लाइव टीवी

मदर डेयरी प्लास्टिक वेस्ट रीसाइकलिंग के लिए चलाएगी अभियान

News18Hindi
Updated: September 18, 2019, 7:18 PM IST
मदर डेयरी प्लास्टिक वेस्ट रीसाइकलिंग के लिए चलाएगी अभियान
मदर डेयरी (Mother Dairy) ने देश भर से उपभोक्ताओं के द्वारा इस्तेमाल के बाद बचे प्लास्टिक व्यर्थ के संग्रहण एवं रीसाइक्लिंग के लिए अपनी योजनाओं का ऐलान किया है.

मदर डेयरी (Mother Dairy) ने देश भर से उपभोक्ताओं के द्वारा इस्तेमाल के बाद बचे प्लास्टिक व्यर्थ के संग्रहण एवं रीसाइक्लिंग के लिए अपनी योजनाओं का ऐलान किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2019, 7:18 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. स्वच्छ वातावरण (Clean Environment) के लिए अपनी प्रतिबद्धता को आगे बढ़ाते हुए देश में दूध व दूध उत्पादों के दिग्गज मदर डेयरी (Mother Dairy) ने देश भर से उपभोक्ताओं के द्वारा इस्तेमाल के बाद बचे प्लास्टिक व्यर्थ के संग्रहण एवं रीसाइक्लिंग के लिए अपनी योजनाओं का ऐलान किया है.

वैकल्पिक विकल्पों में अग्रणी
मदर डेयरी ने 4 दशक से भी पहले ऑटोमेटेड बल्क मिल्क वेंडिंग मशीन की शुरूआत की, जिसे टोकन वाले दूध के नाम से जाना जाता है, जो सीधे निर्माता से उपभोक्ता तक प्रभावी कोल्ड चेन के ज़रिए गुणवत्तापूर्ण दूध उपलब्ध कराती है, साथ ही किसी भी तरह की प्लास्टिक पैकेजिंग से मुक्त है. अपनी शुरूआत से ही इस अनूठे सिस्टम ने कंपनी एवं उपभोक्ताओं को प्लास्टिक का इस्तेमाल न करने में मदद की है और आज यह दिल्ली/एनसीआर में सालाना लगभग 900 मीट्रिक टन प्लास्टिक व्यर्थ के उत्पादन को रोकती है. मदर डेयरी ने अपने कन्ज़्यूमर टच-प्वाइंट्स में इंस्टॉल किए गए लगभग 3000 बल्क मिल्क वेंडिंग युनिट्स का संचालन किया है, इन टच प्वाइंट्स में मिल्क बूथ, फ्रैंचाइज़ शॉप, कियोस्क, मिनी शॉप, इन्सुलेटेड कंटेनर्स, कामधेनु मोबाइल युनिट्स, कंटेनर-ऑन-व्हील्स आदि शामिल हैं जो बड़ी सहजता के साथ अपने क्षेत्र में बड़ी संख्या में उपभोक्ताओं को प्लास्टिक पैकेजिंग से रहित दूध उपलब्ध कराते हैं.

प्लास्टिक के संग्रहण एवं रीसाइक्लिंग पहल की शुरूआत

उपभोक्ताओं के द्वारा इस्तेमाल के बाद बचे प्लास्टिक के खतरे को हल करने के लिए मदर डेयरी ने जून 2018 में अपने प्लास्टिक व्यर्थ संग्रहण एवं रीसाइक्लिग पहल की शुरूआत की, इसके लिए एक्सटेंडेड प्रोड्युसर रिस्पॉन्सिबिलिटी प्रोग्राम (EPR) शुरू किया गया. इस पहल के तहत मदर डेयरी प्रोड्युसर रिस्पॉन्सिबिलिटी ओर्गेनाइज़ेशन (PRO) की मदद से मई 2019 तक लगभग 1073 मीट्रिक टन प्लास्टिक व्यर्थ को संग्रहित एवं रीसाइकल कर चुकी है. इसमें 183 मीट्रिक टन मल्टी-लेयर्ड पैकेजिंग (MLP) और 890 मीट्रिक टन नॉन-मल्टी-लेयर्ड पैकेजिंग शामिल है. आज कंपनी महाराष्ट्र राज्य में 100 फीसदी ईपीआर का कार्यान्वयन कर रही है.

ये भी पढ़ें: अगर आपके पास है ई-सिगरेट तो तुरंत करना होगा ये काम, नहीं तो जाना पड़ेगा जेल!

देश भर में इस पहल का पैमाना बढ़ाना
Loading...

वित्त वर्ष 2019-20 में मदर डेयरी ईपीआर की सफलता को दोहराते हुए अखिल भारतीय स्तर पर इस प्रोग्राम का पैमाना बढ़ाया. कंपनी अग्रणी पीआरओ के माध्यम से अपने संचालन के प्रमुख 25 राज्यों से प्लास्टिक व्यर्थ को संग्रहित कर रीसाइकल करेगी. मदर डेयरी ने मार्च 2020 तक कुल एमएलपी के 60 फीसदी यानी 832 मीट्रिक टन को रीसाइकल करने का लक्ष्य तय किया है. रीसाइकलिंग के इन प्रयासों की शुरुआत 7 क्षेत्रों- दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और बिहार में की जा चुकी है.

प्लास्टिक व्यर्थ की समस्या के समाधान के लिए इस पहल पर अपने विचार अभिव्यक्त करते हुए मदर डेयरी फ्रूट एंड वेजीटेबल प्रा. लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर संग्राम चौधरी ने कहा, हमारे विकल्पों को अपनाने वाले उपभोक्ता हर दिन हरित फुटप्रिंट की ओर बढ़ रहे हैं. हालांकि हमारी कंपनी के पोर्टपोलिया के कुछ उत्पादों में रीसाइकल की जा सकते नवाली प्लास्टिक पैकेजिंग के दोनों रूप- एमएलपी और नॉन-एमएलपी शामिल हैं. एक ज़िम्मेदार संगठने होने के नाते मदर डेयरी ने केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के तहत ब्रांड ओनर के लिए सेंट्रल रजिस्ट्रेशन का अधिग्रहण किया है, जो प्लास्टिक व्यर्थ प्रबंधन (संशोधन) नियम, 2018 के अनुरूप है. इस पंजीकरण के साथ, मदर डेयरी सीपीसीबी प्राप्त करने के साथ-साथ ईपीआर को लागू करने के लिए डेयरी सहकारी समितियों में पहली और 3 साल की समयसीमा में उत्पन्न उपभोक्ता-उपयोग किए गए प्लास्टिक कचरे के 100 फीसदी ईपीआर कार्यान्वयन के लिए प्रतिबद्ध है. हमने प्लास्टिक व्यर्थ के संग्रहण, पृथक्करण और रीसाइक्लिंग के लिए ऑन-ग्राउंड गतिविधियों का लक्ष्य तय किया है.

ये भी पढ़ें: 2 अक्टूबर के बाद बढ़ने वाली है इस चीज की डिमांड, हर महीने होगी 1 लाख की कमाई

उन्होंने कहा, मदर डेयरी ने अग्रणी पीआरओ के साथ अनुबंध किया है उनकी मदद से हम व्यर्थ संग्रहित एवं रीसाइकल करने वाले समुदायों के नेटवर्थ के साथ जुड़ रहे हैं तथा शहरी स्थानीय संगठनों के सहयोग से प्लास्टिक व्यर्थ के संग्रहण एवं रीसाइक्लिंग के लिए प्रयासरत हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 18, 2019, 7:18 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...