IRDA के चेयरमैन बोले- कोरोना इंश्योरेंस पॉलिसी के तहत 1.28 करोड़ लोगों को मिली सुरक्षा

सुभाष चंद्र खुंटिया ने कहा कि महामारी के बाद देश में ब्रोकरों और इंश्योरेंस कंपनियों के लिए काफी अवसर हैं.

सुभाष चंद्र खुंटिया ने कहा कि महामारी के बाद देश में ब्रोकरों और इंश्योरेंस कंपनियों के लिए काफी अवसर हैं.

कोरोना महामारी के दौर में आईआरडीए (IRDA) के निर्देश पर इंश्योरेंस कंपनियों ने कोरोना कवच (Corona Kavach) और कोरोना रक्षक (Corona Rakshak) नाम से दो इंश्योरेंस प्रोडक्ट पेश किया था.

  • Share this:
नई दिल्ली. इंश्‍योरेंस रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (Insurance Regulatory and Development Authority) के चेयरमैन सुभाष चंद्र खुंटिया (Subhash Chandra Khuntia) ने शुक्रवार को कहा कि अभी तक देश में कोरोना इंश्योरेंस पॉलिसी के तहत 1.28 करोड़ लोगों को सुरक्षा मिली है. उन्होंने कहा कि इन पॉलिसियों का प्रीमियम कलेक्शन एक हजार करोड़ रुपये से ज्यादा रहा है.

कंपनियों ने पेश किए थे कोरोना कवच और कोरोना रक्षक

कोरोना महामारी के दौर में आईआरडीए के निर्देश पर इंश्योरेंस कंपनियों ने कोरोना कवच (Corona Kavach) और कोरोना रक्षक (Corona Rakshak) नाम से दो इंश्योरेंस प्रोडक्ट पेश किया था. इसके अलावा इंश्योरेंस कंपनियों ने कोविड-19 को लेकर कवरेज की भी घोषणाएं की थीं.

ये भी पढ़ें- Economic Survey 2021: चीन से भी तेज़ दौड़ेगी भारतीय अर्थव्यवस्था, जानिए आर्थिक सर्वेक्षण की 5 प्रमुख बातें
प्रीमियम कलेक्शन एक हजार करोड़ रुपये से ज्यादा

इंश्योरेंस ब्रोकर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के सालाना सम्मेलन को वर्चुअल तरीके से संबोधित करते हुए खुंटिया ने कहा, ''स्टैंडर्ड कोरोना कवच के तहत 42 लाख लोगों को सुरक्षा दी गई, जबकि कोरोना रक्षक के तहत 5.36 लाख लोगों को सुरक्षा मिली. कोरोना से संबंधित सभी प्रोडक्ट्स के तहत कुल मिलाकर 1.28 करोड़ लोगों को सुरक्षा दी गई और इनका प्रीमियम कलेक्शन एक हजार करोड़ रुपये से ज्यादा रहा.''

ये भी पढ़ें- Economic Survey: संसद में आर्थिक सर्वे पेश, FY 2021-22 के लिए 11 फीसदी आर्थिक ग्रोथ का अनुमान



ब्रोकरों और इंश्योरेंस कंपनियों के लिए काफी अवसर

उन्होंने कहा कि महामारी के बाद देश में ब्रोकरों और इंश्योरेंस कंपनियों के लिए काफी अवसर हैं. इसने (महामारी ने) लोगों को यह महसूस कराया है कि इंश्योरेंस कितनी महत्वपूर्ण चीज है. उन्होंने कहा कि अब टियर-2, 3 और 4 शहरों पर अधिक ध्यान देने की जरूरत है क्योंकि अब वृद्धि इन्हीं शहरों से आएगी. खुंटिया ने कहा कि अब चीजें बेहतर प्रतीत हो रही हैं. हम महामारी को नियंत्रित करने के सरकार के सतत प्रयासों से खुश हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज