22 कैरेट बताकर 18 कैरेट का Gold बेचना अब जूलर्स को पड़ेगा भारी, लागू हुआ ये नियम

22 कैरेट बताकर 18 कैरेट का Gold बेचना अब जूलर्स को पड़ेगा भारी, लागू हुआ ये नियम
नए उपभोक्ता कानून में हॉलमार्किंग नहीं करने पर होंगे सजा और जुर्माना के प्रावधान.

आपको अगर 22 कैरेट का सोना (Gold) बता कर 18 कैरेट का सोना बेचा जाता है तो जूलर्स (Jewellers) को जुर्माना और जेल भी हो सकता है. ग्राहकों के साथ हो रही ठगी को देखते हुए मोदी सरकार (Modi Government) ने गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए ही उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019 (Consumer Protection Act 2019) कानून लेकर आई है.

  • Share this:
नई दिल्ली. देश में नया उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019 (New Consumer Protection Act 2019) सोने के गहनों (Gold Jewellery) पर भी लागू होगा. इस नए कानून के लागू हो जाने के बाद अब अगर जूलर्स (Jewellers) ने आपके साथ धोखा किया तो सख्त कार्रवाई होगी. आपको अगर 22 कैरेट का सोना बताकर 18 कैरेट का सोना बेचा जाता है तो जूलर्स को जुर्माना और जेल भी हो सकता है. ग्राहकों के साथ हो रही ठगी को देखते हुए केंद्र सरकार ने गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए ही नए कानून लेकर आई है. सोने के आभूषणों और कलाकृतियों के लिए हॉलमार्क (Hallmarking) की व्यवस्था भी अब देश में 15 जनवरी 2021 से लागू हो जाएगी. नया उपभोक्ता कानून लागू हो जाने के बाद अब हॉलमार्किंग के नियम का पालन करना और सख्त हो जाएगा.

सोना खरीदने जाएं तो हॉलमार्क देखकर ही सोना खरीदें
बता दें कि बढ़ते कैरेट के साथ सोने के गहनों की गुणवत्ता और कीमत में अंतर आता है. यानी जितने  अधिक कैरेट का सोना होगा उतना ही महंगा होगा. ग्राहक सोना खरीदते समय उसकी क्वालिटी पर जरूर ध्यान देते हैं. केंद्रीय उपभोक्ता एवं खाद्य मामलों के मंत्री रामविलास पासवान के मुताबिक, 'ग्राहक जब भी सोना खरीदने जाएं तो हॉलमार्क देखकर ही सोना खरीदें. हॉलमार्क एक तरह की सरकारी गारंटी है और इसे देश की एकमात्र एजेंसी ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड यानी (BIS) तय करती है. हॉलमार्क देखकर खरीदने का यह फायदा है कि अगर आप निकट भविष्य में जब भी इसे बेचने जाएंगे तो आपको कम दाम नहीं मिलेंगे, बल्कि आपको सोने का खरा दाम मिलेगा. केंद्र सरकार की तरफ से 15 जसकतनवरी 2020 को इस संबंध में अधिसूचना जारी कर दी गई है, लेकिन एक साल बाद यानी 15 जनवरी 2021 से सोने के आभूषणों की हॉलमार्किंग अनिवार्य होगी.'

Gold Jewellery, Jewellers, Gold price, hallmark, New Consumer protection act 2019, Food, Modi government, notification, January, hallmark, mandatory, jewellery,Modi Government, Modi government Notified New Rules, tightens scrutiny, sellers, e-commerce platforms, new law of Online shopping in india, E-commerce, Amazon, E-retailers, Retail Price, Flipkart Online shopping, Consumer Protection Act 2019, What is Consumer Protection Act 2019, features of Consumer Protection Act, Ram Vilas Paswan, रामविलास पासवान, सोना, सोने की कीमत, खाना, उपभोक्ता, मोदी सरकार, नरेंद्र मोदी, नोटिफिकेशन, जनवरी, हॉलमार्क, अनिवार्य, ज्वैलरी, उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019, उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 1986, मोदी सरकार, ऑनलाइन शॉपिंग के लिए क्या हैं नए नियम, केंद्र सरकार, 27 जुलाई 2020, ई-कोमर्स कंपनियों के लिए नए निएम लागू, उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019, ई-कॉमर्स, ऑनलाइन शॉपिंग, पीएम मोदी, प्रधानमंत्री मोदी, पीएमओग्राहक सोना खरीदते समय उसकी क्वालिटी पर जरूर ध्यान देते हैं.
ग्राहक सोना खरीदते समय उसकी क्वालिटी पर जरूर ध्यान देते हैं.

सोना आभूषण बाजार में पारदर्शिता आएगी


इस फैसले को लागू करने के लिए केंद्र सरकार ने ज्वेलर्स को एक साल का समय दिया है, क्योंकि जूलर्स अपना पुराना स्टॉक एक साल में क्लीयर कर लें सकें. देश में हॉलमार्किंग केंद्रों की संख्या को भी बढ़ाया जा रहै है. एक अनुमान के मुताबिक इस समय देश में 900 के आस-पास हॉलमार्किंग केंद्र हैं, जिसे और बढ़ाया जा रहा है.

अगले साल 15 जनवरी से हॉलमार्क अनिवार्य होंगे
हॉलमार्क अनिवार्य किए जाने और नए कंज्यूमर प्रोटेक्शन एक्ट 2019 लागू हो जाने के बाद अब अगर कोई ज्वेलर्स नियमों का पालन नहीं करता है उस पर जुर्माना के साथ जेल का भी प्रावधान किया गया है. उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019 के मुताबिक अब ज्वेलर्स पर एक लाख रुपये का जुर्माना और एक साल की सजा हो सकती है. इसके साथ ही जुर्माने के तौर पर सोने की कीमत का पांच गुना तक चुकाने का प्रावधान भी किया गया है.

Gold Jewellery, Jewellers, Gold price, hallmark, New Consumer protection act 2019, Food, Modi government, notification, January, hallmark, mandatory, jewellery,Modi Government, Modi government Notified New Rules, tightens scrutiny, sellers, e-commerce platforms, new law of Online shopping in india, E-commerce, Amazon, E-retailers, Retail Price, Flipkart Online shopping, Consumer Protection Act 2019, What is Consumer Protection Act 2019, features of Consumer Protection Act, Ram Vilas Paswan, रामविलास पासवान, सोना, सोने की कीमत, खाना, उपभोक्ता, मोदी सरकार, नरेंद्र मोदी, नोटिफिकेशन, जनवरी, हॉलमार्क, अनिवार्य, ज्वैलरी, उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019, उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 1986, मोदी सरकार, ऑनलाइन शॉपिंग के लिए क्या हैं नए नियम, केंद्र सरकार, 27 जुलाई 2020, ई-कोमर्स कंपनियों के लिए नए निएम लागू, उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019, ई-कॉमर्स, ऑनलाइन शॉपिंग, पीएम मोदी, प्रधानमंत्री मोदी, पीएमओअब अगर कोई ज्वेलर्स नियमों का पालन नहीं करता है उस पर जुर्माना के साथ जेल का भी प्रावधान किया गया है.
अब अगर कोई ज्वेलर्स नियमों का पालन नहीं करता है उस पर जुर्माना के साथ जेल का भी प्रावधान किया गया है.


ग्राहकों को अब शुद्ध सोना मिलने की उम्मीद बढ़ गई है
बता दें कि ज्वेलरी में हॉलमार्किंग सोने की शुद्धता का प्रमाण है. हॉलमार्किंग से जूलरी में कितना सोना लगा है और दूसरे मेटल कितने हैं लगे हैं इसका पता चलता है. सोने की शुद्धता को प्रमाणित करने के लिए हॉलमार्क किया जाता है. प्रमाणित ज्वेलरी पर बीआईएस का चिन्ह होता है और यह प्रमाणित करता है कि ज्वेलरी भारतीय मानक ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड पर खतरा उतरता है. अगर सोने की ज्वेलरी पर हॉलमार्क है तो इसका मतलब है कि उसकी शुद्ध प्रमाणित है. असली हॉलमार्क पर भारतीय मानक ब्यूरो का तिकोना निशान होता है. उस पर हॉलमार्किंग सेंटर के लोगो के साथ सोने की शुद्धता भी लिखी होती है. उसी में ज्वेलरी निर्माण का साल और उत्पादक का भी लोगो होता है.

ये भी पढ़ें: 27 जुलाई से बदल जाएगा देश में सामान बेचने-खरीदने का तरीका, जानें नए नियम के बारे में

अगर गोल्ड ज्वेलरी की शुद्धता को लेकर संदेह होता है तो किसी भी हॉलमार्किंग सेंटर जाकर इसकी जांच करवाई जा सकती है. देशभर में करीब 900 हॉलमार्किंग सेंटर हैं. इनकी लिस्ट आप bis.org.in पर देख सकते हैं. नए नि‍यमों के तहत अब सोने की ज्वेलरी की हॉलमार्किंग होना अनि‍वार्य होगा. इसके लि‍ए ज्‍वेलर्स को लाइसेंस लेना होगा. केंद्र सरकार 14 कैरट, 16 कैरट, 18 कैरट, 20 कैरट और 22 कैरेट की ज्वेलरी की हॉलमार्किंग अनिवार्य कर दी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading