• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • शेयरों में म्यूचुअल फंड निवेश 10 महीनों में आधा घटकर ₹55,700 करोड़ रहा, जानें वजह?

शेयरों में म्यूचुअल फंड निवेश 10 महीनों में आधा घटकर ₹55,700 करोड़ रहा, जानें वजह?

SEBI के आंकड़े के अनुसार फंड प्रबंधकों ने पिछले साल जनवरी-अक्टूबर के दौरान 1.12 लाख करोड़ रुपये मूल्य के शेयर खरीदे थे.

SEBI के आंकड़े के अनुसार फंड प्रबंधकों ने पिछले साल जनवरी-अक्टूबर के दौरान 1.12 लाख करोड़ रुपये मूल्य के शेयर खरीदे थे.

SEBI के आंकड़े के अनुसार फंड प्रबंधकों ने पिछले साल जनवरी-अक्टूबर के दौरान 1.12 लाख करोड़ रुपये मूल्य के शेयर खरीदे थे.

  • Share this:
    नई दिल्ली. शेयर बाजारों (Share Markets) में म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) निवेश साल के पहले 10 महीनों में आधा घटकर 55,700 करोड़ रुपये रहा. इसका कारण खुदरा निवेशकों (Retail Investors) की म्यूचुअल फंड में भागीदारी का कम होना है. भारतीय प्रतिभूति एवं अपीलीय बोर्ड (SEBI) के आंकड़े के अनुसार फंड प्रबंधकों ने पिछले साल जनवरी-अक्टूबर के दौरान 1.12 लाख करोड़ रुपये मूल्य के शेयर खरीदे थे.

    म्यूचुअल फंड की तरफ से शेयर बाजारों में कम हुआ निवेश- प्राइम इनवेस्टर डाट इन के सह-संस्थापक विद्या बाला ने कहा, खुदरा निवेशकों का म्यूचुअल फंड में निवेश एक साल पहले की समान अवधि की तुलना में कम हुआ है. इसके परिणामस्वरूप म्यूचुअल फंड की तरफ से शेयर बाजारों में निवेश कम हुआ है.

    उन्होंने कहा, बाजार के नई ऊंचाई पर पहुंचने के साथ खुदरा निवेशकों ने अपनी संपत्ति पर कोई सकारात्मक प्रभाव नहीं पाया. इसका कारण तेजी का कुछ चुनिंदा शेयरों तक सीमित रहना है. जबतक खुदरा निवेशक निवेश के लिये आगे नहीं आते, आने वाले समय में यह प्रवृत्ति बनी रह सकती है.

    ये भी पढ़ें: 18 नवंबर से चलेगी रामायण एक्सप्रेस, इन स्टेशनों से होकर गुजरेगी

    जुलाई-सितंबर के दौरान हुए ज्यादातर निवेश- सैमको में म्यूचुअल फंड डिस्ट्रिब्यूशन कारोबार के प्रमुख ओमकेश्वर सिंह ने कहा कि हालांकि प्रति महीने शेयरों में निवेश सकारात्मक रहा है, लेकिन अगर हम ‘सिस्टैमेटिक इनवेस्टमेंट प्लान’ (SIP) प्रवाह को हटा दें, यह प्रवाह नकारात्मक हो जाता है. यानी निवेश कम हुआ है. SIP के जरिये निवेशक निश्चित राशि निश्चित अवधि पर लगाते हैं.

    इस साल कुल 55,700 करोड़ रुपये के निवेश में से ज्यादातर निवेश जुलाई-सितंबर के दौरान हुए. फंड प्रबंधकों ने इस दौरान शुद्ध रूप से 43,500 करोड़ रुपये का निवेश किया. वहीं विदेशी निवेशकों ने इन तीन महीनों में 22,400 करोड़ रुपये की निकासी की.

    ये भी पढ़ें: 
    घरेलू उद्योग को बढ़ावा देने के लिए मोदी सरकार ने उठाया बड़ा कदम, NOC की जरूरत नहीं
    LIC पॉलिसीधारकों के लिए बड़ी खबर! 30 नवंबर से बंद हो रहे हैं दो दर्जन से ज्यादा प्लान, जानें पूरा मामला
    आपका भी है SBI में खाता तो जान लें ये बात, नहीं तो हो सकता है घाटा
    1 दिसंबर से अनिवार्य हो जाएगा Fastag, जानिए इसे कहां से खरीदें और क्या हैं फायदे

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज