छुट्टी की वजह से नहीं रुकेगी सैलरी, 1 अगस्त से सप्ताह के सातों दिन काम करेगा NACH

भारतीय रिजर्व बैंक

भारतीय रिजर्व बैंक

फिलहाल नेशनल ऑटोमेटेड क्लियरिंग हाउस (NACH) सिर्फ बैंक वर्किंग डे पर ही उपलब्ध है लेकिन 1 अगस्त से यह सप्ताह के सातों दिन काम करेगा.

  • Share this:

मुंबई. नेशनल ऑटोमेटेड क्लियरिंग हाउस यानी एनएसीएच (National Automated Clearing House) आगामी एक अगस्त, 2021 से सप्ताह के सातों दिन उपलब्ध होगी. भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) ने शुक्रवार को यह जानकारी दी.

क्या है एनएसीएच

एनएसीएच एक बल्क पेमेंट सिस्टम है जो नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया यानी एनपीसीआई (National Payments Corporation of India) द्वारा संचालित है. इसके जरिए कई क्रेडिट स्थानांतरण मसलन लाभांश, ब्याज, वेतन और पेंशन का भुगतान किया जा सकता है. इसके अलावा एनएसीएच बिजली, गैस, टेलिफोन, पानी, लोन की ईएमआई, म्यूचुअल फंड में निवेश और इंश्योरेंस प्रीमियम पेमेंट का कलेक्शन भी करता है.

आरबीआई के मुताबिक डायरेक्ट बेनेफिट ट्रांसफर यानी डीबीटी (DBT) के जरिए पैसे भेजने के मामले में एनएसीएच एक पसंदीदा और महत्वपूर्ण माध्यम बनकर उभरा है.
ये भी पढ़ें- SBI ने 44 करोड़ ग्राहकों को किया अलर्ट! 30 जून के बाद नहीं चलेगा PAN कार्ड, जानें बैंक ने क्या दी सलाह?

अभी बैंकों के वर्किंग डे के दिन ही उपलब्ध है एनएसीएच

रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने शुक्रवार को द्विमासिक मौद्रिक नीति की समीक्षा की घोषणा करते हुए कहा, ''ग्राहकों को सुविधाओं के विस्तार तथा चौबीसों घंटे उपलब्ध रहने वाली रियल-टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (आरटीजीएस) का पूरा लाभ लेने के लिए एनएसीएच को एक अगस्त, 2021 से सप्ताह के सातों दिन उपलब्ध कराने का प्रस्ताव है. अभी यह सुविधा बैंकों के वर्किंग डे के दिन ही उपलब्ध होती है.''



RBI Monetary Policy: रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं, 4 फीसदी पर ही रहेगा बरकरार

गौरतलब है कि कोविड-19 से प्रभावित अर्थव्यवस्था को सहारा देने के लिए नरम मौद्रिक नीति बनाए रखने का भरोसा देते हुए आरबीआई ने शुक्रवार को अपनी नीतिगत दर रेपो को चार फीसदी के मौजूदा स्तर पर बनाए रखा है. आरबीआई की मॉनेटरी पॉलिसी कमिटी ने फैसला किया है कि जब तक कोरोना का असर खत्म नहीं होता तब तक अकोमडेटिव नजरिया ही बरकरार रखा जाएगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज