Moody's ने 2021 के लिए घटाया भारत का ग्रोथ रेट, जानें अब किस दर से होगा विकास

मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस (Moody's Investors Service)

मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस (Moody's Investors Service) ने भारत के वृद्धि अनुमान (India growth forecast) को घटाकर 9.6 प्रतिशत कर दिया है.

  • Share this:
    नई दिल्ली: मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस (Moody's Investors Service) ने बुधवार को वर्ष 2021 के लिए भारत के वृद्धि अनुमान (India growth forecast) को घटाकर 9.6 प्रतिशत कर दिया है, जो पिछले अनुमान के मुताबिक 13.9 प्रतिशत था. मूडीज ने साथ ही कहा कि तेजी से टीकाकरण के कारण जून तिमाही में आर्थिक प्रतिबंध सीमित होंगे.

    मूडीज ने ‘व्यापक अर्थशास्त्र- भारत कोविड की दूसरी लहर से आर्थिक झटके पिछले साल की तरह गंभीर नहीं होंगे’ शीर्षक वाली रिपोर्ट में कहा कि उच्च आवृत्ति वाले आर्थिक संकेतक बताते हैं कि कोविड की दूसरी लहर ने अप्रैल और मई में भारत की अर्थव्यवस्था को प्रभावित किया हालांकि, राज्यों द्वारा प्रतिबंधों में ढील देने के साथ इसमें सुधार की उम्मीद है.

    यह भी पढ़ें: वैक्सीन लगवा चुके लोगों के लिए खुशखबरी, Indigo टिकट बुकिंग में दे रही स्पेशल छूट, फटाफट करें चेक

    रिपोर्ट में कहा गया कि वायरस की वापसी से 2021 में भारत के वृद्धि पूर्वानुमानों को लेकर अनिश्चितता बढ़ी है, हालांकि यह संभावना है कि आर्थिक नुकसान अप्रैल-जून तिमाही तक ही सीमित रहेगा. मूडीज ने आगे कहा, ‘‘हमें वर्ष 2021 में भारत की वास्तविक जीडीपी 9.6 प्रतिशत और 2022 में सात प्रतिशत की दर से बढ़ने की उम्मीद है.’’ भारतीय अर्थव्यवस्था 2020-21 में 7.3 प्रतिशत घटी है, जबकि इससे पिछले वित्त वर्ष के दौरान चार प्रतिशत की वृद्धि हुई थी.

    विश्वबैंक ने भी घटाया था ग्रोथ रेट
    आपको बता दें इससे पहले विश्वबैंक ने भी भारत की वृद्धि दर अनुमान को घटाया था. वित्त वर्ष 2021-22 के लिए भारत की जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) वृद्धि दर अनुमान को पहले जताये गये 10.1 प्रतिशत से घटाकर 8.3 प्रतिशत कर दिया था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.