FY22 में 9.3% रह सकती है भारत की GDP ग्रोथ रेट, लॉकडाउन का कम होगा असर: मूडीज

कोरोना की दूसरी लहर का भारत की अर्थव्यवस्था पर असर

कोरोना की दूसरी लहर का भारत की अर्थव्यवस्था पर असर

India GDP: मूडीज इंवेस्टर्स सर्विस (Moody’s Investors Service) ने मंगलवार को कहा कि मार्च 2022 को समाप्त होने वाले चालू वित्त वर्ष में भारत की जीडीपी वृद्धि दर (GDP Growth Rate) 9.3 प्रतिशत रह सकती है.

  • Share this:

नई दिल्ली. मूडीज इंवेस्टर्स सर्विस (Moody’s Investors Service) ने मंगलवार को कहा कि मार्च 2022 को समाप्त होने वाले चालू वित्त वर्ष में भारत की जीडीपी वृद्धि दर (GDP Growth Rate) 9.3 प्रतिशत रह सकती है, जबकि अगले वित्त वर्ष 2022-23 में इसके 7.9 प्रतिशत रहने का अनुमान है. मूडीज ने कहा कि संक्रमण के डर से लोगों के व्यवहार में आए बदलाव के साथ ही फिर से लॉकडाउन लागू किए जाने से आर्थिक गतिविधियों पर अंकुश लगेगा, लेकिन ये प्रभाव पहली लहर की तरह गंभीर होने की आशंका नहीं है.

मूडीज ने आगे कहा, अप्रैल-जून तिमाही में आर्थिक गतिविधियों में गिरावट का अनुमान है, जबकि इसके बाद सुधार होगा, जिसके चलते वास्तविक, मुद्रास्फीति समायोजित जीडीपी वृद्धि दर मार्च 2022 को समाप्त होने वाले वित्त वर्ष में 9.3 प्रतिशत और वित्त वर्ष 2022-23 में 7.9 प्रतिशत रह सकती है.

ये भी पढ़ें: Petrol Price Today: 1 महीने में पेट्रोल डीजल के रेट पहुंचे रिकॉर्ड हाई पर, जानें आज कितना हुआ महंगा

FY21 में 7.3% की दर से घटी देश की जीडीपी
वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान भारत की अर्थव्यवस्था में 7.3 प्रतिशत की गिरावट आई है. रेटिंग एजेंसी ने कहा कि लंबी अवधि में जीडीपी वृद्धि दर औसतन लगभग छह प्रतिशत रहने की उम्मीद है.

राष्ट्रीय सांख्यिकीय कार्यालय (NSO) के आंकड़ों के मुताबिक, वित्‍त वर्ष 2020-21 में भारतीय अर्थव्यवस्था में 7.3 फीसदी की गिरावट आई. जीडीपी में आई ये गिरावट कोविड-19 महामारी के आर्थिक असर को दिखाती है. एनएसओ ने जनवरी 2021 में जारी हुए राष्ट्रीय अकाउंट्स के पहले एडवांस एस्टिमेट्स में 2020-21 में जीडीपी में 7.7 फीसदी की गिरावट का आकलन किया था. इसके बाद दूसरे संशोधित अनुमान में वित्‍त वर्ष 2020-21 में 8 फीसदी की गिरावट का अनुमान जताया था. बता दें कि चीन ने जनवरी-मार्च 2021 में 18.3 फीसदी की ग्रोथ दर्ज की है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज