पेट्रोल पंप पर कम तेल देना पड़ेगा भारी! ग्राहक की शिकायत पर रद्द होगा लाइसेंस, पहली बार मिलें नए अधिकार

पेट्रोल पंप पर कम तेल देना पड़ेगा भारी! ग्राहक की शिकायत पर रद्द होगा लाइसेंस, पहली बार मिलें नए अधिकार
नए उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019 के तहत पेट्रोल पंप संचालक उपभोक्ता को ठग नहीं सकते.

देश में रोज पेट्रोल पंपों पर मशीनों में चिप लगाकर पेट्रोल (Petrol) और डीजल (Diesel) की घटतौली के मामले को देखते हुए मोदी सरकार (Modi Government) ने सख्त कदम उठाए हैं. बीते 20 जुलाई को नया उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019 (Consumer Protection Act 2019) लागू हो जाने के बाद पेट्रोल पंप संचालकों पर नकेल कसना शुरू हो जाएगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. देश के पेट्रोल पंपों (Petrol Pumps) पर अब चिप लगाकर तेल चोरी (Oil Theft) करना संचालकों पर भारी पड़ने वाला है. देश में रोज पेट्रोल पंपों पर मशीनों में चिप लगाकर पेट्रोल (Petrol) और डीजल (Diesel) की घटतौली के मामले को देखते हुए मोदी सरकार (Modi Government) ने सख्त कदम उठाए हैं. बीते 20 जुलाई को नया उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019 (Consumer Protection Act 2019) लागू हो जाने के बाद पेट्रोल पंप संचालकों पर नकेल कसना शुरू हो जाएगा. बता दें कि पेट्रोल-डीजल को लेकर उपभोक्ताओं को हर रोज कई तरह की समस्याओं से दो-चार होना पड़ता है. ग्राहक कम पेट्रोल और डीजल की शिकायतों को लेकर परेशान रहते हैं, लेकिन अब नए उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019 के तहत पेट्रोल पंप संचालक उपभोक्ता को ठग नहीं सकते. अब पेट्रोल पंप पर पेट्रोल या डीजल मानक के अनुसार मिलेंगे. अगर ग्राहक शिकायत करते हैं तो पेट्रोल पंप पर जुर्माना के साथ उसका लाइसेंस भी रद्द हो सकता है.

अब पेट्रोल पंप पर पेट्रोल या डीजल मानक के अनुसार मिलेंगे
देश में तेल के चोरी का खेल छोटे शहरों से लेकर बड़े शहरों और गांवों तक फैला है. पेट्रोल पंप संचालक कई तरह से उपभोक्ताओं को चूना लगाते हैं. आम आदमी की गाढ़ी कमाई को पेट्रोल पंप के मालिक कई तरह से चूसते हैं. आम आदमी अक्सर पेट्रोल-डीजल लीटर से नहीं बल्कि रुपये से भरवाते हैं. फिक्स रुपये जैसे 100 रुपये, 500 रुपये या 2000 हजार का तेल देने के लिए कहते हैं. ग्राहक को पता नहीं होता है कि इस फिक्स रुपये पर बोलने पर पहले से ही पेट्रोल पंप संचालकों के द्वारा चीप लगाकर लीटर घटा दिया जाता है. इससे ग्राहक ठगे जाते हैं.

petrol pump, oil theft, Remote device, dispenser machine, oil theft racket, Illegal Petrol Pump, IOCL petrol pump, Adulteration of solvent in Petrol, Adulteration Petrol Diesel in country, Illegal Petrol Pump In country, Adulteration Oil In country, solvent in Petrol And Diesel In delhi-ncr, ongc, Business news,new Consumer Protection act 2019, Consumer Affairs ministry, ram vilas paswan,Consumer Protection Act 2019, What is Consumer Protection Act 2019, features of Consumer Protection Act, What is Consumer features of Consumer Protection Act, What is Consumer, online business in india, dangerous malware, card details, tech News, tech, tech Latest News, tech Headlines, shopping on Amazon, deal of the day on amazon, Deal of the Day, amazon sale offers in lowest price, Amazon Sale Offer, modi government, Ministry of Cnsumer Affairs, Food & Public Distribution, Modi Government,Consumer Protection Act 2019 will replace the old Consumer Protection Act 1986, The Consumer Protection Bill, Indian Parliament, ram vilas paswan, ramvilas paswan, पेट्रोल पंप कालाबाजारी, देश में पेट्रोल में मिलावट, दिल्ली-एनसीआर में डीजल में मिलावट, देश में मिलावटी तेल, देश में मिलावट का धंधा, देश में अवैध पेट्रोल पंप, देश में पेट्रोल में साल्‍वेंट, आइओसीएल, मोदी सरकार, उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019, उपभोक्ता को मिला नया अधिकार, रामविलास पासवान, खाद्य एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय, उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019, उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 1986, मोदी सरकार, ऑनलाइन शॉपिंग के लिए क्या हैं नए नियम, केंद्र सरकार, 27 जुलाई 2020, ई-कोमर्स कंपनियों के लिए नए निएम लागू, उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019,नए उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम कानून 2019 के मुताबिक अब मिलावटी या नकली उत्पादों के विनिर्माण या बिक्री के लिए सख्त कड़े नियम तय किए गए हैं.
नए उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम कानून 2019 के मुताबिक अब मिलावटी या नकली उत्पादों के विनिर्माण या बिक्री के लिए सख्त कड़े नियम तय किए गए हैं.

रद्द हो जाएगा पेट्रोलपंप का लाइसेंस!


नए उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम कानून 2019 के मुताबिक अब मिलावटी या नकली उत्पादों के विनिर्माण या बिक्री के लिए सख्त कड़े नियम तय किए गए हैं. अब अगर ग्राहक कम तेल मिलने की शिकायत करते हैं तो उपभोक्ता कानून में किसी सक्षम न्यायालय द्वारा दंड का प्रावधान किया गया है. पहली बार न्यायालय में दोषसिद्ध होने पर पेट्रोल पंप मालिक का लाइसेंस दो साल तक की अवधि के लिए निलंबित किया जा सकता है. अगर दूसरी या उसके बाद भी पेट्रोल पंप मालिक के खिलाफ शिकायत आता है तो स्थाई तौर पर लाइसेंस रद्द किया जा सकता है.

कुलमिलाकर आए दिन पेट्रोल पंप पर एसडीएम, माप-तौल विभाग और पूर्ति विभाग का छापा मारा जाता है, लेकिन पेट्रोल पंप की मिलीभगत से कोई ठोस कार्रवाई नहीं हो पाती है, लेकिन अब नए कंज्यूमर प्रोटेक्शन एक्ट आने के बाद ग्राहकों को कई तरह के अधिकार मिले हैं.

ये भी पढ़ें: बड़ी खबर: Online Shopping करने वालों के लिए खुशखबरी, देश में 27 जुलाई से लागू होंगे ये नए नियम 

Consumer Protection Act-2019 की कुछ और महत्वपूर्ण विशेषताएं
>> पीआईएल या जनहित याचिका अब कंज्यूमर फोरम में फाइल की जा सकेगी. पहले के कानून में ऐसा नहीं था.
>> नए कानून में ऑनलाइन और टेलीशॉपिग कंपनियों को पहली बार शामिल किया गया है.
>> खाने-पीने की चीजों में मिलावट तो कंपनियों पर जुर्माना और जेल का प्रावधान.
>> कंज्यूमर मीडिएशन सेल का गठन. दोनों पक्ष आपसी सहमति से मीडिएशन सेल जा सकेंगे.
>> कंज्यूमर फोरम में एक करोड़ रुपये तक के केस
>> स्टेट कंज्यूमर डिस्प्यूट रिड्रेसल कमीशन में एक करोड़ से दस करोड़ रुपये
>> नेशनल कंज्यूमर डिस्प्यूट रिड्रेसल कमीशन में दस करोड़ रुपये से ऊपर केसों की सुनवाई.
>> कैरी बैग के पैसे वसूलना कानूनन गलत.
>> सिनेमा हॉल में खाने-पीने की वस्तुओं पर ज्यादा पैसे लेने वालों की अगर मिलती है शिकायत तो होगी कार्रवाई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading