लाइव टीवी

जल्द पैसों के लेन-देन के लिए OTP के साथ आपको चेहरा भी पड़ेगा दिखाना, जानिए कैसे काम करेगी नई सर्विस

News18Hindi
Updated: February 19, 2020, 5:55 PM IST

Online Banking Transaction: ऑनलाइन बैंकिंग ट्रांजेक्शन के लिए सिर्फ OTP से काम नहीं चलेगा. आने वाले दिनों में फेशियल रिकॉग्निशन और लोकेशन भी कन्फर्म किया जाएगा, तभी जाकर ट्रांजेक्शन पूरी होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 19, 2020, 5:55 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. ऑनलाइन बैंकिंग ट्रांजैक्शन (Online Banking Transaction) के लिए सिर्फ ओटीपी (OTP) से काम नहीं चलेगा. ऑनलाइन बैंकिंग को और ज्यादा सुरक्षित बनाने के लिए नए फीचर्स जोड़े जा सकते हैं. ऑनलाइन बैंकिंग ट्रांजैक्शन के दौरान ओटीपी (OTP) के अलावा फेशियल रिकॉग्निशन (Facial Recognition), आइरिस (Iris) और लोकेशन (Location) मांगे जा सकते हैं, तभी जाकर ट्रांजेक्शन पूरी होगी. सूत्रों के मुताबिक, बैंकिंग फ्रॉड (Banking Fraud) पर नकेल कसने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) इस प्रस्ताव पर विचार कर रहा है.

जोड़े जाएं ये फीचर्स
ऑनलाइन बैंकिंग ट्रांजैक्शन में नए फीचर जुड़ेंगे. OTP के साथ फेशियल रिकॉगनिशन, लोकेशन भी जोड़े जाएंगे. इन फीचर के बाद ही ऑनलाइन ट्रांजैक्शन पूरी होगी. फेस, आइरिस और लोकेशन जैसे सिक्योरिटी फीचर भी शामिल किए जाएंगे.  बता दें कि अभी टू फैक्टर ऑथेंटिकेशन (2FA) का इस्तेमाल होता है. 3D पिन और OTP से ट्रांजैक्शन पूरी होती है. पिछले साल बैंकिंग फ्रॉड से 71,543 करोड़ रुपये का चूना लगा था जबकि पिछली तीन तिमाही में 8,926 फ्रॉड के मामले सामने आए थे.

ये भी पढ़ें: सरकार ने लाखों किसानों को दिया बड़ा तोहफा, ब्याज पर सब्सिडी की छूट बढ़ाई





2FA क्‍या है?
ई-कॉमर्स प्‍लैटफॉर्म्स पर डेबिट या क्रेडिट कार्ड से ट्रांजैक्‍शन में सुरक्षा के दो लेयर होते हैं. इसे टू-फैक्‍टर ऑथेंटिकेशन कहते हैं. पहली लेयर में ग्राहक से कार्ड का डीटेल और सीवीवी आदि लेकर ट्रांजैक्‍शन को मंजूरी दी जाती है और दूसरी लेयर में ओटीपी देने के लिए कहा जाता है, जो कस्टमर के मोबाइल नंबर पर भेजा जाता है. वीजा कंपनी का मानना है कि सभी ट्रांजैक्शन्स में इसकी जरूरत नहीं है.

ये भी पढ़ें: 1 अप्रैल से भारत में बिकेगा दुनिया का सबसे साफ पेट्रोल और डीज़ल, जानिए इसके बारे में...

बैंकिंग फ्रॉज से 18 सरकारी बैंकों से करीब 1.17 लाख करोड़ का नुकसान
ऑनलाइन बैंकिंग फ्रॉड के चलते 18 सरकारी बैंकों से करीब 1.17 लाख करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है. डिजिटल लेन देन 13% की दर से सालाना बढ़ रहा है जबकि मोबाइल वॉलेट में करीब 53% बढ़ोत्तरी की उम्मीद है. ऐसे में आरबीआई ऑनलाइन बैंकिंग फ्रॉड पर सख्त बनाने का विचार कर रही है.

(आलोक प्रियदर्शी, संवाददाता- CNBC आवाज़)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 19, 2020, 5:14 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर