रोजाना सिर्फ 50 रुपये बचाकर पा सकते हैं 10 लाख रुपये, ये है आसान तरीका

आइए जानते हैं 50 रुपये की रोजाना बचत कर कैसे बना सकते हैं 10 लाख रुपये का फंड?

News18Hindi
Updated: August 25, 2019, 2:57 PM IST
रोजाना सिर्फ 50 रुपये बचाकर पा सकते हैं 10 लाख रुपये, ये है आसान तरीका
रोजाना सिर्फ 50 रुपये बचाकर पा सकते हैं 10 लाख, ये है तरीका
News18Hindi
Updated: August 25, 2019, 2:57 PM IST
आप रोजाना कुछ पैसे बचाकर निवेश (Invest) करना शुरू करें तो यह एक तय समय बाद आपको मोटा मुनाफा दे सकता है. अगर आप सोच रहे हैं कि 50 रुपये की रोज बचत (Saving) करके क्या 10 लाख रुपये (Rs 10 Lakh) तैयार किया जा सकता है, तो ऐसा संभव है. अगर आप सही योजना (Scheme) में रोज के कुछ बचाकर निवेश (Invest) करना शुरू करें तो एक तय समय बाद आप लखपति बन सकते हैं. इसमें म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) की बेहतर स्कीम आपकी मदद कर सकता है. इसमें सबसे अच्छी बात यह है कि रोज 50 रुपये की बचत से आप पर ज्यादा वित्तीय दबाव (Financial Burden) भी नहीं पड़ेगा और अपने सभी खर्चों के बाद भी आसानी से इतनी बचत कर सकते हैं. आइए जानते हैं 50 रुपये की रोज बचाकर कैसे बना सकते हैं 10 लाख रुपये का फंड?

ऐसे बनेगा 10 लाख का फंड
अगर आप रोजाना 50 रुपये की बचत करते हैं तो यह महीने में 1,500 रुपये होगा. आपको हर महीने 1,500 रुपये बेहतर म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) की स्कीम में SIP के जरिए निवेश करना होगा. यह निवेश आपको 15 साल तक करना होगा. बाजार में ऐसे कई म्यूचुअल फंड हैं, जिन्होंने पिछले 15 साल में 15 फीसदी सालाना की दर से रिटर्न दिया. अगर इतना ही रिटर्न आपको मिलता रहे तो 15 साल बाद आपके पास 10 लाख रुपये का फंड तैयार हो जाएगा.

इतना होगा फायदा

अगर आप किसी म्यूचुअल फंड स्कीम में 15 साल तक निवेश करते हैं तो आपका कुल निवेश 2,70,000 रुपये होगा. वहीं आपकी एसआईपी की कुल वैल्यू 10,02,760 रुपये होगी. यानी आपको 7,32,760 रुपये का फायदा होगा. ये भी पढ़ें: 1 सितंबर से होंगे ये बड़े बदलाव, जानिए आपकी जेब पर कैसे पड़ेगा असर?



इन फंड ने दिए हैं 15% तक रिटर्न
Loading...

म्यूचुअल फंड रिटर्न की बात करें तो कुछ बेहतर स्कीम्स ने 15 साल में 15 फीसदी तक रिटर्न दिए हैं. L&T मिडकैप फंड ने 15 साल में 14.48 फीसदी, फ्रैंकलिन इंडिया प्राइमा फंड ने 14.40 फीसदी, आदित्य ने 13.07 फीसदी तक रिटर्न दिए है.

ऐसे निकाल सकते हैं एक्सपेंस रेश्यो
यह रेश्यो (अनुपात) है जो म्यूचुअल फंड के प्रबंधन (मैनेजमेंट) पर आने वाले खर्च को प्रति यूनिट के रूप में बताता है. किसी म्यूचुअल फंड का एक्सपेंस रेश्यो निकालने के लिए उसकी कुल संपत्ति (एसेट अंडर मैनेजमेंट यानी AUM) में कुल खर्च से भाग दिया जाता है.

ये भी पढ़ें: SBI में एफडी कराने वालों के लिए बड़ी खबर, ये फॉर्म नहीं जमा करने पर कम हो जाएगा मुनाफा

SIP के जरिए करें निवेश
SIP, म्‍युचुअल फंड में निवेश का सबसे अच्‍छा तरीका है. इस माध्‍यम से निवेश की अच्‍छी एवरेजिंग हो जाती है, जिससे निवेश में खतरा घट जाता है और अच्‍छे रिटर्न की संभावना बढ़ जाती है. म्‍युचुअल फंड में SIP शुरू करने के बाद जरूरी नहीं है कि आप तय समय तक ही निवेश करें. इस निवेश को आप जब भी चाहें रोक सकते हैं. ऐसा करने पर कोई पेनाल्‍टी नहीं लगती है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 25, 2019, 2:05 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...