होम /न्यूज /व्यवसाय /

मोदी सरकार का बेरोजगारों को तोहफा! अब गांवों की तरह छोटे शहरों में भी MNREGA के तहत मिलेगा रोजगार

मोदी सरकार का बेरोजगारों को तोहफा! अब गांवों की तरह छोटे शहरों में भी MNREGA के तहत मिलेगा रोजगार

सरकार का बेरोजगारों को तोहफा! अब गांवों की तरह छोटे शहरों में भी MNREGA स्कीम

सरकार का बेरोजगारों को तोहफा! अब गांवों की तरह छोटे शहरों में भी MNREGA स्कीम

सरकार बेरोजगारों (Unemployed) को काम दिलाने के लिए कई योजनाएं बना रही है. इसी कड़ी में सरकार अपने रोजगार कार्यक्रम (MNREGA Employment Programme) मनरेगा (एमजीएनआरईजीए) को गांवों के साथ शहरों में भी लाने की योजना बना रही है. यह रोजगार उन लोगों को शहरों में मिलेगा जो कोरोना से हुए लॉकडाउन की वजह से बेरोजगार हो गए हैं.

अधिक पढ़ें ...
  • News18Hindi
  • Last Updated :
    नई दिल्ली. सरकार बेरोजगारों (Unemployed) को काम दिलाने के लिए कई योजनाएं बना रही है. इसी कड़ी में सरकार अपने रोजगार कार्यक्रम (MNREGA Employment Programme) मनरेगा (एमजीएनआरईजीए) को गांवों के साथ शहरों में भी लाने की योजना बना रही है. यह रोजगार उन लोगों को शहरों में मिलेगा जो कोरोना से हुए लॉकडाउन की वजह से बेरोजगार हो गए हैं. अगर इस योजना को अमल में लाया गया तो शहरों में भी एक बड़ी आबादी को रोजगार मिल पाएगा.

    इंडियन एक्सप्रेस में छपी रिपोर्ट के मुताबिक इस रोजगार कार्यक्रम को छोटे शहरों में लागू किया जाएगा. इसके पीछे सोच यह है कि बड़े शहरों में आमतौर पर प्रशिक्षित या जानकार कामगारों की जरूरत ज्यादा होती है. जबकि छोटे शहरों में दिहाड़ी कामगारों के लिए प्रशिक्षण की जरूरत नहीं होती है. इस पर शुरुआत में 3500 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे. सरकार इस आइडिया पर पिछले साल से ही विचार कर रही है. कोरोना की वजह ने अब इसे तेजी से लागू करने का अवसर दे दिया है.

    ये भी पढ़ें:- कब शुरू होंगी रेगुलर ट्रेनें, IRCTC के एमडी ने दिया ये जवाब

    मोदी सरकार ने इस साल मनरेगा के तहत पहले ही 1 लाख करोड़ रुपये खर्च किये हैं. इस योजना में ग्रामीण इलाकों के कामगार प्रति दिन कम से कम 202 रुपये पाते हैं. साल में कम से कम 100 दिन उन्हें काम मिलता है. शहरी इलाकों में इसे लागू किए जाने से कोरोना में बेरोजगार हुए लोगों को रोजगार मिल सकेगा.

    कोरोना के कारण बेरोजगारी दर बढ़कर 23 प्रतिशत पर पहुंच गई थी 
    कोविड-19 कारण शहरी इलाकों में लोगों पर बहुत ज्यादा असर डाला है. इससे कामगारों के लिए बेरोजगारी की समस्या आ गई है. अप्रैल में 12.1 करोड़ से ज्यादा लोगों के रोजगार चले गए. इससे बेरोजगारी की दर बढ़कर 23 प्रतिशत पर पहुंच गई है. हालांकि जब से अनलॉक शुरू हुआ है, तब से बेरोजगारी की दर में गिरावट आ रही है.undefined

    Tags: Employment opportunities, Employment opportunity, MNREGA

    अगली ख़बर