ट्रेनों के बाद अब रेलवे स्टेशनों का होगा प्राइवेटाइजेशन, रेल मंत्री ने दी जानकारी

ट्रेनों के बाद अब रेलवे स्टेशनों का होगा प्राइवेटाइजेशन, रेल मंत्री ने दी जानकारी
ट्रेनों के बाद अब रेलवे स्टेशनों पर भी होगा प्राइवेट कंपनियों का कब्ज़ा: गोयल

केंद्र सरकार (Central Government) 151 ट्रेनों (151 Train Privatization) को निजी हाथों में सौंपने का फैसला कर चुकी है. अब इसके बाद सरकार रेलवे स्टेशनों का आधुनिकीकरण कर उन्हें निजी क्षेत्र को सौंपने की योजना बना रही है.

  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र सरकार (Central Government) 151 ट्रेनों (151 Train Privatization) को निजी हाथों में सौंपने का फैसला कर चुकी है. अब इसके बाद सरकार रेलवे स्टेशनों का आधुनिकीकरण कर उन्हें निजी क्षेत्र को सौंपने की योजना बना रही है. रेल मंत्री पीयूष गोयल कहा है कि यह काम नीलामी के जरिये किया जाएगा. रेल मंत्री ने कहा कि रेलगाड़ियों के निजीकरण के लिए बोली मंगाई जा रही हैं और इनके लिए अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है. उन्होंने ये भी कहा कि सरकार भारतीय रेल के स्टेशनों को आधुनिक बनाने जा रही है. उसके बाद इन्हें नीलामी के जरिये निजी क्षेत्र के हाथ में सौंपा जाएगा.

ये भी पढ़ें:- ऋषिकेश में बन रहा शानदार Railway Station, रेल मंत्री ने शेयर की खूबसूरत Pics

रेल मंत्री ने कहा कि गुड्स कॉरिडोर परियोजना पर काम को तेज किये जाने की जरूरत है. कोविड 19 की वजह से इस काम में देरी हो गयी है. उन्होंने कहा कि गुड्स कॉरिडोर के लिए पश्चिम बंगाल में जितनी जमीन की जरूरत है, राज्य सरकार ने अभी तक वह परियोजना के लिए बनाये गये विशेष निकाय के हवाले नहीं किया है.



कोलकाता में मेट्रो सेवा शुरू हो सकती है
रेल मंत्री ने कहा कि यदि राज्य सरकार इसे मंजूरी देती है तो कोलकाता में मेट्रो सेवा शुरू हो जाएगी. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी राज्य में विमान सेवा और उपनगरीय रेल सेवा को अभी शुरू करने के खिलाफ हैं. यदि मेट्रो का परिचालन अभी फिर शुरू कर दिया तो कोरोना संक्रमण की स्थिति हाथ से निकल सकती है.

ये भी पढ़ें:- ग्राहक को मिले कई अधिकार, अब कैरी बैग के पैसे वसूलना क्यों होगा कानूनन गलत?

रेल मंत्री ने मर्चेंट चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के साथ एक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में कहा कि केंद्र सरकार की योजना यह है कि रेलवे स्टेशनों का आधुनिकीकरण किया जाए और उसके बाद एक बोली के जरिए यह निजी हाथों में दे दिया जाए. इससे पहले रेलवे के नेटवर्क पर निजी कंपनियों की ट्रेन चलाने के लिए एक औपचारिक शुरुआत हो चुकी है. इसी महीने की शुरुआत में रेलवे ने 151 आधुनिक ट्रेन चलाने के लिए कंपनियों से प्रस्ताव मांगे थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज