अगर शेयर बाजार के उतार-चढ़ाव से लगता है डर तो चुनें ये म्यूचुअल फंड

अगर शेयर बाजार के उतार-चढ़ाव से लगता है डर तो चुनें ये म्यूचुअल फंड
अगर शेयर बाजार के उतार-चढ़ाव से लगता है डर तो चुनें ये म्यूचुअल फंड

अगर शेयर बाजार के उतार-चढ़ाव से लगता है डर तो चुनें ये म्यूचुअल फंड

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 22, 2017, 10:08 AM IST
  • Share this:
शेयर बाजार के गणित को समझने में अक्सर आम निवेशक को परेशानी होती है. इसीलिए वो मोटे रिटर्न पाने से चुक जाते है. अगर आप भी इसी शेयर बाजार से डरते है तो डायनेमिक म्यूचुअल फंड्स को चुन सकते है. एक्सपर्ट्स के मुताबिक यह फंड आपके इक्विटी पोर्टफोलियो को डायनेमिक तरीके से मैनेज करता है. यह मंदी रहने पर बाजार में ज्यादा पैसा लगाता है और तेजी में निवेश कम कर देता है.

डायनेमिक फंड्स को ऐसे समझे
फंड एक तरह से म्यूचुअल फंड ही होता है लेकिन इसमें कुछ अंतर होता है. म्यूचुअल फंड में निवेशकों के पैसे को इक्विटी या डेट मार्केट में लगाया जाता है. लेकिन,  डायनेमिक फंड में निवेशकों का पैसा दोनों में ही लगाया जाता है. इसी तरह अगर उसे लगता है कि इक्विटी में नुकसान हो रहा है और बाजार में गिरावट आ रही है तो फिर वह इक्विटी के बजाय डेट मार्केट में निवेश कर सकता है. हालांकि कुछ फंड इक्विटी फंड की तरह काम करते हैं और इन फंड को कम से कम 65 फीसदी राशि इक्विटी में लगानी चाहिए.

जोखिम को ऐसे करते है कम
एक्सपर्ट्स बताते हैं  कि ये फंड्स सही मार्केट लेवल पर इक्विटी एक्सपोजर घटाकर और कैश एलोकेशन बढ़ाकर यह पक्का करते हैं कि गिरावट का जोखिम कम से कम रहे. इन फंड्स में कम वोलैटिलिटी का पता उनके स्टैंडर्ड डेविएशन (SD) से चलता है. इससे फंड के रिटर्न में होनेवाली वोलैटिलिटी का पता लगाया जाता है. SD जितना कम होगा, रिटर्न में उतना ही कम उतार चढ़ाव रहेगा. डायनेमिक इक्विटी फंड्स का तीन साल का कैटेगरी एवरेज SD 10.32 पर्सेंट है, जबकि डायवर्सिफाइड फंड्स का SD 14.18 पर्सेंट है लेकिन यह डायनेमिक एसेट एलोकेशन फंड्स से ज्यादा है.



लेकिन फंड्स इस समय देते हैं कम रिटर्न!
इन फंड्स में डायवर्सिफाइड फंड्स के मुकाबले वोलैटिलिटी कम होती है लेकिन रिटर्न भी कम ही होता है. डायनेमिक इक्विटी फंड्स अरसे से डायवर्सिफाइड इक्विटी फंड्स को अंडरपरफॉर्म करते रहे हैं क्योंकि इसमें मार्केट की नब्ज सही से पकड़ने की कोशिश की जाती है. डायनेमिक फंड्स की 5 साल वाली कैटेगरी का एवरेज रिटर्न 14.57 फीसदी है. जबकि, डायवर्सिफाइड इक्विटी फंड्स ने 18.39 फीसदी रिटर्न दिया है. लंबी रैली में डायनेमिक इक्विटी फंड्स के पास ज्यादा समय तक कैश रहता है जिससे उस दौरान ये मार्केट को अंडरपरफॉर्म करते नजर आते हैं. एक्सपर्ट् कहते हैं, जब बाजार में तेजी का रुझान होता है तब ये फंड्स बाजार को अंडरपरफॉर्म करते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज