इस समय ज्यादातर लोग खरीदना चाहते हैं अपना घर, यहां जानें इसकी बड़ी वजह

कोविड-19 के बाद ज्यादातर लोग अपना घर खरीदना चाहते हैं.

कोविड-19 के बाद ज्यादातर लोग अपना घर खरीदना चाहते हैं.

इस समय ज्यादातर बैंक (Bank) 30 लाख से 75 लाख रुपये तक के होम लोन पर 6.95 प्रतिशत की दर से लोन दे रहे हैं. वहीं आप इससे ज्यादा का लोन (Loan) लेते है तो आपको 7 प्रतिशत की ब्याज दर पर लोन मिल सकता है. ऐसे में ज्यादातर लोग प्रॉपर्टी (Property) खरीदना चाहते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 19, 2020, 6:19 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना महामारी ने लोगों को अपने घर की अहमियत बता दी है. इसके साथ ही बैंकों में इस समय सबसे कम दरों पर होम लोन उपलब्ध कराया जा रहा है. वहीं कोविड-19 से उभरने के लिए रियल एस्टेंट सेक्टर भी आकर्षक ऑफर दे रहा है. इसलिए ज्यादातर लोग आने वाले समय में अपना घर खरीदना चाहते है. आपको बता दें ऑनलाइन प्लेटफॉर्म नोब्रोकर डॉट कॉम ने हाल ही में एक सर्वे कराया है. जिसके अनुसार 82 प्रतिशत लोग 2021 में प्रॉपर्टी खरीदना चाहते है. वहीं कंपनी के पिछले साल के सर्वे में केवल 64 प्रतिशत लोग ही घर खरीदना चाहते थे.

18 हजार लोगों ने सर्वे में लिया भाग- नोब्रोकर डॉट कॉम के अनुसार उसके ऑनलाइन सर्वे में 18 हजार से ज्यादा लोगों ने भाग लिया. जिसमें से 89 प्रतिशत लोगों को लगा कि इस समय प्रॉपर्टी खरीदने का बेहतरीन समय है. इसके लिए लोगों ने सबसे बड़ी वजह होम लोन की कम दर बड़ी वजह बताई.

यह भी पढ़ें: घर बनाना पहले से हुआ महंगा! यहां देखिए कितनी बढ़ी महंगाई, जानिए इसकी बड़ी वजह

होम लोन पर है इतनी प्रतिशत है ब्याज- इस समय ज्यादातर बैंक 30 लाख से 75 लाख रुपये तक के होम लोन पर 6.95 प्रतिशत की दर से लोन दे रहे हैं. वहीं आप इससे ज्यादा का लोन लेते है तो आपको 7 प्रतिशत की ब्याज दर पर लोन मिल सकता है. ऐसे में ज्यादातर लोग प्रॉपर्टी खरीदना चाहते हैं.
यह भी पढ़ें: केंद्र का बड़ा ऐलान! अब टेक्सटाइल इंडस्ट्री के लिए अलग से लाई जाएगी प्रोत्‍साहन योजना

मेट्रो शहरों में किया गया सर्वे - इसमें कहा गया है कि लोग बड़े घरों की तलाश कर रहे हैं. इसमें काम करने के लिए वे दो कमरे चाहते हैं. इसमें बच्‍चों की पढ़ाई के लिए एक अलग कमरा हो. नो ब्रोकर डॉट कॉम के सह-संस्‍थापक सौरभ गर्ग ने कहा, '82 फीसदी लोगों ने 2021 में घर खरीदने की इच्‍छा जताई है. लॉकडाउन के दौरान कम खर्च के कारण लोगों ने अधिक बचत की है. डाउनपेमेंट के लिए उन्‍होंने पैसा जोड़ लिया है. बिल्डरों के आकर्षक ऑफर और कम ब्याज दरें भी ग्राहकों को लुभा रही हैं.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज