लंबी अवधि के लिए सही म्युचूअल फंड्स चुनने के ये हैं बेस्ट तरीके, इन बातों का रखें ख्याल

लंबी अवधि के लिए सही म्युचूअल फंड्स चुनने के ये हैं बेस्ट तरीके, इन बातों का रखें ख्याल
लंबी अवधि के लिए सही म्युचूअल फंड्स चुनने के ये हैं बेस्ट तरीके, हमेशा इन बातों का रखें ख्याल

लंबी अवधि के लिए सही म्युचूअल फंड्स चुनने के ये हैं बेस्ट तरीके, हमेशा इन बातों का रखें ख्याल

  • Share this:
निवेश करने के लिए लोगों के पास तमाम विकल्प होते हैं, लेकिन सबसे सही विकल्प वही होता है, जहां जोखिम कम और रिटर्न अधिक होता है. इसी तरह का एक विकल्प म्युचूअल फंड है. शेयर बाजार में निवेश के मुकाबले म्‍युचूअल फंड एक कम जोखिम वाला और अच्छे रिटर्न देने वाला है.अब सवाल उठता है कि आम आदमी कैसे सही म्युचूअल फंड्स का चुनाव करें और निवेश करते वक्त कौन सी बातों का ध्यान रखें. इसीलिए एक्सपर्ट्स से पूछकर हम इन सभी सवालों के जवाब आपके पास लाए हैं।

इक्विटी निवेश लंबी अवधि के लिए है, अगर पिछले 20 साल के बेस्ट म्युचूअल फंड्स के रिटर्न पर नजर डालें तो इनमें एचडीएफसी टैक्ससेवर ने सबसे अच्छा प्रदर्शन करते हुए 28.77% का वार्षिक रिटर्न दिया है. जबकि सबसे खराब प्रदर्शन करने वाला एलआईसी एमएफ इक्विटी ने सिर्फ 8.2 9% ही रिटर्न दिया।

घरेलू बाजार पर एक्सपर्ट की राय



लार्जकैप म्युचूअल फंड में निवेश करने का सही समय है, क्योंकि इकोनॉमी में अच्छी ग्रोथ की संभावना है. डीएसपी ब्लैक रॉक के प्रेसिडेंट एस नागनाथ कहते हैं कि आने वाले दिनों में घरेलू स्तर पर कोई रिस्क दिखाई नहीं देता. एस नागनाथ के मुताबिक, इकोनॉमिक ग्रोथ और बढ़ेगी। अंतरराष्ट्रीय कारणों से बाजार में करेक्शन संभव और बाजार में ये गिरावट अस्थायी हो सकती है। दअरसल घरेलू स्तर पर कोई जोखिम नजर नहीं आ रहा है और घरेलू बाजारों में 15 फीसदी तक ग्रोथ की उम्मीद है. एस नागनाथ ने कहा कि लार्ज कैप में निवेश ज्यादा आकर्षक हो सकता है, ऐसे में निवेश के लिए लार्ज कैप पर ज्यादा फोकस करें। लंबी अवधि के लिए लार्जकैप फंड से अच्छे रिटर्न की उम्मीद की जा सकती है.
क्या होता है इक्विटी म्युचूअल फंड

इक्विटी म्युचूअल फंड हजारों लोगों का पैसा जमाकर बनता है. हजारों निवेशकों से जमा पैसा इक्विटी शेयरों में निवेश होता है. हजारों लोग फंड मैनेजर के जरिए शेयर बाजार में निवेश करते हैं. हर फंड मैनेजर के पास मार्केट एक्सपर्ट्स की टीम होती है और एक्सपर्ट तय करते हैं कि कब और कहां निवेश किया जाए. इक्विटी फंड की किसी भी स्कीम में कई शेयर शामिल होते हैं.

सही म्युचूअल फंड्स चुनने के ये हैं बेस्ट ऑप्शंस

1.लॉन्ग टर्म परफॉर्मेंस

जानकारों का कहना है कि आप सेब और संतरे की तुलना नहीं कर सकते, भले ही दोनों फल हैं. ठीक इसी प्रकार दो म्‍युचूअल फंड की तुलना करना आसान नहीं होता. आप इक्विटी फंड की तुलना डेट फंड से या इनकम फंड की ग्रोथ फंड से नहीं कर सकते. लिहाजा किसी भी म्‍युचूअल फंड की तुलना करने से पहले उनके प्रारूप को ध्‍यान से देख लें. समान प्रारूप वाले फंड की ही तुलना की जा सकती है. अलग-अलग कंपनियों के समान प्रारूप के म्‍युचूअल फंड की तुलना करते वक्‍त बाजार में उनकी परफॉर्मेंस देखें. जो बाजार में अच्‍छा चल रहा हो, उसी को चुने. लेकिन हां यहां भी आंख मूंद कर फैसला न करें. इसके रिस्‍क फैक्‍टर को ध्‍यान से पढ़ें.

2.अच्छे रिसर्च वाले फंड हाउस को ही चुनें
आपको हमेशा अच्छे रिसर्च वाले फंड हाउस को प्राथमिकता देनी चाहिए,  रिलायंस, एचडीएफसी या आईसीआईसीआई जैसे जमे-जमाए फंड हाउसों के रिसर्च की योग्यता का पता लगाना आसान है, लेकिन किसी नए फंड हाउस की इस योग्यता का पता कैसे लगाया जाए. ऐसे मामलों में फंड हाउस के प्रमोटर या ग्रुप पर फोकस करना चाहिए.

3.इन्‍वेस्टमेंट स्ट्रैटेजी पर रखें ध्यान

फंड हाउस के पास अलग-अलग मार्केट साइकिल की बेस्ट स्ट्रैटेजी होती है. निवेशकों को इस पर भी ध्यान देना चाहिए, क्योंकि बाजार में गिरावट पर आने पर कौन से शेयरों में अच्छा रिटर्न मिलेगा. यह फंड मैनेजर्स को बखूबी मालूम होता है. एक्सपर्ट्स बताते हैं कि रिलायंस म्युचूअल फंड एग्रेसिव इन्‍वेस्टमेंट स्टाइल पर चलता है, वहीं एचडीएफसी और आईसीआईसीआई काउंटर साइक्लिकल स्टाइल को फॉलो करते हैं. किसी इन्‍वेस्टमेंट स्ट्रैटेजी के टिकाऊ होने के लिए फंड मैनेजर का लंबे समय तक बने रहना भी जरूरी है.

4.फंड मैनेजर का इन्‍वेस्टमेंट

उन स्कीम्स में निवेश करना अच्छा होता है, जिसमें फंड मैनेजर ने खुद भी निवेश किया हो. एक्सपर्ट्स बताते हैं कि फंड मैनेजर अगर अपने फंड्स में निवेश करते हैं तो उसके प्रदर्शन पर उनका भी बहुत कुछ दांव पर लगा होता है. हालांकि, यह रूल तभी काम करता है, जब फंड मैनेजर ने अपनी इच्छा से यह काम किया हो। फंड मैनेजर पर इसे थोपा नहीं जाना चाहिए. कोटक म्युचूअल फंड में हाल में फंड मैनेजर के लिए अपने फंड्स में निवेश करना अनिवार्य बनाया गया है.

छह हफ्ते में सबसे सस्ता सोना, भाव 29000 रुपए प्रति ग्राम के नीचे

GST के चलते कुछ ही दिनाेें में बढ़ गई कंप्यूटर और अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर की डिमांड
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज