MFs ने लगातार 5वें महीने इक्विटी से निकाली रकम, अक्‍टूबर में 14300 करोड़ रुपये के स्‍टॉक बेचे

म्यूचुअल फंड्स ने इक्विटीज से लगातार पांचवें महीने भी तगड़ी रकम निकाली है;
म्यूचुअल फंड्स ने इक्विटीज से लगातार पांचवें महीने भी तगड़ी रकम निकाली है;

कैपिटल मार्केट रेग्‍युलटर सेबी (SEBI) के आंकड़ों के मुताबिक, म्‍यूचुअल फंड्स (MFs) ने अक्‍टूबर 2020 में निवेशकों को भुगतान (Redemption) करने के लिए इक्विटी (Equities) से तगड़ी रकम निकाली है. इससे पहले म्‍यूचुअल फंड्स ने जनवरी से मई 2020 के बीच स्‍टॉक मार्केट में 40,00 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश किया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 8, 2020, 8:33 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. म्‍यूचुअल फंड्स (MFS) ने निवेशकों को भुगतान (Redemption) करने के लिए लगातार पांचवें महीने स्‍टॉक मार्केट (Stock Market) में तगड़ी बिकवाली की है. पूंजी बाजार नियामक सेबी (SEBI) के आंकड़ों के मुताबिक, अक्‍टूबर 2020 में फंड मैनेजर्स ने इक्विटीज (Equities) से 14,300 करोड़ रुपये की भारी-भरकम राशि निकाल (Withdraw) ली. इससे पहले म्‍यूचुअल फंड्स ने जनवरी-मई 2020 के दौरान स्‍टॉक मार्केट में 40,000 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश (Net Investment) किया था.

मौजूदा माहौल में निवेशकों ने इक्विटी म्‍यूचुअल फंड्स से निकाले पैसे
देश की अर्थव्‍यवस्‍था (Indian Economy) में बनी हुई सुस्‍ती और अमेरिका के राष्‍ट्रपति चुनाव (US Presidential Elections 2020) के कारण बने हालात को देखते हुए निवेशक इक्विटी म्‍यूचुअल फंड्स (Equity MFs) से लगातार पैसे निकाल (Outflow) रहे थे. ऐसे में फंड मैनेजर्स को निवेशकों को भुगतान करने के लिए इक्विटीज से पैसे निकालने पड़े. जुलाई-सितंबर 2020 तिमाही के दौरान इक्विटी म्‍यूचुअल फंड्स से लोगों ने 7,200 करोड़ रुपये निकाले. वहीं, इस दौरान सिस्‍टेमैटिक इंवेस्‍टमेंट प्‍लान (SIP) के जरिये इस सेगमेंट में निवेश भी तेजी से गिरता (Inflow Drop) चला गया.

ये भी पढ़ें- PM नरेंद्र मोदी कल वाराणसी को देंगे करोड़ों का दिवाली गिफ्ट, 37 प्रोजेक्ट्स का करेंगे उद्घाटन
जून-अक्‍टूबर 2020 के दौरान इक्विटीज से निकाले 37,498 करोड़


इक्विटी म्‍यूचुअल फंड्स के निवेशकों ने मौजूदा आर्थिक हालात में अपने पास नकदी बनाए रखने के लिए जमकर मुनाफावसूली भी की. एक्‍सपर्ट्स का कहना है कि अनिश्चितता के माहौल में ज्‍यादातर निवेशक ऐसा ही व्‍यवहार करते हैं. ये सामान्‍य व्‍यवहार है. जब भी मार्केट क्रैश होने के बाद वापसी करता है तो ज्‍यादातर इंवेस्‍टर्स बड़े नुकसान से बचने के लिए बाजार से पैसे निकालने लगते हैं. अक्‍टूबर में म्‍यूचुअल फंड्स ने इक्विटीज से कुल 14,344 करोड़ रुपये निकाले. जून 2020 से अब तक फंड मैनेजर्स कुल 37,498 करोड़ रुपये इक्विटीज से खींच चुके हैं.

ये भी पढ़ें- केंद्र का कोरोना संकट में बेरोजगार हुए लोगों के लिए बड़ा ऐलान! अब ऑनलाइन क्लेम कर ले सकते हैं इस योजना का फायदा

आर्थिक हालात सुधरने पर निवेशकों के लौटने की है पूरी उम्‍मीद
म्‍यूचुअल फंड्स ने सितंबर 2020 में इक्विटीज से 4,134 करोड़ रुपये तो अगस्‍त में 9,214 करोड़, जुलाई में 9,195 करोड़ और जून में 612 करोड़ रुपये की निकासी की. जनवरी-मई 2020 के दौरान म्‍यूचुअल फंड्स की ओर से इक्विटीज में किए गए 40,000 करोड़ के शुद्ध निवेश में से 30,285 करोड़ रुपये सिर्फ मार्च 2020 में लगाए गए थे. उम्‍मीद की जा रही है कि चालू वित्‍त वर्ष के आखिर तक आर्थिक हालात में सुधार होने पर निवेशक वापस इक्विटी म्‍यूचुअल फंड्स की ओर लौट आएंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज