प्याज की कीमतें 48% बढ़ी, तो मोदी सरकार ने बंद की ये सब्सिडी

केंद्र सरकार ने घरेलू बाजार में प्याज की कीमत बढ़ने के मद्देनजर इसके ताजा और कोल्ड स्टोरेज की प्याज के निर्यात पर प्रोत्साहन को समाप्त कर दिया है.

पीटीआई
Updated: June 11, 2019, 8:38 PM IST
प्याज की कीमतें 48% बढ़ी, तो मोदी सरकार ने बंद की ये सब्सिडी
प्याज की कीमत 48 फीसदी बढ़ी
पीटीआई
Updated: June 11, 2019, 8:38 PM IST
सरकार ने घरेलू बाजार में प्याज की कीमत बढ़ने के मद्देनजर इसके ताजा और कोड स्टोरोज की प्याज के निर्यात पर प्रोत्साहन को समाप्त कर दिया है. प्याज के निर्यातक पर मर्चेंडाइज एक्सपोर्ट्स फ्रॉम इंडिया स्कीम (MEIS) के तहत निर्यात माल के एफओबी (लदान मूल्य) के 10 फीसदी के बराबर शुल्क की पर्ची का लाभ दिया जा रहा था. इस पर्ची का इस्तेमाल मूल आयात शुल्क सहित कई प्रकार के शुल्कों के भुगतान में इस्तेमाल किया जा सकता है.

9 जून को जारी एक सार्वजनिक सूचना में विदेश व्यापार महानिदेशालय (DGFT) ने कहा कि वह ताजा और कोल्ड स्टोरेज की प्याज के निर्यात के लिए दिए जाने वाले लाभों को समाप्त कर रहे है. इसमें कहा गया है प्याज पर एमईआईएस के लाभ को तत्काल 10 फीसदी से घटाकर शून्य कर दिया गया है.



सूखे की स्थिति को देखते हुए लिया फैसला
पिछले साल दिसंबर में इस योजना के तहत प्याज निर्यात पर प्रोत्साहन की दर को 5 फीसदी से बढ़ाकर 10 फीसदी कर दिया था. इसे इस वर्ष 30 जून तक जारी रखना था. प्रोत्साहन को वापस लेने का निर्णय इस मायने में महत्वपूर्ण है कि केंद्र सरकार ने उत्पादक राज्यों में सूखे की स्थिति को देखते हुए आने वाले महीनों में कीमतों को अंकुश में रखने के लिए 50,000 टन प्याज का बफर स्टॉक बनाना शुरू कर दिया है.

ये भी पढ़ें: नई कार खरीदनी होगी महंगी, मोदी सरकार ला रही है नया नियम!

कीमत 48 फीसदी बढ़ी
सरकारी आंकड़ों के अनुसार प्याज के एशिया के सबसे बड़े थोक बाजार, महाराष्ट्र के लासलगांव में मंगलवार को प्याज की कीमत लगभग 48 फीसदी बढ़कर 13.30 रुपये प्रति किलोग्राम हो गई, जबकि पिछले महीने इसी दिन यह कीमत 9 रुपये प्रति किलोग्राम थी. राष्ट्रीय राजधानी में, खुदरा प्याज की कीमतें इसकी विभिन्न किस्मों के आधार पर 20 से 25 रुपये प्रति किलोग्राम चल रही हैं.
Loading...

उत्पादन वाले राज्यों में सूखा
महाराष्ट्र, कर्नाटक और आंध्र प्रदेश जैसे प्रमुख प्याज उगाने वाले राज्य इस साल सूखे की स्थिति का सामना कर रहे हैं. पहले अनुमान के अनुसार, जून में समाप्त होने वाले चालू 2018-19 फसल वर्ष में प्याज उत्पादन मामूली रूप में थोड़ा अधिक यानी दो करोड़ 36.2 लाख टन होने का अनुमान है, जबकि वर्ष 2017-18 में यह उत्पादन दो करोड़ 32.6 लाख टन का हुआ था.

ये भी पढ़ें: ATM के इस्तेमाल पर लगने वाले सभी चार्ज खत्म करने की तैयारी!

अनुमान संशोधित करेगी सरकार
सरकार से अनुमान है कि वह बाद में उत्पादन पर सूखे के प्रभाव का आंकलन करने के बाद अपने अनुमान को संशोधित करेगी. रबी फसल की कटाई, जो भारत के प्याज उत्पादन का 60 प्रतिशत है, का काम लगभग पूरा हो चुका है. भारत में प्याज के लिए तीन मौसम हैं - खरीफ (गर्मी), देर खरीफ और रबी (सर्दियों). वर्ष 2018-19 में भारत का ताजा और शीत भंडारित प्याज का निर्यात घटकर 49 करोड़ 67.6 लाख डॉलर रह गया, जबकि वर्ष 2016-17 में यह निर्यात 51 करोड़ 15.2 लाख डॉलर का हुआ था.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...