रिपोर्ट का दावा! मोदी ने जीता चुनाव तो इंडिया में आएगी रुपये की बाढ़, ये होगी वजह

अगर 2019 के आम चुनाव में एनडीए की सरकार बनती है तो सेंसेक्स नए उच्चतम स्तर 47000 को छू सकता है. ऐसे में घरेलू निवेशकों के पास मोटी कमाई का बड़ा मौका रहेगा.

News18Hindi
Updated: November 23, 2018, 7:53 PM IST
रिपोर्ट का दावा! मोदी ने जीता चुनाव तो इंडिया में आएगी रुपये की बाढ़, ये होगी वजह
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: November 23, 2018, 7:53 PM IST
शेयर बाजार में अगले साल जोरदार तेजी देखने को मिल सकती है. अगर 2019 के आम चुनाव में एनडीए की सरकार बनती है तो सेंसेक्स नए उच्चतम स्तर 47000 को छू सकता है. वहीं, एनएसई का बेंचमार्क इंडेक्स निफ्टी 14000 के स्तर पर पहुंच जाएगा. ऐसे में आम निवेशकों को भी पैसा कमाने का बड़ा मौका मिलेगा. ये सारी बातें कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग की एक रिपोर्ट में कही गई है.

आम चुनाव में NDA की जीत से क्या होगा-रिपोर्ट में कहा गया है कि 2019 के आम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (BJP) सत्ता में दोबारा आएगी, लेकिन पिछले लोकसभा चुनाव के मुकाबले उसकी सीटें कम होंगी. हालांकि, बाजार को यह मंजूर है और शेयर बाजार निश्चित तौर पर इन नतीजों का स्वागत करेगा. साल 2019 के अंत तक सेंसेक्स 45000 के स्तर को छू सकता है. वहीं, निफ्टी भी 14000 के स्तर को पार कर सकता है.

कैसे बरसेगा पैसा- एक्सपर्ट्स बताते हैं कि भारत के शेयर बाजार में दुनियाभर के निवेशकों के साथ-साथ भारतीय निवेशकों का भी पैसा लगता है. इसके अलावा म्युचूअल फंड, इंश्योरेंस कंपनियां, ईपीएफओ भी शेयर बाजार में पैसा लगाता है. ऐसे में अगरे शेयर बाजार में तेजी आती है तो इन जगह लेगे पैसे पर बड़ा मुनाफा मिलेगा.

ये भी पढ़ें-बदल गए PAN कार्ड के ये तीन नियम, नहीं जानने पर फंस सकते हैं आप!

अगर नहीं बनी सरकार तो क्या होगा-अगर NDA को हार सामना करना पड़ता है तो बाजार अस्थिर हो जाएगा और सेंसेक्स 30000 के नीचे जा सकता है. वहीं, चुनाव के तुरन्त बाद निफ्टी भी 9000 के आसपास तक फिसल सकता है.

ये भी पढ़ें-आपके पास हैं 7 दिन, डॉक्यूमेंट्स जमा करें वरना नहीं मिलेगी पेंशन

इन संकेतों पर हैं बाजार की नज़र-एक्सपर्ट्स का कहना है कि भारतीय बाजार पूरी तरह से वैश्विक और घरेलू संकेतों पर कारोबार करते हैं. अब दलाल स्ट्रीट की नजरें सबसे बड़े ट्रिगर पर है. कुछ राज्यों में विधानसभा चुनाव चल रहे हैं. वहीं, अगले साल देश के लोकसभा चुनाव होने हैं. कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग की रिपोर्ट के मुताबिक, घरेलू शेयर बाजार के लिए इससे बड़ा ट्रिगर फिलहाल कोई नहीं है. राज्यों के चुनाव नतीजों से आगे का नजरिया तय होगा. लेकिन, बाजार की निगाहें आम चुनाव पर हैं. हालांकि, यह बहुत जल्दबाजी है लेकिन, ओपनियन पोल के मुताबिक, NDA दोबारा सत्ता में आ सकती है.ये भी पढ़ें-CNG पंप के मालिक बनने का मौका! जल्द जारी होंगे 10,000 नए लाइसेंस

ऐसा क्यों होगा- रिपोर्ट में कहा गया है कि पीएम मोदी की सत्ता में वापसी का असर आर्थिक विकास और बाजारों पर भी दिखेगा. अनुमान लगाया जा रहा है कि पीएम मोदी का दोबारा प्रधानमंत्री बनना बाजार के लिए भी सकारात्मक होगा. पिछले कई महीनों में कई विशेषज्ञों और शोध एजेंसियों ने ऐसी ही भविष्यवाणी की है. अगर 2019 के नतीजे विपरित रहते हैं तो इसका असर भी विपरित ही होगा.

ये भी पढ़ें-देश के दूसरे सबसे बड़े सरकारी बैंक ने अब ATM को लेकर किया ये बड़ा ऐलान!

पैसा बनाने का मौका-घरेलू ब्रोकरेज फर्म के मुताबिक, आगे की स्थितियों को देखते हुए अपने पोर्टफोलियो में आईटी और हेल्थकेयर, ऑटोमोटिव, कैपिटल गुड्स औ फाइनेंशियल सर्विसेज को शामिल करने की सलाह है. वित्तीय बाजारों में हालिया उथल-पुथल को देखते हुए, निराशावादी होना आसान है. भारत के लिए मैक्रो दृष्टिकोण निश्चित रूप से छह महीने पहले की तुलना में कुछ हद तक खराब हो गया है. लेकिन, आउटलुक मजबूत बना हुआ है और हमें आशावादी रहने की वजह देता है.
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

जिम्मेदारी दिखाएं क्योंकि
आपका एक वोट बदलाव ला सकता है

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

डिस्क्लेमरः

HDFC की ओर से जनहित में जारी HDFC लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (पूर्व में HDFC स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI R­­­­eg. No. 101. कंपनी के नाम/दस्तावेज/लोगो में 'HDFC' नाम हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HDFC Ltd) को दर्शाता है और HDFC लाइफ द्वारा HDFC लिमिटेड के साथ एक समझौते के तहत उपयोग किया जाता है.
ARN EU/04/19/13626

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार