ग्रेच्युटी पर टैक्स छूट 20 लाख करेगी सरकार, प्राइवेट सेक्टर के कर्मचारियों को मिलेगी राहत

ग्रेच्युटी की रकम किसी कर्मचारी के रिटायरमेंट के बाद उसके नियोक्ता की तरफ से दी जाती है. इसके अलावा, कंपनियां 5 साल या उससे अधिक समय तक नौकरी करने पर भी एंप्लॉयीज को यह लाभ देती हैं.

ग्रेच्युटी की रकम किसी कर्मचारी के रिटायरमेंट के बाद उसके नियोक्ता की तरफ से दी जाती है. इसके अलावा, कंपनियां 5 साल या उससे अधिक समय तक नौकरी करने पर भी एंप्लॉयीज को यह लाभ देती हैं.

  • Share this:
    संसद के मॉनसून सत्र में कई अहम बिल पास कराना सरकार के एजेंडे है. इनमें से एक ग्रेच्युटी अमेंडमेंट बिल भी है. इसके तहत सरकार ग्रेच्युटी पर टैक्स छूट को दोगुना कर सकती है. प्राइवेट सेक्टर में काम करने वाले कर्मचारियों को अब तक 10 लाख रुपये से अधिक राशि की ग्रेच्युटी पर टैक्स लगता रहा है, लेकिन अब छूट की सीमा को 20 लाख रुपये तक करने की तैयारी है. लेबर मिनिस्टर बंडारू दत्तात्रेय ने पिछले दिनों कहा था, ‘यह हमारे एजेंडे में है. यह अमेंडमेंट बिल मॉनसून सत्र में आ सकता है. यह बिल जल्द ही मंजूरी के लिए कैबिनेट के पास जाएगा.’ हालांकि, ड्राफ्ट बिल को अभी बारीकी से देखा जाना और कैबिनेट की मंजूरी मिलना बाकी है.

    प्राइवेट कंपनियों के एंप्लॉयीज को अभी देना पड़ता है टैक्स
    ग्रेच्युटी की रकम किसी कर्मचारी के रिटायरमेंट के बाद उसके नियोक्ता की तरफ से दी जाती है. इसके अलावा, कंपनियां 5 साल या उससे अधिक समय तक नौकरी करने पर भी एंप्लॉयीज को यह लाभ देती हैं. मौजूदा पेमेंट ऑफ ग्रेच्युटी एक्ट 1972 के तहत सरकारी कर्मचारियों को मिलने वाली ग्रेच्युटी की राशि पर टैक्स में छूट मिलती है. यानी सरकारी कर्मचारियों को ग्रेच्युटी पर कोई टैक्स नहीं देना होता है. दूसरी तरफ, गैर-सरकारी कर्मचारियों को रिटायरमेंट पर मिलने वाली ग्रेच्युटी की 10 लाख रुपये तक की राशि पर कोई टैक्स नहीं लगता है, लेकिन इसके बाद टैक्स चुकाना होता है.

    किन पर लागू होता है ग्रेच्युटी एक्ट
    दस या उससे अधिक कर्मचारियों की संख्या वाले संस्थानों पर ग्रेच्युटी एक्ट लागू होता है. इस एक्ट के तहत अगर कोई संस्थान इस एक्ट के दायरे में एक बार आ जाता है तो एंप्लॉयीज की संख्या 10 से कम होने पर भी उस पर यह नियम लागू रहता है. अगर कोई संस्थान इसके अंतर्गत नहीं है तो वह अपने एंप्लॉयीज को एक्सग्रेशिया पेमेंट कर सकता है.

     

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.