3 लाख कंपनियों की जांच करेगी मोदी सरकार, जानें क्या है मामला?

मिनिस्ट्री ऑफ कॉरपोरेट अफेयर्स सरकार की तरफ से तय रेड फ्लैग इंडिकेटर्स के आधार पर 3 लाख कंपनियों की जांच करेगी.

News18Hindi
Updated: June 25, 2019, 7:33 PM IST
3 लाख कंपनियों की जांच करेगी मोदी सरकार, जानें क्या है मामला?
3 लाख कंपनियों की जांच करेगी मोदी सरकार, जानें क्या है मामला?
News18Hindi
Updated: June 25, 2019, 7:33 PM IST
सरकार फर्जी कंपनियों पर नकेल कसने की तैयारी में है. मुमकिन है कि मिनिस्ट्री ऑफ कॉरपोरेट अफेयर्स (MCA) जल्द ही जांच शुरू करेगा. इस दायरे में करीब 3 लाख से ज्यादा कंपनियां शामिल हैं. CNBC-TV18 के मुताबिक, एक अधिकारी ने बताया कि MCA सरकार की तरफ से तय रेड फ्लैग इंडिकेटर्स के आधार पर 3 लाख कंपनियों की जांच करेगी. जो कंपनियां अभी जांच के दायरे में हैं उनकी पहचान अनिवार्य KYC के आधार पर हुई है. जिन कंपनियों ने अनिवार्य KYC की शर्त पूरी नहीं की है उन पर सरकार की नजर है.

फर्जी कंपनियों का पता लगाने के लिए KYC अनिवार्य
मिनिस्ट्री ऑफ कॉरपोरेट अफेयर्स ने अनिवार्य KYC लागू किया है ताकि फर्जी कंपनियों का पता लगाया जा सके. नाम जाहिर न करने की शर्त पर अधिकारी ने बताया कि 11.35 लाख कंपनियों में से 7 लाख कंपनियों ने अभी अनिवार्य KYC की शर्तों को पूरा किया है. उम्मीद है कि अगले एक महीने में और 1.5 लाख कंपनियां अनिवार्य KYC की शर्त पूरा कर देंगी. जो कंपनियां ये शर्त पूरा नहीं करेगी उन्हें सरकार ACTIVE नॉन कंप्लाएंट कैटेगरी में डाल सकती है. अधिकारी ने बताया कि सरकार की मंशा फर्जी कंपनियों को सिस्टम से अलग करना है.



MCA ने पहली बार यह प्रस्ताव 25 अप्रैल 2019 को रखा था. ACTIVE फॉर्म भरने की कंपनियों की डेडलाइन पहले 25 अप्रैल थी लेकिन सरकार ने इसे बढ़ाकर 15 जून 2019 कर दिया था.

ये भी पढ़ें: 

किसानों के लिए राहत की खबर! यहां शुरू हुई मानसून की बारिश
जुलाई से सस्ता हो सकता है खाना पकाना और कार चलाना!

आम बजट 2019 की सही और सटीक खबरों के लिए न्यूज18 हिंदी पर आएं. वीडियो और खबरों  के लिए यहां क्लिक करें
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...