साल 2021 के अंत तक अपने शेयर बेचकर 350 करोड़ रुपये जुटाएगी मुथूट माइक्रोफिन

वर्तमान में मुथूट 17 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों  में काम कर रही है.

वर्तमान में मुथूट 17 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में काम कर रही है.

मुथूट माइक्रोफिन को मार्च 2022 तक उसकी एसेट्स अंडर मैनेजमेंट (AUM) 6500 करोड़ रुपये और अगले वित्त वर्ष में 8000 करोड़ रुपये होने की उम्मीद है. मार्च 2020 के अंत में कंपनी का एयूएम छह प्रतिशत बढ़कर 4232 करोड़ रुपये से 5227 करोड़ रुपये हो गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 25, 2021, 8:00 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. मुथूट माइक्रोफिन (Muthoot Microfin) अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए  350 करोड़ रुपये जुटाने की योजना पर काम कर रही है. इसके लिए कंपनी इस साल के अंत तक अपने शेयर (Share) बेचेगी. मुथूट माइक्रोफिन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सदाफ सईद (Sadaf Sayeed) ने बताया कि हम लगभग 350 करोड़ रुपये की पूंजी जुटा रहे हैं. उन्होंने कहा कि दिसंबर 2021 तक हम निजी प्लेसमेंट के जरिये निवेशक जुटाएंगे. वर्तमान में यूएस बेस्ड निवेशक क्रिएशन इन्वेस्टमेंट (US-based investor Creation Investments) के पास कंपनी की 11.4 प्रतिशत हिस्सेदारी है, जो बोर्ड पोजिशन पर है. उन्होंने आगे कहा कि कैपिटल इन्फ्यूजन से कंपनी को न केवल अपनी बैलेंस शीट को मजबूत करने में मदद मिलेगी, बल्कि इससे हम विस्तार भी कर पाएंगे.



उत्तराखंड में भी प्रवेश करेगी कंपनी

सदाफ सईद ने बताया कि वर्तमान में कंपनी 17 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में काम कर रही है. वहींं, अब कंपनी की योजना उत्तराखंड में भी प्रवेश करने की है. कोरोना महामारी के दौरान भी कंपनी ने अपने 2300 कर्मचारियों को काम पर रखा, क्योंकि देश के विभिन्न हिस्सों में 64 नए कार्यालय खोले.  



ये भी पढ़ें - Tesla मुंबई में खोलेंगी अपना 1st Showroom, जानिए कब होगी ओपनिंग


एयूएम 8000 करोड़ की उम्मीद

कंपनी को मार्च 2022 तक उसकी एसेट्स अंडर मैनेजमेंट (AUM) 6500 करोड़ रुपये और अगले वित्त वर्ष में 8000 करोड़ रुपये होने की उम्मीद है. मार्च 2020 के अंत में कंपनी का एयूएम छह प्रतिशत बढ़कर 4232 करोड़ रुपये से 5227 करोड़ रुपये हो गया. लॉकडाउन का संग्रह पर प्रभाव पड़ेगा और अस्थायी आधार पर गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (NPA) में वृद्धि हो सकती है. एक बार स्थिति में सुधार होने के बाद व्यवसाय और संग्रह सामान्य होना चाहिए जैसा कि हमने पिछले साल अनुभव किया था.  



ये भी पढ़ें - SBI Alert! लाइफ सेविंग मेडिसिन के नाम पर आ रहा कॉल तो हो जाएं सावधान, पेमेंट करने पर खाली न हो जाए खाता





19 लाख से अधिक महिला उद्यमी


मार्च 2021 के अंत में माइक्रो फाइनेंस संस्था का पूंजी पर्याप्तता अनुपात 26.75 प्रतिशत था. कंपनी का कहना है कि वर्तमान में यह देश में छटी सबसे बड़ी एनबीएफसी-एमएफआई है जिसके सक्रिय ग्राहक के रूप में 19 लाख से अधिक महिला उद्यमी हैं. 


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज