किसानों को मानसून की बारिश से होगा बड़ा फायदा, बुआई के लिए अब नहीं करनी होगी ज्‍यादा तैयारी

देश में खरीफ की फसल का बुआई सीजन खत्‍म होने के बाद ग्रामीण बेरोजगारी दर में बढ़ाेतरी की आशंका है.

देश में खरीफ की फसल का बुआई सीजन खत्‍म होने के बाद ग्रामीण बेरोजगारी दर में बढ़ाेतरी की आशंका है.

प्री-मानसून बारिश काफी अच्‍छी रहने के कारण खेत पहले से ही तैयार हैं. अब मॉनसून (Monsoon) की बारिश से किसानों (Farmers) को बुआई के लिए तैयारी करने की ज्‍यादा जरूरत नहीं होगी. वहीं, सही समय पर बुआई होने से बंपर पैदावार होने की उम्‍मीद भी बढ़ जाती है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. मौसम विभाग (MeT Department) के मुताबिक, मानसून (Monsoon) पश्चिम बंगाल, महाराष्‍ट्र और ओडिशा के ज्‍यादातर इलाकों में पहुंच चुका है. आज ये बिहार और झारखंड भी पहुंच चुका है. अगले 24 घंटे में इसके महाराष्‍ट्र के शेष हिस्‍सों के साथ ही देश के पूर्वी राज्‍यों की ओर बढ़ने की उम्‍मीद है. मौसम विभाग का अनुमान है कि अगले 24 घंटे में ये मुंबई, गुजरात और मध्‍य प्रदेश पहुंचकर झमाझम बारिश करेगा. इससे धान समेत खरीफ फसलों (Kharif Crop) की बुआई के लिए किसानों (Farmers) का ज्‍यादा इंतजार नहीं करना होगा. प्री-मॉनसून बारिश अच्‍छी होने के कारण खेत पहले से ही तैयार थे. अब मानसून की बारिश (Rain) सही समय पर होने से किसानों को बुआई के लिए ज्‍यादा तैयारी नहीं करनी होगी.

किसानों के चेहरे पर आई मुस्‍कान, बुआई के लिए इंतजार खत्‍म
बिहार, झारखंड समेत उत्‍तर भारत में धान की जमकर खेती की जाती है. इस बार प्री-मॉनसून बारिश के चलते खेत पहले से ही तैयार हैं. अब मॉनसून की बारिश समय पर होगी तो किसानों को खेत को तैयारी करने के लिए इंतजार नहीं करना होगा. समय से बुआई होगी तो पैदावार भी ज्‍यादा होने की उम्‍मीद बढ़ जाती है. मॉनसून से पहले की अच्छी बारिश से खेतों में आई नमी और अब समय पर मॉनसून के आगमन ने किसानों के चेहरों पर मुस्‍कान ला दी है. किसान खेतों को तैयार करने में लग गए हैं. किसानों को उम्मीद है कि इस वर्ष मॉनसून धोखा नहीं देगा.

अगले 24 घंटों में यहां होगी बारिश, इन इलाकों में रहेगी उमस
मॉनसून की दस्‍तक के साथ ही अगले 24 घंटे पश्चिम बंगाल, झारखंड, बिहार, ओडिशा, छत्तीसगढ़, दक्षिण-पूर्वी मध्य प्रदेश, तटीय कर्नाटक, कोंकण, गोवा और गुजरात में हल्की से मध्यम बारिश जारी रहने के आसार हैं. केरल, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, राजस्थान के कुछ हिस्सों, जम्मू-कश्मीर और उत्तराखंड में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है. पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश हो सकती है. हालांकि, दिल्ली समेत उत्तर भारत में पंजाब, हरियाणा राजस्थान और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में उमस रह सकती है.



ये भी पढ़ें- कोरोना संकट के बीच बैंक ही नहीं, ग्राहकों के लिए भी फायदे का सौदा है गोल्‍ड लोन

महाराष्‍ट्र के रत्‍नागिरी में 24 घंटे में दर्ज की गई रिकॉर्ड बारिश
मॉनसून सामान्य रफ्तार से बढ़ते हुए दक्षिण भारत और गोवा को पार कर महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, ओडिशा के अधिकांश हिस्सों में पहुंच चुका है. पिछले 24 घंटों के दौरान देश के कई इलाकों में भारी वर्षा रिकॉर्ड की गई. स्‍काईमेट वेदर की रिपोर्ट मुता‍बिक, इस दौरान देश में सबसे ज्‍यादा 167 मिमी बारिश महाराष्ट्र के रत्नागिरी में हुई. निम्न दबाव का क्षेत्र आगे बढ़ते हुए पूर्वी मध्य प्रदेश तथा इससे सटे छत्तीसगढ़ तक पहुं गया है. उत्तरी कोंकण गोवा क्षेत्र पर चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बन चुका है. वहीं, एक अन्य चक्रवाती क्षेत्र दक्षिणी हरियाणा के ऊपर हवाओं में बना हुआ है.

ये भी पढ़ें- PNB में दो सरकारी बैंकों के मर्जर के बाद अब क्‍या बंद हो जाएंगे करोड़ों ग्राहकों के ATM कार्ड, जानिए जवाब

पिछले 24 घंटों में इन इलाकों में हल्‍की से मध्‍यम बारिश हुई
मौसम विभाग के मुताबिक, बीते 24 घंटों में कोंकण व गोवा में मध्यम से भारी बारिश हुई. कुछ हिस्सों में बहुत भारी बारिश रिकॉर्ड की गई. तटीय कर्नाटक, केरल, मराठवाड़ा, विदर्भ, दक्षिणी छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल और असम के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक-दो स्थानों पर मूसलाधार वर्षा हुई. पूर्वोत्तर भारत के बाकी हिस्सों, पूर्वी बिहार, ओडिशा, झारखंड, मध्य प्रदेश, गुजरात के पूर्वी क्षेत्रों, दक्षिणी राजस्थान, अंडमान व निकोबार द्वीपसमूह, लक्षद्वीप और तटीय आंध्र प्रदेश में हल्की से मध्यम बारिश हुई. आंतरिक कर्नाटक, हरियाणा, उत्तराखंड, पंजाब और जम्मू-कश्मीर में हल्की बारिश हुई.

ये भी पढ़ें-तीन पान मसाला कंपनियों ने की 225 करोड़ रुपये की जीएसटी चोरी, पाकिस्‍तानी नागरिक समेत 3 गिरफ्तार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज