Home /News /business /

Mutual Fund में इन्वेस्ट के दौरान ये गलतियां पड़ सकती हैं भारी, जानें डिटेल्स

Mutual Fund में इन्वेस्ट के दौरान ये गलतियां पड़ सकती हैं भारी, जानें डिटेल्स

पहली बार निवेशकों के लिए बेहतर है कि वे संतुलित फंडों में निवेश करें.

पहली बार निवेशकों के लिए बेहतर है कि वे संतुलित फंडों में निवेश करें.

म्यूचुअल फंड्स के बारे में अच्छी तरह से स्टडी करके, एक्सपर्ट की सलाह लेकर निवेश करेंगे तो निश्चित ही आपको अच्छा रिटर्न मिलेगा और जोखिम भी कम होगी. लेकिन कई बार जानकार लोग भी ऐसी गलतियां कर बैठते हैं जिसके चलते उन्हें नुकसान उठाना पड़ता है.

अधिक पढ़ें ...

Mutual Fund Investment Tips: म्यूचुअल फंड (Mutual Funds) हमेशा से ही निवेश का एक बेहतर ऑप्शन रहा है. कम रिस्क में ज्यादा मुनाफे के लिए निवेशक इसे पसंद करते हैं. सरकारी योजनाओं में निवेश के मुकाबले म्यूचुअल फंड में ज्यादा रिटर्न मिलता है. 5-7 साल के निवेश पर म्यूचुअल फंड 12 से 15 फीसदी तक का रिटर्न मिल जाता है. लेकिन, म्यूचुअल फंड निवेश में जोखिम (Investment Risk) होता है.

सही जानकारी के बिना निवेश करने पर लोगों को बड़ा नुकसान भी उठाना पड़ सकता है. इसलिए इसमें निवेश करने से म्यूचुअल फंड में निवेश करने से पहले अच्छी तरह से जानकारी लेना बहुत जरूरी है. अगर आप म्यूचुअल फंड्स के बारे में अच्छी तरह से स्टडी करके, एक्सपर्ट की सलाह लेकर निवेश करेंगे तो निश्चित ही आपको अच्छा रिटर्न मिलेगा और जोखिम भी कम होगी. लेकिन कई बार जानकार लोग भी ऐसी गलतियां कर बैठते हैं जिसके चलते उन्हें नुकसान उठाना पड़ता है.

यह भी पढ़ें- Google के साथ साझेदारी पर Airtel ने कहा- ‘अपना स्मार्टफोन लाने का कोई प्लान नहीं’

धैर्य और समय
म्यूचुअल फंड में निवेश कम समय के लिए कभी भी फायदेमंद नहीं होता है. म्यूचुअल फंड में निवेश धैर्य और जोखिम की बेहतर समझ की मांग करता है. एक्सपर्ट कहते हैं कि म्यूचुअल फंड में कम से कम 7 साल के लिए निवेश करना चाहिए. बाजार की रैली से उत्साहित होकर निवेशक को म्युचुअल फंड (MF) के इक्विटी सेगमेंट में बड़ा निवेश नहीं करना चाहिए. म्यूचुअल फंड में निवेश करने पर ज्यादातर लोग गलती करते हैं कि वे बाजार में तेजी पर निवेश कर देते हैं. इस गलती से बचना चाहिए.

कम जोखिम वाले फंड
पहली बार निवेशकों के लिए बेहतर है कि वे संतुलित फंडों में निवेश करें. नए निवेशकों को ऐसे फंडों में निवेश करना चाहिए जहां जोखिम कम हो. प्योर इक्विटी फंड से कम उतार-चढ़ाव होता है. म्यूचुअल फंड में ज्यादातर लोग मिड और स्मॉल कैप में निवेश करना पसंद करते हैं. इन फंडों में जोखिम और नुकसान का खतरा बढ़ जाता है. ये रिटर्न तो ज्यादा देते हैं लेकिन, यह बाजार जोखिमों पर ज्यादा निर्भर करते हैं.

यह भी पढ़ें- iPhone का जबरदस्त फीचर! मास्क पहनकर भी अनलॉक कर सकेंगे अपना फोन, जानें कैसे

बड़ी रकम निवेश ना करें
इक्विटी में बड़ी रकम निवेश करने से बचना चाहिए. बाजार में गिरावट आपको मुश्किल में खड़ी कर देता है. नए निवेशक थोड़ा नुकसान होने पर घबरा जाते हैं. ऐसे में ये निवेशक अपना पैसा निकालने का फैसला करते हैं, जिससे उन्हें नुकसान उठाना पड़ता है. इसलिए, इक्विटी ओरिएंटेड फंडों में निवेश सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान के जरिए किया जाना चाहिए.

मार्केट के उतार चढ़ाव से घबराना
कई बार लोग बाजार के उतार-चढ़ाव को देखकर बहुत ज्यादा घबरा जाते हैं. ऐसा करने से बिल्कुल बचें. घबराहट में लोग कई बार लोग SIP (Systematic Investment Plan) रोक देते हैं. यह बहुत बड़ी गलती है जिसे करने से आपको बचना चाहिए.

आमतौर पर मार्केट में गिरावट पर SIP का रिटर्न गिरने लगता है. ऐसे में कुछ निवेशक घबरा जाते हैं. जबकि, SIP लंबी अवधि में दमदार रिटर्न देती है. इसलिए गिरावट के बाजूवद SIP को बनाए रखना चाहिए. SIP को कभी भी ट्रेडिंग के हिसाब से नहीं देखना चाहिए.

Tags: Investment tips, Mutual funds, Share market, Stock market

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर