• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • नैनो यूरिया को लेकर मोदी सरकार का मास्टर प्लान तैयार, अब ऐसे GameChanger साबित होगा यह तकनीक

नैनो यूरिया को लेकर मोदी सरकार का मास्टर प्लान तैयार, अब ऐसे GameChanger साबित होगा यह तकनीक

मोदी सरकार बड़े पैमाने पर नैनो यूरिया के उत्पादन पर जोर दे रही है. (फोटो-इफको)

मोदी सरकार बड़े पैमाने पर नैनो यूरिया के उत्पादन पर जोर दे रही है. (फोटो-इफको)

Nano Urea News: एक्सपर्ट्स का दावा है कि नैनो यूरिया (Nano Urea) के इस्तेमाल से आने वाले दिनों में बिहार, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और गुजरात जैसे राज्यों के किसानों (Farmers) को पहले की तुलना में आय (Income) कई गुना बढ़ जाएंगे. साथ ही यूरिया की कालाबजारी से भी छुटकारा मिलेगा.

  • Share this:

नई दिल्ली. पिछले दिनों ही मोदी सरकार (Modi Government) ने किसानों (Farmers) को लेकर बड़ा ऐलान किया था. केंद्र सरकार के रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय ने नैनो यूरिया (Nano Urea) की टेक्नोलॉजी ट्रांसफर के लिए दो एमओयू (MOU) इफको और नैशनल फर्टिलाइजर्स लिमिटेड यानी एनएफएल (IFFCO and NFL) और इफको और राष्ट्रीय केमिकल्स ऐंड फर्टिलाइजर्स लिमिटेड (IFFCO and NCFL) के बीच कराया था. केंद्र सरकार के इस निर्णय के बाद अब देश में नैनो यूरिया का उत्पादन और बढ़ जाएगा. एक्सपर्ट्स का दावा है कि नैनो यूरिया के इस्तेमाल से आने वाले दिनों में बिहार, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और गुजरात जैसे राज्यों के किसानों को पहले की तुलना में आय कई गुना बढ़ जाएंगे. साथ ही यूरिया की कालाबजारी से भी छुटकारा मिलेगा.

यूरिया की कालाबाजारी से भी मिलेगा छुटकारा
बता दें कि देश के कई जिलों में किसानों को पीक सीजन में अपेक्षा से 50 से 100 रुपए तक प्रति बोरी ज्यादा देकर यूरिया खरीदनी पड़ती थी. कई राज्यों में रेट को लेकर विवाद के कारण दूरदराज के इलाकों में खाद मिलने में काफी दिक्कत तक होती थी, लेकिन अब नैनो यूरिया की नई तकनीक के जरिए यूरिया की किल्लत से छुटकारा मिलेगा. साथ ही बर्बादी से भी निजात मिलेगी. कई राज्यों में तो कालाबाजारी पर भी लगाम लगेगा.

Nano Urea, MOU, farmers profit, farmers economy conditions, PM MODI, Nano Urea mou in india, nano urea Liquid, fertilizer, Modi Government, Nano Urea Poduction, IFFCO, Farmers, NAFLA, नैनो यूरिया, यूरिया की नई तकनीक से किसानों को क्या होंगे फायदे, मोदी सरकार, किसानों, केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय, नैनो यूरिया, एमओयू, इफको, IFFCO, नैशनल फर्टिलाइजर्स लिमिटेड, राष्ट्रीय केमिकल्स ऐंड फर्टिलाइजर्स लिमिटेड,

भारत जैसे कृषि प्रधान देश के लिए यह जरूरी है कि नैनो यूरिया का उत्पादन और बढ़े.

