3.7 करोड़ जनधन खातों में जमा रकम की चल रही जांच, जानिए पूरा मामला

बड़े पैमाने पर जनधन खातों में जमा रकम पर सरकार की नजर है. नोटबंदी के बाद जन धन खाते में जमा 60 फीसदी रकम सरकारी जांच के दायरे में है. 3.7 करोड़ जनधन खातों में जमा रकम की जांच चल रही है.

News18Hindi
Updated: September 5, 2018, 4:52 PM IST
3.7 करोड़ जनधन खातों में जमा रकम की चल रही जांच, जानिए पूरा मामला
बड़े पैमाने पर जनधन खातों में जमा रकम पर सरकार की नजर है. नोटबंदी के बाद जन धन खाते में जमा 60 फीसदी रकम सरकारी जांच के दायरे में है. 3.7 करोड़ जनधन खातों में जमा रकम की जांच चल रही है.
News18Hindi
Updated: September 5, 2018, 4:52 PM IST
बड़े पैमाने पर जनधन खातों में जमा रकम पर सरकार की नजर है. नोटबंदी के बाद जन धन खाते में जमा 60 फीसदी रकम सरकारी जांच के दायरे में है. 3.7 करोड़ जनधन खातों में जमा रकम की जांच  चल रही है. सीबीटीडी को बैंकों के 187 शाखाओं से गड़बड़ी की जानकारी मिली है. हालांकि, अभी सभी जमा राशि को गलत नहीं कहा जा सकता. जमा राशि और जमाकर्ता के प्रोफाइल को मिलाने का काम जारी है. जमाकर्ता के जवाब और सबूतों के आधार पर इसकी जांच की जाएगी. कोर्ट में सबूत मंजूर होने पर धन को गैरकानूनी माना जाएगा.

आपको बता दें कि 20 दिसंबर 2017 तक 49.50 लाख बैंक अकाउंट बंद कर दिए गए हैं. इनमें से करीब 50 फीसदी खाते उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, गुजरात, तमिलनाडु और राजस्थान के थे. आपको बता दें कि फिलहाल देश भर में करीब 31 करोड़ जनधन खाते हैं, जिनमें से 24.64 करोड़ खाते ही ऑपरेशनल हैं.

जन धन योजना के तहत फाइनेंशियल इंक्लूजन को बढ़ावा दिया जा रहा है और इसके तहत घर-घर में बैंक अकाउंट खोले गए थे.सरकार इन खातों का इस्तेमाल डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के तौर पर करती है और खाताधारकों को एक्सिडेंट और लाइफ इंश्योरेंस देती है.

जनधन अकाउंट पर 1 लाख रुपये का एक्सिडेंट कवर, 30,000 रुपये का लाइफ इंश्योरेंस भी मिलता है. इस खाते में मिनिमम बैलेंस रखने की जरूरत नहीं है और हर महीने 5000 रुपये के ओवर ड्राफ्ट की भी सुविधा दी गई है. इसके साथ इंश्योरेंस, पेंशन प्रोडक्ट की सुविधा मिल रही है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर