मुंबई में घर बनाना सबसे महंगा, चेन्‍नई और हैदराबाद में सबसे सस्ता, जानिए दूसरे मेट्रो शहरों की क्या है स्थिति

मंबई स्थित गेटवे ऑफ इंडिया

जेएलएल इंडिया (JLL India) की रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली, बेंगलुरु, चैन्नई, पुणे और हैदराबाद की तुलना में मायानगरी मुंबई में कंस्ट्रक्शन लागत 10 फीसदी ज्यादा है.

  • Share this:
मुंबई. अपने सपनों का घर बनाने की इच्छा सभी के मन में होती है. घर बनाने के लिए लोग अपने वर्षों की कमाई लगाते हैं. बजट पूरा नहीं हो पाने की स्थिति में बैंकों या वित्तीय संस्थाओं से भी कर्ज लेते हैं. लेकिन कभी-कभी इन तमाम व्यवस्थाओं के बावजूद कई लोगों का घर बनाने का सपना पूरा नहीं हो पाता. इसका सबसे बड़ा कारण जमीन की बढ़ती कीमत और कंस्ट्रक्शन लागत में लगातार हो रही बढ़ोतरी है. कंस्ट्रक्शन लागत पर आई एक रिपोर्ट के मुताबिक देश के छह बड़े मेट्रो शहरों में से आर्थिक राजधानी मुंबई में अपना आशियाना बनाने में सबसे अधिक कंस्ट्रक्शन लागत आती है.

जेएलएल इंडिया (JLL India) की रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली, बेंगलुरु, चैन्नई, पुणे और हैदराबाद की तुलना में मायानगरी मुंबई में कंस्ट्रक्शन लागत 10 फीसदी अधिक है जबकि हैदराबाद और चैन्नई में कंस्ट्रक्शन कोस्ट मुंबई की तुलना में 14 फीसदी सस्ता है.

मुंबई में घर बनाने में औसतन होता है इतना खर्च
मुंबई में अपना घर बनाने या खरीदने का सपना करोड़ों लोगों के दिल में होता है. लाखों लोग अपने इस सपने को पूरा करने के लिए जी तोड़ मेहनत भी करते हैं. एक रिपोर्ट की माने तो मुंबई में गगनचुंबी इमारतों में लग्जरी रेसिडेंशियल अपार्टमेंट के लिए औसतन कंस्ट्रक्शन कोस्ट 5,625 रुपये स्क्वायर फीट होता है जबकि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 4,950 रुपये और पुणे में 4,905 रुपये प्रति स्क्वायर फीट होता है. मुंबई में कंस्ट्रक्शन कोस्ट अधिक होने के पीछे मुख्य कारण सीमेंट, स्टील और पत्थरों की ऊंची कीमत है. वहीं हैदराबाद में हाई राइज बिल्डिंग के लिए औसतन कंस्ट्रक्शन कोस्ट 4,275 रुपये प्रति स्क्वायर फीट है. तुलनात्मक कम ऊंची या मिड राइज लग्जरी अपार्टमेंट के लिए मुंबई में कंस्ट्रक्शन कोस्ट 3,875 रुपये है जबकि दिल्ली में यह 3,410 रुपये है. जबकि मुंबई में मिडियम राइज कमर्शियल बिल्डिंग के लिए कंस्ट्रक्शन कोस्ट 3,250 रुपये प्रति स्क्वायर फीट होगा.

ये भी पढ़ें- रेलवे को ट्रेवल टाइम कम करने की नई तकनीक से हुआ बड़ा फायदा, जानिए किन ट्रेनों की स्पीड बढ़ेगी

दिल्ली में 2,860 रुपये और हैदराबाद में 2,470 रुपये प्रति स्क्वायर फीट होगा. दिल्ली और पुणे में मिडियम राइज कमर्शियल बिल्डिंग के लिए कंस्ट्रक्शन कोस्ट लगभग बराबर है. इसी तरह मुंबई में हाई राइज कमर्शियल बिल्डिंग के लिए कंस्ट्रक्शन कोस्ट 3,875 रुपये, दिल्ली में 3,410 रुपये और पुणे में 3,379 रुपये प्रति स्क्वायर फीट होगा. वहीं हैदराबाद में सबसे कंस्ट्रक्शन कोस्ट सबसे सस्ता 2,945 रुपये प्रति स्क्वायर फीट होगा.

कंस्ट्रक्शन कोस्ट पर भी कोरोना की पड़ी काली छाया
कोरोना के फैलाव को रोकने के लिए सरकार ने लॉकडाउन की घोषणा की थी. आर्थिक गतिविधियां ठप्प पड़ गई थी. लोग अपनी जरुरतों के सामानों को स्थानीय बाजारों से खरीद कर रहे थे. देश के कई हिस्सों में आज भी लोग अपने आस-पास के दुकानों, एजेंसियों और शोरूम में उपलब्ध सामानों की खरीददारी करने में ज्यादा दिलचस्पी ले रहे हैं. इससे सामानों की लागत बढ़ी. इसी कड़ी में कंस्ट्रक्शन के लिए इस्तेमाल होने वाले सामानों के दाम भी कोरोना काल में 5-6 फीसदी बढ़ गए. यह बढ़ोत्तरी खासकर ग्रीन फील्ड और इंटीरियर फिट आउट प्रोजेक्ट में देखने को मिला. कंस्ट्रक्शन सामानों की उपलब्धता जहां पहले दिखी वेंडरों ने ऊंची कीमत पर वहीं से खरीददारी की. यहीं नहीं कोरोना की वजह से क्वारंटीन सुविधा, सेनिटेशन, थर्मल स्कैनिंग सहित कई स्वास्थ्य और सुरक्षा के लिए ऐहतियातन कदम उठाए गए जिसका असर लागत पर दिख रहा है.

ये भी पढ़ें : नौकरी की बात : अगले पांच साल में इस क्षेत्र में होंगे 7.5 करोड़ जॉब्स, बस करनी होगी यह तैयारी

रिपोर्ट में जिक्र किया गया है कि कोरोना काल में स्किल्ड मजदूरों की भी भारी कमी का सामना रियल एस्टेट सेक्टर कर रहा है. इसके अलावा आयातित सामानों की अनुपलब्धता भी कंस्ट्रक्शन कोस्ट बढ़ाने में बड़ी हिस्सेदारी रही. पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोत्तरी, ट्रांसपोर्टेशन कोस्ट में इजाफा होने से भी कंस्ट्रक्शन लागत में बढ़ोत्तरी देखने को मिल रही है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.