शराब पीकर गाड़ी चलाने पर लगेगा 10 हजार का जुर्माना, मोटर व्हीकल संशोधन बिल लोकसभा में पेश

मोटर व्हीकल (संशोधन) बिल, 2019 को लोकसभा में पेश किया गया. संशोधित मोटर व्हीकल एक्ट में सड़क यातायात उल्लंघन को लेकर नियमों को कड़ा किया गया है.

News18Hindi
Updated: July 15, 2019, 6:04 PM IST
शराब पीकर गाड़ी चलाने पर लगेगा 10 हजार का जुर्माना, मोटर व्हीकल संशोधन बिल लोकसभा में पेश
मोटर व्हीकल (संशोधन) बिल, 2019 को लोकसभा में पेश किया गया. संशोधित मोटर व्हीकल एक्ट में सड़क यातायात उल्लंघन को लेकर नियमों को कड़ा किया गया है.
News18Hindi
Updated: July 15, 2019, 6:04 PM IST
केंद्रीय सड़क, परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने सोमवार को मोटर व्हीकल (संशोधन) बिल, 2019 को लोकसभा में पेश किया. संशोधित मोटर व्हीकल एक्ट में सड़क यातायात उल्लंघन को लेकर नियमों को कड़ा किया गया है. संशोधित बिल में यह भी प्रस्ताव रखा गया है कि अगर ड्राइविंग के दौरान जरा सी भी लापरवाही की, तो तकरीबन 10 गुना तक जुर्माना चुकाना पड़ सकता है. प्रस्तावित बिल में शराब पीकर गाड़ी चलाने पर 10,000 रुपये जुर्माना की व्यवस्था की गई है. नए बिल में सभी राज्यों में यूनिफॉर्म ड्राइविंग लाइसेंस और व्हीकल रजिस्ट्रेशन प्रोसेस को ऑनलाइन नेशनल रजिस्टर में शामिल करने की व्यवस्था की गई है.

गडकरी ने कहा, इस पर कानून बनाने का अधिकार केंद्र को भी है, राज्य को भी है. जो राज्य इसे लागू करना चाहता है लागू करे. कोई बाध्य नहीं कर रहा. पहले भी ये भी बिल आया था एक सदन से पारित हुआ था. मैं चर्चा के लिए तैयार हूं. 18 राज्यों के परिवहन मंत्रियों के स्वीकृत के बाद बिल तैयार हुआ है. स्टैंडिंग कमिटी ने भी इस बिल पर विचार किया है. केवल साढ़े चार फीसदी दुर्घटना कम हुए. ये हमारी विफलता है. केवल तमिलनाडु ने 15 फीसदी की कमी की है. जिस राज्य को स्वीकार करना है करे. जिस राज्य को नहीं करना है न स्वीकार करे.

इतने रुपये तक के जुर्माने का प्रस्ताव

>> शराब पीकर गाड़ी चलाने पर नए कानून के तहत अब 10000 रुपये जुर्माना लगेगा जबकि खतरनाक तरीके से ड्राइविंग पर जुर्माना 1000 रुपये से बढ़ाकर 5000 रुपये कर दिया गया है. ओवरलोडिंग पर 20000 रुपये जुर्माना लगेगा. सीट बेल्ट न बांधने पर 1000 रुपये जुर्माना देना होगा.

> विधेयक में ओवर स्पीडिंग पर 1000-2000 रुपये तक का जुर्माना लगाने का प्रावधान किया गया है. बिना बीमा पॉलिसी के वाहन चलाने पर 2000 रुपये तक का जुर्माना रखा गया है. बिना हेलमेट के वाहन चलाने पर 1000 रुपये का जुर्माना और तीन माह के लिए लाइसेंस निलंबित किया जाना शामिल है.

ये भी पढ़ें: 15 हजार में शुरू करें ये बिजनेस, सालाना होगी लाखों में कमाई

>> संशोधित विधेयक के अनुसार, यातायात नियमों का उल्लंघन होने पर न्यूनतम 100 रुपये के स्थान पर 500 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा. अधिकारियों के आदेश का पालन नहीं करने पर 500 रुपये के स्थान पर अब 2000 रुपये का जुर्माना देना होगा. वाहन का अनाधिकृत इस्तेमाल करने पर 5000 रुपये के जुर्माने का प्रावधान किया गया है. बिना लाइसेंस के वाहन चलाने पर भी इतना ही जुर्माना देना होगा, जबकि अयोग्य करार दिए जाने के बावजूद वाहन चलाने पर 10,000 रुपये का जुर्माना देय होगा.
Loading...

30 फीसदी लाइसेंस फर्जी
वहीं सदन में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने भी बिल के कुछ हिस्सों का विरोध करते हुए कि यह राज्यों को मिले संवैधानिक अधिकारों के खिलाफ है. जिसका उत्तर देते हुए गडकरी ने कहा कि बिल के जिन हिस्सों का विपक्षी नेता विरोध कर रहे हैं, उनसे राज्यों के अधिकारों का हनन नहीं होगा. उन्होंने कहा कि देश में लाइसेंस बनाना बेहद आसान हो गया है और देश में तकरीबन 30 फीसदी लाइसेंस फर्जी हैं. लोगों को कानून की कोई परवाह नहीं है और वे 50-100 रुपये के जुर्माने की परवाह नहीं करते.

1 लाख रु तक जुर्माने का प्रस्ताव
इस विधेयक में सड़क सुरक्षा के क्षेत्र में काफी सख्त प्रावधान रखे गए हैं. किशोर नाबालिगों द्वारा ड्राइविंग, बिना लाइसेंस ड्राइविंग, खतरनाक ढंग से ड्राइविंग, शराब पीकर गाड़ी चलाना, ओवर स्पीडिंग और ओवरलोडिंग जैसे नियमों के उल्लंघन पर कड़े जुर्माने का प्रावधान किया गया है. ओला, उबर जैसे एग्रीगेटर्स द्वारा ड्राइविंग लाइसेंसों के नियमों का उल्लंघन करने पर विधेयक के प्रावधानों के अनुरूप 1 लाख रुपये तक का जुर्माना लगाया जा सकता है.
First published: July 15, 2019, 5:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...