नौकरी करने वालों के लिए बड़ी खबर! जल्द बढ़ जाएगा आपका PF, जानें क्या है सरकार का प्लान

जल्द बढ़ने वाला है आपका PF

जल्द बढ़ने वाला है आपका PF

केंद्र सरकार जल्द ही नया लेबर कोड (New labour code) लागू करने जा रही है. नए लेबर कोड के लागू होने के बाद कर्मचारियों की इन हैंड सैलरी कम हो जाएगी और पीएफ बढ़ जाएगा.

  • Share this:

नई दिल्ली: नौकरीपेशा लोगों के लिए बड़ी खबर है. अगर आप भी नौकरी करते हैं तो जान लें कि जल्द ही आपके पीएफ में इजाफा होना वाला है यानी अभी आपका जितना प्रोविडेंट फंड कटता है अब उससे ज्यादा कटेगा. केंद्र सरकार जल्द ही नया लेबर कोड (New labour code) लागू करने जा रही है. नए लेबर कोड के लागू होने के बाद कर्मचारियों की इन हैंड सैलरी कम हो जाएगी और पीएफ बढ़ जाएगा. पहले इस कोड को 1 अप्रैल 2021 से लागू किया जाना था, लेकिन किन्ही कारणों की वजह से इसको टाल दिया गया था. फिलहाल सरकार इसको आने वाले 2 या 3 महीने में लागू कर सकती है.

आपको बता दें नए लेबर कोड में कर्मचारियों की टेक होम सैलरी में कटौती हो जाएगी और PF कंट्रीब्यूशन बढ़ जाएगा. इसमें ग्रेच्युटी (gratuity) बढ़ने की संभावना है. मनी कंट्रोल की खबर के मुताबिक, एक बार वेज कोड के लागू होने के बाद, कर्माचारियों की बेसिक पे और प्रोविडेंट फंड के कैलकुलेट करने के तरीकों में बड़े बदलाव होंगे.

यह भी पढ़ें: 7th Pay Commission: केंद्रीय कर्मचारियों के DA को लेकर बड़ी खबर! इस दिन मिलेगी बढ़ी हुई सैलरी

कौन से 4 लेबर कोड होंगे लागू
सरकार जिन 4 लेबर कोड क लागू करने पर विचार कर रही है, इनमें इंडस्ट्रियल रिलेशंस कोड, कोड ऑन ऑक्‍यूपेशनल सेफ्टी, हेल्‍थ एंड वर्किंग कंडीशंस कोड (OSH) और सोशल सिक्‍योरिटी कोड ऑन वेजेज शामिल है.

जानिए क्या है न्यू वेज कोड

आपको बता दें वेज कोड एक्ट (Wage Code Act), 2019 के मुताबिक अब किसी भी कंपनी में कर्मचारी की बेसिक सैलरी कंपनी की लागत (Cost To Company-CTC) के 50 फीसदी से कम नहीं हो सकती है. नया कोड लागू हो जाने के बाद आपके सीटीसी का 50 फीसदी बेसिक सैलरी के रूप में मिलेगा. अगर ऐसा होता है तो भविष्य निधि (Provident Fund) और ग्रैच्युटी (Gratuity) में आपका योगदान बढ़ जाएगा.



इसके अलावा न्यू वेज कोड लागू होने पर बोनस (bonuses), पेशन (pension), वाहन भत्ता (conveyance allowance), मकान का किराया भत्ता (House Rent Allowance), आवास लाभ (housing benefits), ओवरटाइम (overtime) आदि बाहर हो जाएंगे.

यह भी पढ़ें: Bank Privatisation को लेकर आई बड़ी खबर, सेंट्रल बैंक और IOB के अलावा बैंक ऑफ इंडिया भी होगा प्राइवेट!

सैलरी में सिर्फ 3 घटक होगें शामिल

नए कोड में आपकी सैलरी में सिर्फ 3 घटक शामिल किए जाएंगे. इसमें पहला है बेसिक पे दूसरा डीए होगा और तीसरा retention payment कॉम्पोनेंन्ट होगा. बता दें बेसिक सैलरी को छोड़कर CTC में शामिल किए कुछ अन्य घटक 50 फीसदी से अधिक न हों और अन्य आधे में बेसिक सैलरी होनी चाहिए.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज