MTNL, BSNL के विलय पर चल रहा काम, अंतिम फैसला मंत्रिमंडल करेगा

दूरसंचार विभाग (DoT) नकदी संकट से जूझ रही सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनियों MTNLऔर BSNL के विलय पर काम कर रहा है.

News18Hindi
Updated: July 30, 2019, 6:23 PM IST
MTNL, BSNL के विलय पर चल रहा काम, अंतिम फैसला मंत्रिमंडल करेगा
MTNL, BSNL के विलय पर चल रहा काम, मंत्रिमंडल लेगा फैसला
News18Hindi
Updated: July 30, 2019, 6:23 PM IST
दूरसंचार विभाग (DoT) नकदी संकट से जूझ रही सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनियों महानगर टेलीफोन निगम लि. (MTNL) और भारत संचार निगम लि. (BSNL) के विलय पर काम कर रहा है. एक सूत्र ने मंगलवार को कहा कि विभाग इन कंपनियों को फिर खड़ा करने की कोशिश कर रहा है. मामले से जुड़े एक सूत्र ने कहा कि इन कंपनियों को पटरी पर लाने के लिए जिन चीजों पर विचार किया जा रहा है उनमें विलय भी एक है. इस बारे में अंतिम फैसला केंद्रीय मंत्रिमंडल करेगा.

विलय कदम इस लिहाज से महत्वपूर्ण है कि MTNL और BSNL को लगातार घाटा हो रहा है और हाल के समय में उन्हें अपने कर्मचारियों के वेतन का भुगतान करने में भी दिक्कतें आयी हैं.

सूत्र ने कहा, कुल पुनरोद्धार योजना में विलय का विकल्प भी शामिल है. इसकी वजह यह है कि बीएसएनएल अपने दम पर अस्तित्व बनी नहीं रह पाएगी. इस पर अंतिम फैसला मंत्रिमंडल को करना है.
उसने कहा कि योजना यह है कि MTNL का BSNL में विलय कर दिया जाए. MTNL दिल्ली और मुंबई में टेलीफोनी सेवाएं देती है, जबकि शेष सर्किलों में BSNL सेवाएं देती है.

रिवाइवल पैकेज पर चल रहा काम
दूरसंचार विभाग इन कंपनियों के ‘बचाव’ के लिए रिवाइवल पैकेज पर काम कर रहा है. इसमें स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (VRS), संपत्ति का मौद्रिकरण और 4जी स्पेक्ट्रम का आवंटन जैसे विकल्प हैं.

ये भी पढ़ें: Alert! अब क्रिप्टोकरेंसी रखने पर हो सकती है जेल या लग सकता 25 करोड़ का जुर्माना
Loading...

BSNL का घाटा बढ़कर 14202 करोड़ हुआ
संसद में दी गई सूचना के अनुसार बीएसएनएल का घाटा 2018-19 में बढ़कर 14,202 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है. आलोच्य वित्त वर्ष में कंपनी का राजस्व 19,308 करोड़ रुपये रहा. एक अप्रैल, 2019 को बीएसएनएल का नेटवर्थ 34,276 करोड़ रुपये (लेखा परीक्षण के बिना और अस्थायी) था. वहीं एमटीएनएल का नेटवर्क नकारात्मक 9,735 करोड़ रुपये था.

BSNL की आमदनी का 75% सैलरी पर खर्च
बीएसएनएल के कर्मचारियों की संख्या 1,65,179 है. कंपनी की कुल आमदनी में से कर्मचारियों के वेतन भुगतान की लागत 75 प्रतिशत बैठती है.

वहीं निजी क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी भारती एयरटेल के कर्मचारियों की संख्या 20,000 है और कर्मचारियों की लागत कंपनी की आय का मात्र 2.95 प्रतिशत है. इसी तरह वोडाफोन के कर्मचारियों की संख्या 9,883 है और कर्मचारियों की लागत उसकी आय का 5.59 प्रतिशत बैठती है.

ये भी पढ़ें: पेटीएम शुरू करेगी नई सर्विस, घर बैठे मिलेगा पैसे कमाने का मौका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 30, 2019, 6:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...