क्यों नैनो यूरिया के उत्पादन पर जोर दे रही केंद्र सरकार
मोदी सरकार बड़े पैमाने पर नैनो यूरिया के उत्पादन पर जोर दे रही है. पहले पारंपरिक यूरिया की बोरी जितने दामों में मिलती थी उससे नैनो यूरिया के दाम अब कम तो होंगे ही साथ ही अब यूरिया लिक्विंड में मिला करेगा. कृषि एक्सपर्ट चंदन कुमार कहते हैं, ‘नैनो यूरिया के कई फायदे आने वाले दिनों में लोगों को दिखाई देंगे. पहला, इसके इस्तेमाल से मिट्टी की सेहत सुधरेगी. जल प्रदूषण और वायु प्रदूषण भी कम होगा. नैनो यूरिया एक ईको-फ्रेंडली उत्पाद है. नैनो यूरिया पारंपरिक यूरिया के मुकाबले धीरे-धीरे नाइट्रोजन रिलीज करता है, जिससे पौधों को बेहतर पोषण मिल पाती है. इस फैसले से किसानों को कई तरह के फायदे होंगे. गांव-देहात में अब यूरिया के परिवहन और भंडारण में मदद मिलेगी ही साथ ही बर्बाद होने का खतरा भी अब इसमें न के बराबर ही होगा. नैनो यूरिया के आधे लीटर के बोतल से उतने खेत की उर्वरक जरूरत पूरी हो पाएगी जितनी खेत की उर्वरक जरूरत अभी 45 किलो की पारंपरिक यूरिया बोरी से होती है.

पारंपरिक यूरिया से कितना अलग है नैनो यूरिया
बता दें कि पिछले हफ्ते रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय ने एमओयू साइन के दौरान कई दावे किए थे. मंत्रालय के मुतबिक, ‘नैनो यूरिया के इस्तेमाल से यूरिया सब्सिडी पर होने वाला खर्च भी आधा हो जाएगा. नैनो यूरिया के इस्तेमाल से किसानों को सीधे 10 प्रतिशत की आर्थिक बचत होगी. पारंपरिक यूरिया की बोरी 267 रुपये में मिलती है, लेकिन नैनो यूरिया की बोतल 240 रुपये में मिल रही है. इसके अलावा यूरिया के परिवहन और भंडारण पर भी होने वाला किसानों का खर्च भी कम होगा. इससे कुल मिलाकर किसानों को कई स्तर पर आर्थिक बचत होगी. इससे किसानों की आय दोगुना करने का लक्ष्य पूरा होने की दिशा में प्रगति होगी.’

Nano Urea, MOU, farmers profit, farmers economy conditions, PM MODI, Nano Urea mou in india, nano urea Liquid, fertilizer, Modi Government, Nano Urea Poduction, IFFCO, Farmers, NAFLA, नैनो यूरिया, यूरिया की नई तकनीक से किसानों को क्या होंगे फायदे, मोदी सरकार, किसानों, केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय, नैनो यूरिया, एमओयू, इफको, IFFCO, नैशनल फर्टिलाइजर्स लिमिटेड, राष्ट्रीय केमिकल्स ऐंड फर्टिलाइजर्स लिमिटेड,nano urea technology now introduced in up Gujarat Haryana Bihar Punjab Jammu MP Modi government for farmers income nodrss

खेती के मौसम में देश में उर्वरकों की कालाबाजारी खासकर बिहार और यूपी जैसे राज्यों में आम बात है.  (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

ये भी पढ़ें: दिल्ली GST संशोधन विधेयक 2021 में बड़ा बदलाव, टैक्स फर्जीवाड़ा को अब ऐसे रोकेगी केजरीवाल सरकार

देश में उर्वरकों की कालाबाजारी खासकर बिहार और यूपी जैसे राज्यों में तो आम बात है. आए दिन खाद की किल्लत और कालाबाजारी को लेकर खबरें आती रहती हैं. खाद के अघोषित मूल्यों को लेकर किसान, फुटकर विक्रेता और थोक कारोबारी सब नाराज रहते हैं. खासकर फुटकर और थोक विक्रेता से एमआरपी पर उर्वरक बेचने का दवाब रहता है, लेकिन इन लोगों को तर्क रहता है कि किसानों की जरूरत पूरा करने के लिए उन्हें दूसरे राज्यों से एमआरपी से ज्यादा दामों पर खऱीदना पड़ता है. जब खरीदते हैं ज्यादा दाम पर तो एमआरपी पर कैसे बेचें? लेकिन, शायद आने वाले कुछ महीनों में मोदी सरकार के इस गेमचेंजर तकनीक से किसानों की तकदीर बदल सकती है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज