कोरोना संकट के बावजूद भी पटरी पर देश का पहला बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट, 2023 तक पूरी होने की उम्मीद

कोरोना संकट के बावजूद भी पटरी पर देश का पहला बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट, 2023 तक पूरी होने की उम्मीद
बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के लिए करीब 60 फीसदी भूमि अधिग्रहण का काम पूरा हो गया है.

देश के पहले बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट (Bullet Train Project) का काम पटरी पर है और उम्मीद की जा रही है कि तय समय के अंदर ही इसे पूरा कर लिया जाएगा. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन का कहना है कि मौजूदा संकट के बीच भी इस प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है.

  • Share this:
मुंबई. Bullet Train Project Mumbai-Ahmedabad: अहमदाबाद-मुंबई के बीच देश की पहली बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट कोरोना वायरस महामारी के बावजूद भी समय पर चल रही है. मौजूदा संकट के बीच भी अब उम्मीद है कि इस प्रोजेक्ट को तय समय में ही पूरा कर लिया जाएगा. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके सिंह ने यह कहा है. मुंबई से अहमदाबाद के बीच इस हाई-स्पीड कॉरिडोर (Mumbai-Ahmedabad High Speed Coridor) को दिसंबर 2023 तक पूरा किया जाना है. हालांकि, देश के इस पहले बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के बीच कई अड़चनें भी आई हैं. जैसे भूमि अधिग्रहण को लेकर विरोध, जापानी करंसी येन और भारतीय रुपये में बढ़ते अंतर की वजह से प्रोजेक्ट कॉस्ट बढना आदि.

जापान इंटरनेशनल को-ऑपरेशन एजेंसी (JICA) 20 साल के लिए 1 लाख करोड़ रुपये का 80 फीसदी लोन के ​रूप में दे रही है ताकि इस प्रोजेक्ट को पूरा किया जा सके. इस बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट पर नेशनल हाई-स्पीड रेल कॉरपोरेशन (NHSRCL) काम कर रही है.

रिपोर्ट के मुताबिक, NHSRCL ने प्रोजेक्ट के सीविल वर्क का 68 फीसदी शुरू कर दिया है. यानी कुल 508 किलोमीटर के रूट पर करीब 345 किलोमीटर पर यह काम जारी है. बुलेट ट्रेन कॉरिडोर के लिए महाराष्ट्र में करीब 28 स्टील ब्रिज का अलग टेंडर (Steel Bridge Tender for Bullet Train) निकाला गया है.



यह भी पढ़ें: रेलमंत्री पीयूष गोयल का आया बड़ा बयान! कहा- 'नहीं होगा रेलवे का निजीकरण'
जमीन अधिग्रहण का 60 फीसदी काम पूरा
NHSRCL के मुताबिक, इस हाई-स्पीड रेल प्रोजेक्ट के लिए जरूरी ज्वाइंट लैंड सर्वे पूरा होने की कगार पर है. कॉरपोरेशन ने इस कॉरिडोर के लिए करीब 60 फीसदी जमीन का अधिग्रहण भी पूरा कर लिया है. इसमें गुजरान में 77 फीसदी, दादर नगर हवेली में 80 फीसदी और महाराष्ट्र से 22 फीसदी जमीन अधिग्रहण शामिल है.

फिजिकल काम शुरू होना अभी भी बाकी
रेलवे बोर्ड के चेयरमैन के अनुसार, बुलेट ट्रने प्रोजेक्ट पर ​फिजिकल काम शुरू होना अभी भी बाकी है. हालांकि, वर्तामान में टेंडरिंग प्रक्रिया को पूरा किया जा रहा है और भूमि अधिग्रहण का काम भी चल रहा है. बिडर्स के सवालों का जवाब देने के लिए प्री-बिडिंग बैठक भी लॉकडाउन के दौरान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए की गई है.

यह भी पढ़ें: अब बिना किसी Document के बनवा सकेंगे Aadhaar Card, UIDAI ने शुरू की नई सर्विस

2 घंटे में पहुंच सकेंगे मुंबई से अहमदाबाद
बता दें कि मुंबई से अहमदाबाद के बीच 508 किलोमीटर के कॉरिडोर पर बुलेट ट्रेन की रफ्तार करीब 300 किलोमीटर प्रति घंटे की होगी. कहा जा रहा है कि इस बुलेट ट्रेन के शुरू होने के बाद दोनों शहरों के बीच की दूरी महज 2 घंटे में ही पूरी की जा सकेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज