मोतीलाल ओसवाल का अनुमान! Sensex अगले 10 साल में पार कर जाएगा 2 लाख अंक का जादुई स्‍तर

बॉम्‍बे सटॉक एक्‍सचेंज के संवेदी सूचकांक सेंसेक्‍स के 10 साल में 2 लाख अंक के स्‍तर को पार करने की उम्‍मीद जताई जा रही है.

बॉम्‍बे सटॉक एक्‍सचेंज के संवेदी सूचकांक सेंसेक्‍स के 10 साल में 2 लाख अंक के स्‍तर को पार करने की उम्‍मीद जताई जा रही है.

पूंजी बाजार विशेषज्ञ और मोतीलाल ओसवाल (Motilal Oswal) के चेयरमैन रामदेव अग्रवाल ने उम्‍मीद जताई है कि सेंसेक्‍स (Sensex) अगले 10 साल में 2 लाख अंकों के स्‍तर को पार कर जाएगा. साथ ही उन्‍होंने भरोसा जताया है कि वित्‍त वर्ष 2029 तक देश की अर्थव्‍यवस्‍था 5 लाख करोड़ डॉलर (5 Trillion Dollar Economy) की हो जाएगी.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. वित्त वर्ष 2020-21 की चौथी तिमाही और पूरे वित्‍त वर्ष के लिए सकल घरेलू उत्‍पाद के आंकड़े (GDP Data) जारी किए जाने से पहले शेयर बाजार (Share Markets) में आज जबरदस्त तेजी दिखी. बॉम्‍बे स्‍टॉक एक्‍सचेंज (BSE) का संवेदी सूचकांक सेंसेक्स (Sensex) 1 फीसदी यानी 514.56 अंकों की तेजी के साथ 51,937.44 के स्‍तर पर बंद हुआ. वहीं, एनएसई (NSE) का निफ्टी (Nifty) भी 0.95 फीसदी यानी 147.14 अंकों की बढ़त के साथ 15,582.80 अंक के सवोच्‍च स्‍तर पर बंद हुआ. इस पर पूंजी बाजार विशेषज्ञ और बोर्करेज एंड इंवेस्टमेंट फर्म मोतीलाल ओसवाल (Motilal Oswal) के चेयरमैन रामदेव अग्रवाल (Raamdeo Agrawal) ने 10 साल के भीतर सेंसेक्‍स के 2 लाख अंक के स्‍तर को पार करने की उम्मीद जताई है.

'15 फीसदी सीएजीआर के साथ सेंसेक्स छू सकता है जादुई स्‍तर'

मोतीलाल ओसवाल के चेयरमैन रामदेव अग्रवाल ने उम्मीद भी जताई है कि भारत वित्‍त वर्ष 2029 तक 5 लाख करोड़ डॉलर की अर्थव्यवस्था भी बन जाएगा. उन्‍होंने कहा कि सेंसेक्स की सालाना वृद्धि दर अभी के मौजूदा स्तर से 15 फीसदी सीएजीआर (CAGR) रहने की संभावना है. वहीं, इंडियन इकोनॉमी का नॉमिनल जीडीपी ग्रोथ रेट 12 से 13 फीसदी के बीच रहने की उम्मीद है. उन्होंने कहा कि 15 फीसदी सीएजीआर के साथ सेंसेक्स 10 साल में 2 लाख अंक के स्‍तर को छू सकता है. नोटबंदी और कोरोना वायरस महामारी के साथ आईएल एंड एफएस (IL&FS) के डूबने समेत शेयर बाजार की रफ्तार पर ब्रेक लगाने वाली तमाम घटनाओं के बाद भी पिछले 10 साल में सेंसेक्‍स की सालाना वृद्धि दर 11 फीसदी सीएजीआर रही है.

ये भी पढ़ें- IFFCO का कमाल! अब किसानों के लिए एक बोरी यूरिया की जगह काफी होगी आधा लीटर नैनो यूरिया की बोतल, जानें कीमत
भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था को इन तमाम चीजों से मिलेगा काफी सहारा

रामदेव अग्रवाल ने कहा कि भारत का मजबूत फेडरल स्ट्रक्चर, यूथ से डोमिनेटेड बड़ा घरेलू बाजार, डिजिटलाइजेशन में बढ़ोतरी, बड़ा विदेशी मुद्रा भंडार और डॉलर के इनफ्लो में मजबूती सेंसेक्स को 10 साल में इस मुकाम पर ले जाने में मदद करेंगे. साथ ही कम ब्‍याज दर, कच्‍चे तेल की कीमतों में कमी के साथ चालू खाता घाटे में गिरावट और स्‍थायी सरकार होने से भारतीय अर्थव्यवस्था को फायदा होगा. कोरोना वायरस महामारी अस्‍थायी रुकावट है, जो वैक्सीन के रोलआउट होने से खत्‍म होना शुरू हो चुकी है. उन्होंने देश की अर्थव्यवस्था में 'के' शेप रिकवरी (K Shape Recovery) की उम्मीद जताई.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज