मूडीज ने भारत की GDP ग्रोथ का अनुमान घटाकर 6.2% किया, जानिए क्या है वजह

दुनियाभर में छाई आर्थिक सुस्ती का असर अब भारत की अर्थव्यवस्था पर भी दिखने लगा है. बड़ी रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस (Moody's Investors Service) ने कैलेंडर वर्ष 2019 के लिए भारत की सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी-GDP) की वृद्धि दर का अनुमान घटाकर 6.2 प्रतिशत कर दिया है.

News18Hindi
Updated: August 23, 2019, 4:34 PM IST
मूडीज ने भारत की GDP ग्रोथ का अनुमान घटाकर 6.2% किया, जानिए क्या है वजह
अर्थव्यवस्था पर संकट! नोमुरा के बाद अब मूडीज ने भारत की GDP ग्रोथ का अनुमान घटाकर 6.2% किया
News18Hindi
Updated: August 23, 2019, 4:34 PM IST
दुनियाभर में छाई आर्थिक सुस्ती का असर अब भारत की अर्थव्यवस्था पर भी दिखने लगा है. बड़ी रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस (Moody's Investors Service) ने कैलेंडर वर्ष 2019 के लिए भारत की सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी-GDP) की वृद्धि दर का अनुमान घटाकर 6.2 प्रतिशत कर दिया है. पहले इसे 6.8 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया गया था. इससे पहले अगस्त की शुरुआत में रेटिंग एजेंसी CRISIL ने 2019-20 (FY20) के ग्रोथ एस्टिमेट में संशोधन करते हुए इसे 6.9 प्रतिशत बताया था, जबकि उससे पहले इसे 7.1 आंका गया था. अगस्त में द्विमासिक मॉनिटरी पॉलिसी रिव्यू में आरबीआई ने भी 2019-20 के लिए जीडीपी ग्रोथ रेट को घटाकर 6.9 प्रतिशत कर दिया था, जो कि पहले सात फीसदी थी.

इसीलिए मूडीज ने घटाया आर्थिक ग्रोथ का अनुमान- कैलेंडर वर्ष 2020 के लिए भी वृद्धि दर के अनुमान को 0.6 प्रतिशत घटाकर 6.7 प्रतिशत कर दिया है. पहले इसके 7.3 प्रतिशत रहने का अनुमान व्यक्त किया गया था. मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने बयान में कहा कि कमजोर वैश्विक अर्थव्यवस्था से एशियाई एक्सपोर्ट प्रभावित हुआ है. इसके अलावा अनिश्चित वातावरण की वजह से भी निवेश पर असर पड़ा है.

मूडीज ने कहा- दुनियाभर में छाई आर्थिक सुस्ती का असर भारत पर दिख रहा है.


दो दिन पहले नोमुरा ने घटाया आर्थिक ग्रोथ का अनुमान- जापान की बड़ी रेटिंग एजेंसी नोमुरा के मुताबिक देश की आर्थिक वृद्धि इस साल जून तिमाही में 5.7 फीसदी पर रहने का अनुमान है. कंपनी ने अपने रिसर्च नोट में कहा , " वित्त वर्ष 2018-19 में अर्थव्यवस्था की रफ्तार सुस्त होकर 6.8 फीसदी पर आ गई.

>> यह 2014-15 के बाद का निम्न स्तर है." नोमुरा के मुताबिक हमारा अनुमान है कि जीडीपी वृद्धि मार्च के 5.8 फीसदी से घटकर जून तिमाही में 5.7 फीसदी पर रह जाएगी. सितंबर तिमाही (तीसरी तिमाही) में यह बढ़कर 6.4 फीसदी हो जाएगी.  उसके बाद की तिमाही में जीडीपी वृद्धि की रफ्तार 6.7 फीसदी रहने की उम्मीद है.

यह भी पढ़ें: नीति आयोग के बयान के प्रियंका ने मोदी सरकार से पूछा- 'इस नुकसान की भरपाई कौन करेगा?'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 23, 2019, 4:08 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...