Home /News /business /

50 हजार रुपए का तत्काल लोन मिलेगा, बस यह प्रक्रिया करनी होगी

50 हजार रुपए का तत्काल लोन मिलेगा, बस यह प्रक्रिया करनी होगी

देश में केवल 4 फीसदी MSME को ही औपचारिक वित्तीय माध्यमों से कर्ज मिल पाता है.

देश में केवल 4 फीसदी MSME को ही औपचारिक वित्तीय माध्यमों से कर्ज मिल पाता है.

बी2बी मार्केट प्लेस सॉल्व (SOLV) के प्लेटफॉर्म पर कोई दुकानदार 2 मिनट के भीतर KYC वेरिफिकेशन प्रक्रिया को पूरी कर सकता है. यह एमएसएमई (MSME) को लोन देता है. सॉल्व (SOLV) के चीफ सेल्स ऑफिसर रोहित डावर से जानिए लोन की प्रक्रिया.

    नई दिल्ली. छोटे, मध्यम और लघु उद्योग यानी एमएसएमई (MSME) भारत की रीढ़ की तरह हैं. कुल जीडीपी में इनका हिस्सा करीब 30 फीसदी, वर्कफोर्स में 40 फीसदी और निर्यात में करीब 40 फीसदी है. काेरोना महामारी की वजह से इन पर बहुत ज्यादा असर पड़ा है. यह कहना है कि सॉल्व (SOLV) के चीफ सेल्स ऑफिसर रोहित डावर का.
    न्यूज 18 से बातचीत में डावर ने बताया कि MSME के सप्लाई चेन में इनोवेशन के मामले में बड़े मौके मौजूद हैं. लिहाजा एक ऐसा इको-सिस्टम MSME को काफी फायदा पहुंचा सकता है, जिसमें मैन्युफैक्चरर से लेकर खुदरा दुकानदार तक का समूचा सप्लाई चेन उनकी उंगलियों पर हो. डॉवर बताते हैं कि सॉल्व के पीछे यही कॉन्सेप्ट है. पेश है उनसे बातचीत के प्रमुख अंश.
    यह भी पढ़ें :  मार्च में 5 कामों को करने से मिलेंगे यह फायदे, जाने सब कुछ

    सवाल : MSME के लिए सबसे बड़ा सकंट क्या है?
    जवाब : आज MSME सेक्टर में जो करीब 300 अरब डॉलर की जो वित्तीय कमी या खाई है उसके संभावित समाधान के रूप बी2बी मार्केट प्लेस उभर रहा है. अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में तकनीक के तेजी से उन्नत होते जाने के बावजूद यह सेक्टर तरक्की के लिए तकनीक का दोहन करने में सक्षम नहीं हो पाया है. MSME सेक्टर का 80 फीसदी से ज्यादा काम असंगठित रूप में होता है, जिनमें डिजिटल लिहाज से कारोबारी कामकाज का पता लगा पाने की संभावना बिल्कुल शून्य होती है. इसकी वजह से भारत में MSME के वित्तपोषण के मामले में काफी खाई है, केवल 4 फीसदी को औपचारिक वित्तीय माध्यमों से कर्ज मिल पा रहा है.

    solv
    सॉल्व (SOLV) के चीफ सेल्स ऑफिसर रोहित डावर.


    सवाल : सॉल्व पर कोई BNPL लोन हासिल करना किस तरह से आसान है और कोई व्यापारी कितने तक के लोन के लिए आवेदन कर सकता है?
    जवाब : सॉल्व का BNPL समाधान B2B क्षेत्र में उपलब्ध फाइनेंस का सबसे तेज और सुविधाजनक तरीका है, खासकर छोटा और पहली बार कर्ज लेने वाले खुदरा दुकानदारों के लिए. SOLV के ऐप पर रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया तेज और सहज है. इस प्लेटफॉर्म पर कोई दुकानदार 2 मिनट के भीतर KYC वेरिफिकेशन प्रक्रिया को पूरी कर लेता है, जिसके बाद वह तत्काल फूड एवं एफएमसीजी, कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स, अपैरल आदि कैटेगिरी में लेनदेन शुरू कर सकता है. यह सुविधा एक तरह के वर्चुअल क्रेडिट कार्ड की तरह काम करती है, जिसमें किसी MSME के लिए 20,000 रुपए से 5,00,000 रुपए तक का लोन तत्काल मंजूर हो जाता है. वे सॉल्व पर 3,000 रुपए मूल्य के सामान से शुरू होकर किसी भी खरीद के लिए इस लोन सीमा का इस्तेमाल कर सकते हैं.
    यह भी पढें : नए वित्त वर्ष में यह काम न करने पर लगेगा दोगुना टैक्स, इसलिए यह रखें सावधानी

    सवाल : सॉल्व जैसे B2B मार्केट प्लेस किस तरह से इस सेक्टर के फाइनेंस को आसान बना रहे हैं?
    जवाब : हमारा यह मानना है कि परंपरागत सप्लाई चेन को डिजिटाइज करने से न केवल छोटेकारोबारों के बीच समूचे वाणि‍ज्य‍िक लेनदेन में बढ़त के लिए नए बाजारों के खुलने का मार्ग प्रशस्त होता है, बल्कि यह इस सेगमेंट को औपचारिक अर्थव्यवस्था में लाने के लिए एक महत्वपूर्ण मोड़ साबित होता है. इस तरह किफायत में ही तरक्की और कार्यशील पूंजी हासिल करने में मदद मिलती है. प्राथमिक रूप से भारत के 60 लाख से ज्यादा की संख्या वाले मजबूत एमएसएमई सेक्टर के बारे में कर्ज देने का निर्णय लेने के लिए डेटा और पर्याप्त जानकारी की कमी की वजह से था. दिलचस्प यह भी है कि ब्लॉक चेन और AI/ML से डिजिटल ट्रस्टइकोसिस्टम मजबूत हुआ है और कई महत्वपूर्ण कार्यों में स्वचालन बढ़ा है. हमने AI/MLके इस्तेमाल का सबसे मजबूत उदाहरण सॉल्व SCORE तैयार करने में देखा है. इसके द्वारा वित्तीय संस्थाओं द्वारा छोटे कारोबारों को कर्ज देने के लिए निर्णय लेने में मदद की जाती है. कई और उल्लेखनीय इस्तेमाल हैं जैसे कि MSME का सही वित्तीय सेवा प्रदाता के साथ जोड़ी बनाना और कॉमर्स प्लेटफॉर्म के सिफारिश व्यवस्था को सशक्त बनाना.
    यह भी पढें : दुनिया के इस बाजार में निवेश करने पर मिलेगा मोटा मुनाफा, जानिए सब कुछ 

    सवाल : महामारी ने इस सेक्टर में नकदी के प्रवाह और मौजूदा कारोबारी निवेश पर भारी दबाव बनाया है. BNPL जैसे B2B इंडस्ट्री उन्हें इस संकट से बाहर निकलने में किस तरह से मदद कर रहे हैं?
    जवाब : इनवाइस से जुड़े शॉर्ट टर्म क्रेडिट समाधान 'बाय-नाउ-पे-लेटर' (BNPL) कार्यक्रम के द्वारा सॉल्व के B2B प्लेटफॉर्म की सुविधा ने MSME को कोविड-19 संकट के दौरान तत्काल बड़ी राहत दी है, ऐसे समय में जब बहुत से छोटे दुकानदार अपनी वित्तीय जरूरतों को पूरा करने के लिए पूंजी और नकदी की तंगी से जूझ रहे थे. अब अपने पास उपलब्ध BNPL के लचीलेपन के साथ छोटे कारोबारी अब बिना किसी गंभीर वित्तीय दबाव को अनुभव किए अपनी तात्कालिक जरूरतों को पूरा कर सकते हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि उन्हें भुगतान करने के लिए ज्यादा समय मिल जाता है.
    यह भी पढें : आईपीओ इस साल निवेशकों को कर रहे हैं मालामाल, इन आईपीओ ने लिस्टिंग के साथ ही 40% का मोटा मुनाफा दिया

    सवाल : क्या सॉल्व ने MSME ग्राहकों को BNPL लोन सुविधा देने के लिए किसी वित्तीय सेवा प्रदाता से समझौता किया है?
    जवाब: सॉल्व की BNPL योजना के द्वारा छोटे कारोबारी अपने दैनिक कामकाजी जरूरत को सुविधाजनक और सक्षम तरीके से पूरा कर सकते हैं. नए जमाने के डिजिटल कर्जदाता इस कॉन्सेप्ट के अगुआ हैं. SOLV ने इस पहल के लिए नए जमाने के तीन कर्जदाताओं- Indifi, ePayLaterऔर Davintaसे संपर्क किया है.
    यह भी पढें : एनपीएस अकांउट में पैसे ट्रांसफर करने का आसान तरीका, जानिए नई सुविधा की डिटेल 

    सवाल : BNPL उत्पाद के लिए सॉल्व की सोच क्या है?
    जवाब : B2B सेगमेंट में हमारी सबसे नई पेशकश BNPL का हमारे 35,000 से ज्यादा MSME खरीदारों और विक्रेताओं ने स्वागत किया है. यह उत्पाद उनको सुविधा और वित्तीय लचीलापन दोनों प्रदान करता है, जिससे कि इस चुनौतीपूर्ण समय में भी वे तरक्की कर सकते हैं. ट्रेंड के हिसाब से तो ऐसा लगता है कि 2021 के अंत तक हर तीन में से एक MSME इस उत्पाद का उपयोग करेगा. ऐसी उम्मीद है कि साल 2021 में सॉल्व के कारोबार में 100 करोड़ रुपए से ज्यादा का योगदान BNPL का होगा.undefined

    Tags: Business loan, Business-to-business (B2B), E-commerce industry, MSME Sector

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर