निवेश का बेहतर विकल्प है फंड ऑफ फंड्स, जानें इसके बारे में सबकुछ

निवेश का बेहतर विकल्प है फंड ऑफ फंड्स, जानें इसके बारे में सबकुछ
क्या होता है फंड ऑफ फंड्स

फंड ऑफ फंड एक प्रकार का म्यूचुअल फंड है, जो अन्य म्यूचुअल फंडों की इकाइयों में निवेश करता है, लेकिन यह इंडेक्स फंड्स और एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) तक सीमित नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 14, 2020, 1:42 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. वर्ष 2014 - 2017 की अवधि में केंद्र सरकार की नीतियों ने मिडकैप शेयरों को काफी प्रोत्साहन प्रदान किया है. इस दौरान निफ्टी मिडकैप 150 इंडेक्स 31 फीसदी प्रति वर्ष की दर से बढ़ा, निफ्टी नेक्स्ट 50 जो छोटे 50 लार्ज कैप शेयरों के प्रदर्शन को कैप्चर करता है इसने भी 26 फीसदी प्रति वर्ष का रिटर्न दिया. जबकि निफ्टी 50 प्रमुख फ्लैग बर्नर ब्लूचिप स्टॉक ने केवल 15 फीसदी प्रति वर्ष की वृद्धि की.

मिराए एसेट इन्वेस्टमेंट मैनेजर्स इंडिया (Mirae Asset Investment Managers India) के हेड ईटीएफ प्रोडक्ट्स सिद्धार्थ श्रीवास्तव का कहना है कि हालांकि, बाद के वर्षों में 2017 से 2019 तक हमने देखा है कि कुछ मिडकैप में कॉर्पोरेट गवर्नेंस मुद्दों के कारण मिडकैप में तेज सुधार देखे गए, आईएंडएफएस डेट असफलता के बाद गैर-बैंकिंग वित्त कंपनियों के बीच तरलता की समस्या और निजी खपत में मंदी अर्थव्यवस्था में देखने को मिल रही है. इस अवधि के लिए निफ्टी 50 प्रतिवर्ष 19 फीसदी की सालाना दर से बढ़ा. जबकि निफ्टी नेक्स्ट50 और निफ्टी मिडकैप 150 इंडेक्स ने क्रमश: -6 फीसदी और -12 फीसदी का रिटर्न दिया.

उपरोक्त उदाहरण आवश्यक विशेषता को प्रदर्शित करते हैं कि बाजार के विभिन्न खंड अलग-अलग बाजार चक्र में विशिष्ट प्रदर्शन करते हैं. उदाहरण के लिए, वैश्विक वित्तीय संकट के समय और इसके बाद की रिकवरी को देखते हुए 2014 से पहले की अवधि के लिए भी इसी तरह का अवलोकन किया जा सकता है. इस प्रकार, धन कोष में अस्थिरता से बचने के लिए बाजार के विभिन्न खंडों में अपने निवेश में महत्वपूर्ण विविधता लाना आवश्यक है.



यह भी पढ़ें- नॉन-गैजेटेड रेलवे कर्मचारियों को बोनस देगी सरकार? जानें क्या है सच्चाई
सिद्घार्थ श्रीवास्तव के अनुसार हालांकि, इक्विटी के भीतर आवंटन का निर्णय निवेशकों के सामने कई प्रश्नों को खड़ा कर सकता है कि जैसे मुझे किस मार्केट सेगमेंट में निवेश करना चाहिए? प्रत्येक खंड को मेरा आवंटन क्या होना चाहिए? मैं अपने आवंटन को कब रिबैलेंस करूं? मुझे कितने फंडों में निवेश करने की आवश्यकता है? क्या फंड को अच्छी तरह से विविधता के साथ चुना गया है? मैं पोर्टफोलियो की लागत कैसे कम रखूं?

सिद्घार्थ श्रीवास्तव के अनुसार इक्विटी सेगमेंट के भीतर आवंटन का प्रबंधन करने के लिए एक सुविधाजनक तरीका प्रदान करके उपरोक्त प्रश्नों के उत्तर प्रदान करने के लिए फंड ऑफ फंड एक प्रभावी निवेश विकल्प हो सकता है. फंड ऑफ फंड एक प्रकार का म्यूचुअल फंड है, जो अन्य म्यूचुअल फंडों की इकाइयों में निवेश करता है, लेकिन यह इंडेक्स फंड्स और एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ETFs) तक सीमित नहीं है. कई योजनाओं में निवेश करने से, फंड ऑफ फंड एक निवेशक को कई बाजार क्षेत्रों या रणनीतियों के लिए एक ब्रोडर एक्सपोजर प्रदान कर सकता है और इससे बेहतर रिटर्न मिलने की भी संभावना है. उदाहरण के लिए, फंड ऑफ फंड कई योजनाओं के माध्यम से लार्ज कैप और मिडकैप इक्विटी सेगमेंट में निवेश कर सकता है और विविधीकरण के कारण समग्र जोखिम को कम करने के साथ-साथ दोनों सेगमेंट को बेहतर करना है.

इसके अतिरिक्त, इन खंडों के लिए धन के आवंटन को विभिन्न मापदंडों जैसे वर्तमान मूल्यांकन और भविष्य के आकर्षण के आधार पर कमाई के अनुमानों आदि के उपयोग से बदला जा सकता है.यह अंतर्निहित योजना रिटर्न के ऊपर अतिरिक्त रिटर्न उत्पन्न करने के उद्देश्य से बदलते बाजार परिदृश्य के आधार पर निवेशक जोखिम को रेखांकित कर सकता है.

यह भी पढ़ें- एफडी पर नहीं मिल रहा ज्यादा तो यहां करें निवेश, होगी मोटी बचत

ईटीएफ की लोकप्रियता बढ़ी
वर्तमान बाजार परिदृश्य में, निफ्टी 50 जैसे बेंचमार्क सूचकांकों को बेहतर बनाने के लिए सक्रिय फंडों में तेजी लाने में मुश्किल हो रही है, इसलिए ईटीएफ जैसे निष्क्रिय उत्पादों को अंडरपरफॉर्मेंस के फंड मैनेजर जोखिम से बचने के लिए बाजार रिटर्न प्राप्त करने के अच्छे रास्ते हैं. ईटीएफ की लोकप्रियता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि कुल वैश्विक एयूएम 6.3 ट्रिलियन डॉलर और भारत में 2.1 लाख करोड़ रुपए है. इक्विटी बाजार के लिए जोखिम लेने के लिए फंड ऑफ फंड निफ्टी 50, मिडकैप 150 आदि जैसे ईटीएफ का उपयोग कर सकता है. चूंकि इक्विटी ईटीएफ में निवेश किया जाएगा, फंड ऑफ फंड की लागत कम होगी और इक्विटी कराधान ऐसी योजना पर लागू होगा. इसके अतिरिक्त, चूंकि संपत्ति का आवंटन योजना के द्वारा किया जा सकता है (इसके उद्देश्य के आधार पर), लागत प्रभाव और पुनर्वित्त में शामिल टैक्स को बहुत कम किया जा सकता है. निवेशक एक सामान्य म्यूचुअल फंड और डीमैट खाते जैसी योजनाओं की सदस्यता ले सकता है.

इस प्रकार, परिसंपत्ति आवंटन का प्रबंधन करने के उद्देश्य से ईटीएफ पर आधारित फंड का फंड कम लागत, कम सक्रिय जोखिम, व्यापक इक्विटी मार्केट सेगमेंट के निष्क्रिय एक्सपोजर का एक सुविधाजनक म्यूचुअल फंड तरीका प्रदान कर सकता है, जिसमें बदलते परिसंपत्ति आवंटन के साथ अतिरिक्त रिटर्न प्राप्त करना है. एक निवेश उत्पाद जहां इक्विटी कराधान लागू होगा और निवेशक अपने स्वयं के पोर्टफोलियो को पुनव्र्यवस्थित करने की लागत और परेशानी से बचेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज