Fact Check: क्या 5 लाख केंद्रीय कर्मचारियों को नौकरी से निकालने वाली है सरकार? यहां जानिए पूरा सच

Fact Check: क्या 5 लाख केंद्रीय कर्मचारियों को नौकरी से निकालने वाली है सरकार? यहां जानिए पूरा सच
Fact Check: क्या 5 लाख केंद्रीय कर्मचारियों को नौकरी से निकालने वाली है सरकार? यहां जानिए पूरा सच

सोशल मीडिया पर एक खबर वायरल हो रही है कि केंद्र सरकार 5 लाख केंद्रीय कर्मचारियों को नौकरी से निकालने की तैयारी कर रही है. वाट्सऐप और फेसबुक पर शेयर हो रहे इस मैसेज का सच पीआईबी की फैक्ट चेक टीम ने बताया है कि रिपोर्ट में किया गया दावा सही नहीं है. ये झूठ है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 12, 2020, 11:57 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस की वजह से लगे (Coronavirus) लॉकडाउन (Lockdown) के बीच सोशल मीडिया (Social Media) पर कई तरह की अफवाहें चल रही हैं. सोशल मीडिया पर एक खबर वायरल हो रही है कि केंद्र सरकार 5 लाख केंद्रीय कर्मचारियों को नौकरी से निकालने की तैयारी कर रही है. वाट्सऐप और फेसबुक पर शेयर हो रहे इस मैसेज का सच पीआईबी की फैक्ट चेक टीम ने बताया है कि रिपोर्ट में किया गया दावा सही नहीं है. ये झूठ है..

ये किया जा रहा है दावा
सोशल मीडिया पर एक अखबार की कटिंग वायरल हो रही है. जिसकी हेडिंग है कि 5 लाख केंद्रीय कर्मियों को बाहर करने की तैयारी. खबर में दावा किया जा रहा है कि केंद्र सरकार 5 लाख केंद्रीय कर्मचारियों को नौकरी से निकालने की तैयारी कर रही है.





पुरानी रिपोर्ट का कुछ अंश जोड़कर बनायी गई खबर 
इस न्यूज रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इस मामले में कार्मिक विभाग ने आयुध निर्माणियों के अलावा रेलवे को मुख्य निशाना बनाया गया है. केंद्रीय कर्मचारियों का सबसे बड़ा हिस्सा इन्हीं संस्थानों का है. वायरल खबर में इस बात का भी जिक्र किया गया है कि इस मामले में केंद्रीय कार्मिक विभाग ने जो जानकारी मांगी है, उसमें कर्मचारियों की 55 साल उम्र या फिर 30 साल की नौकरी पूरी होने की बात कही गयी है.

PIB का सुझाव
कोरोना संकट की घड़ी में ही नहीं, देश में जब कभी भी विषम परिस्थिति बनती है, तब इस प्रकार की फेक न्यूज या फिर भीड़ को भड़काने वाली सूचनाएं सोशल मीडिया में तेजी से प्रसारित होती हैं. ऐसे में, जरूरत इस बात की है कि हम सोशल मीडिया में प्रसारित होने वाली हर सूचनाओं को सही मानने की गलती न करें. पहले, उसे परखें और जब सूचनाएं ताजी, आधिकारिक और पुष्ट हों, तो भरोसा करें. खासकर, दावा करने वाली जैसी सूचनाओं पर तो तत्काल भरोसा न ही करें.

ये भी पढ़ें :- इनकम टैक्स भरते वक्त अब बिजली के बिल की भी जानकारी देना जरूरी, जानिए सबकुछ
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज