Home /News /business /

मोदी सरकार ने उठाया बड़ा कदम, अब आप भी पूरे लद्दाख में घूम सकेंगे बेरोकटोक

मोदी सरकार ने उठाया बड़ा कदम, अब आप भी पूरे लद्दाख में घूम सकेंगे बेरोकटोक

केंद्र सरकार के निर्देश के बाद लद्दाख प्रशासन ने यह बड़ा फैसला लिया. (फाइल फोटो)

केंद्र सरकार के निर्देश के बाद लद्दाख प्रशासन ने यह बड़ा फैसला लिया. (फाइल फोटो)

Inner Line Permit: अब लद्दाख (Ladakh) आने वाले सैलानियों (Tourists) को इनरलाइन परमिट की जरूरत नहीं पड़ेगी. इनरलाइन परमिट एक आधिकारिक यात्रा दस्तावेज (Official Travel Document) होता है. इसको संबंधित राज्य सरकार या केंद्रशासित प्रदेश जारी करती है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. पिछले दिनों केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख (Ladakh) ने इनरलाइन परमिट (Inner Line Permit) की व्यवस्था को हमेशा-हमेशा के लिए खत्म कर दिया. केंद्र सरकार के निर्देश के बाद लद्दाख प्रशासन ने यह बड़ा फैसला लिया. इस फैसले के बाद अब देश के दूसरे हिस्सों से आने वाले सैलानी (Tourists) भी लद्दाख में कहीं भी बेरोकटोक घुम-फिर सकेंगे. पहले भारतीय और स्थानीय लोगों को भी लद्दाख के दूसरे हिस्सों में जाने के लिए इनरलाइन परमिट लेना अनिवार्य था. अब यहां सैलानियों के आने के लिए किसी भी सरकारी दस्तावेज की जरूरत नहीं पड़ेगी. इनरलाइन परमिट एक आधिकारिक यात्रा दस्तावेज (Official Travel Document) होता है. इसको संबंधित राज्य सरकार या केंद्रशासित प्रदेश जारी करती है. इस तरह का परमिट भारतीय नागरिकों को भी देश के अंदर के किसी संरक्षित क्षेत्र में एक तय समय के लिए यात्रा की इजाजत देता है. परमिट के एवज में सैलानियों को कुछ शुल्क का भी भुगतान करना पड़ता है.

क्या होता है इनरलाइन परमिट व्यवस्था
बता दें कि इनरलाइन परमिट लद्दाख में यात्रा करने के लिए एक आधिकारिक यात्रा दस्तावेज है, जिसे पहले राज्य सरकार जारी करती थी, लेकिन केद्रशासित प्रदेश बनने के बाद इस व्यवस्था को अब बंद कर दिया गया है. सरकार की मानें तो लद्दाख में इस तरह का परमिट लेना कूटनीतिक दृष्टि से भी सही नहीं था. इसलिए केंद्र सरकार के निर्देश के बाद इस व्यवस्था को अब हमेशा-हमेशा के लिए खत्म कर दिया गया है.

Inner line permit, Innerline permit, Inner Line Permit ILP, LAC Ladakh, ladakh border, what is inner line permit, modi Government, लद्दाख, सैलानियों के बड़ी खबर, लद्दाख घूमने के लिए सुनहरा अवसर, इनर लाइन परमिट व्यवस्था खत्म, इनरलाइन परमिट, लद्दाख प्रशासन, मोदी सरकार, केंद्र सरकार, पर्यटन को मिलेगा ऐसे बढ़ावा, Modi government Scraps Inner line permit system in Ladakh for Tourists now you visiting freely throughout Protected Areas NODRSS

इनरलाइन परमिट लद्दाख में यात्रा करने के लिए एक आधिकारिक यात्रा दस्तावेज है

पहले आपको देना होता था इतना शुल्क
गौरतलब है कि लद्दाख में आने वाले पर्यटकों को पहले यहां की यात्रा के लिए विशेष इनरलाइन परमिट लेना होता था. साल 2017 में शुरू हुई इस व्यवस्था के तहत सैलानियों से 300 रुपये पर्यावरण शुल्क और 100 रुपये रेड क्रास फीस ली जाती थी. खासकर लद्दाख में अगर आप पैंगोंग, नुब्रा वैली, तुर्तुक और दाह जैसे एरिया में 2017 के बाद गए होंगे तो आपको 400 रुपये देने पड़ते थे, लेकिन नई व्यवस्था में अब इस शुल्क को माफ कर दिया गया है.

ये भी पढ़ें: Ration Card: अब राशन कार्ड नहीं होने पर भी मुफ्त में मिलेगा राशन, जानें आपके राज्‍य में लागू है ये सुविधा या नहीं

बौद्ध आबादी वाले लद्दाख को राज्य प्रशासन ने अलग संभाग का दर्जा दिया है. यहां लेह और करगिल दो जिले हैं तथा इसका मुख्यालय लेह है. लद्दाख अपनी विषम भौगौलिक परिस्थितियों के लिए जाना जाता है. बर्फीला रेगिस्तान कहलाने वाले लद्दाख में साल में लगभग 6 महीने आइसोलेशन में ही गुजरते हैं. यानी यहां आवाजाही लगभग नहीं के बराबर हो जाती है. हालांकि, खुले मौसम और बेहद खुशगवार वादियों-घाटियों की वजह से पर्यटन ही यहां की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है. यहां के लोगों के बारे में माना जाता है कि वे काफी ईमानदार और खुशमिजाज होते हैं. यही वजह है कि यहां आने वाले अधिकतर सैलानी होटलों की बजाए होम-स्टे को तरजीह देते हैं.

Tags: Laddakh, Modi government, Tourist Destinations, Tourist Places, Tourists

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर