड पेंशन स्कीम में बड़े बदलाव की तैयारी, नहीं लगेगा टैक्स


Loading...

अब इलेक्ट्रॉनिक टोलिंग के बेस रेट तय किए जा सकते हैं और कैश पेमेंट पर भीड़ के हिसाब से सरचार्ज लगाया जा सकता है. फिलहाल NHAI के लगभग 400 टोल प्लाजा पर लगभग 30% टोल इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से वसूल किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें: मोदी सरकार आम आदमी पर 34 साल बाद फिर से लगा सकती हैं ये टैक्स

आम बजट 2019 की सही और सटीक खबरों के लिए न्यूज18 हिंदी पर आएं. वीडियो और खबरों  के लिए यहां क्लिक करें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 3, 2019, 3:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...