वाहन चालकों की सुरक्षा के लिए मोदी सरकार का नया प्लान, टायरों में करना होगा ये बदलाव

वाहनों के टायर में नाइट्रोजन गैस भरवाने को सरकार जल्द अनिवार्य कर सकती है. इस संबंध में केंद्र सरकार एक पॉलिसी लाने पर विचार कर रही है. आइए आपको बताते हैं नाइट्रोजन भरने के फायदों के बारे में..

News18Hindi
Updated: July 9, 2019, 9:33 AM IST
वाहन चालकों की सुरक्षा के लिए मोदी सरकार का नया प्लान, टायरों में करना होगा ये बदलाव
सरकार करने वाली है ये बदलाव
News18Hindi
Updated: July 9, 2019, 9:33 AM IST
मोदी सरकार अब सड़क हादसों को कम करने के लिए एक प्लान लेकर आई है. सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने बढ़ते सड़क हादसों पर चिंता जताते हुए इस नए प्लान के बारे में बताया है. गडकरी ने कहा कि सड़क दुर्घटनाओं को काबू करने के लिए टायरों के निर्माण में रबर के साथ सिलिकॉन मिलाने और टायरों में नाइट्रोजन भरने को अनिवार्य बनाने की आवश्यकता है. इससे टायर ठंडे रहेंगे और उनके फटने का खतरा कम होगा.

वाहनों के टायर में नाइट्रोजन गैस भरवाने को सरकार जल्द अनिवार्य बना सकती है. इस संबंध में केंद्र सरकार एक पॉलिसी लाने पर विचार कर रही है. आइए आपको बताते हैं नाइट्रोजन भरने के फायदों के बारे में..

ये भी पढ़ें: गैस सिलिंडर फटा तो मिलेगा 50 लाख का मुआवजा, ऐसे करें क्लेम

ये हैं फायदे

नाइट्रोजन गैस टायर को गर्मियों में ठंडा रखती है. नाइट्रोजन गैस रबर की वजह से टायर में कम बढ़ पाती है, जिसकी वजह से टायर में प्रेशर ठीक रहता है. इसलिए फॉर्मूला वन रेसिंग कारों के टायर्स में नाइट्रोजन गैस ही भरी जाती है. साधारण हवा फ्री में या फिर ज्यादा से ज्यादा 5 से 10 रुपए में भर जाती है, जबकि नाइट्रोजन गैस के लिए 150 से 200 रुपए खर्च करने होते हैं.

हर वर्ष सड़क दुर्घटनाओं में होती हैं 1.50 लाख मौतें
गडकरी ने बताया कि हर वर्ष सड़क दुर्घटनाओं में लगभग डेढ़ लाख लोगों की मौत हो जाती है. सरकार इसके प्रति गंभीर है और इन्हें रोकने के लिए नया कानून लाना चाहती है. लेकिन संबंधित विधेयक एक वर्ष से सदन में लंबित है. उन्होंने सदस्यों से इसे जल्दी पारित करने का अनुरोध किया. उन्हाेंने कहा कि दुर्घटनाओं के कई कारण है, जिनमें अप्रशिक्षित चालक, खराब सड़कें और निगरानी का अभाव भी शामिल है.
Loading...

ये भी पढ़ें: DDA का मानसून ऑफर! सस्ते में जमीन और दुकान खरीदने का मौका

850 ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर खोलेगी सरकार 
नए वाहन चालकों को ट्रेनिंग देने के लिए देश भर में लगभग 850 ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर खोले जाएंगे. वाहनों में ऐसी प्रौद्योगिकी लगाई जा रही है, जो चालक के शराब पीने और अधिक माल या सवारी भरने आदि की सूचना स्थानीय पुलिस को दे देगी. वाहनों की गति को नियंत्रण में रखने के उपाय किए जा रहे हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऑटो से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 9, 2019, 8:49 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...