होम /न्यूज /व्यवसाय /खुशखबरी! टैक्सी की तरह घर बैठे बुक करें ट्रैक्टर, सरकार ने शुरू की नई स्कीम

खुशखबरी! टैक्सी की तरह घर बैठे बुक करें ट्रैक्टर, सरकार ने शुरू की नई स्कीम

किसानों के लिए सरकार ने शुरू की नई स्कीम! कार-बाइक की तरह अब बुक कराएं ट्रैक्टर

किसानों के लिए सरकार ने शुरू की नई स्कीम! कार-बाइक की तरह अब बुक कराएं ट्रैक्टर

कृषि मंत्रालय ने कस्टम हायरिंग सेंटर्स के लिए CHC Farm Machinery ऐप लॉन्च की है. इसमें किसान अपने खेत के 50 किलोमीटर दा ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    नई दिल्ली. केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार (Modi Government) किसानों के लिए नई स्कीम लाई है. इस स्कीम के तहत किसानों (Farmers) को खेती करने के लिए महंगे उपकरण (Agriculture Equipment on Rent) किराए पर मिलेंगे. इसके लिए सरकार खुद एग्रीगेटर बन गई है. कृषि मंत्रालय (Agriculture Ministry) ने कस्टम हायरिंग सेंटर्स के लिए CHC Farm Machinery ऐप लॉन्च की है. इसमें किसान अपने खेत के 50 किलोमीटर दायरे में उपलब्ध खेती के उपकरण को किराये पर ले सकेंगे . ये ऐप 12 भाषाओं में उपलब्ध है. सरकार को उम्मीद है कि इससे किसानों को महंगे उपकरण नहीं खरीदने होंगे. उनकी लागत कम होगी और उनकी आय भी बढ़ेगी.

    कारों की तरह अब खेती के काम के लिए बुक करें ट्रैक्टर-इस ऐप पर किसानों को कस्टम हायरिंग सेंटर्स (CHCs) के जरिए खेती से जुड़ी मशीन दी जाएगी. इसके लिए 35 हजार कस्टम हायरिंग सेंटर्स देशभर में बनाए जा चुके हैं, जिनकी क्षमता 2.5 लाख खेती वाले उपकरण सालाना किराये पर देने की है.

    ये भी पढ़ें-सरकार ने किया पेंशन नियमों में बदलाव, अब इन लोगों को मिलेंगे ज्यादा पैसे

    इसका नाम कृषि मंत्रालय ने CHC Farm Machinery रखा है.गूगल प्ले स्टोर पर यह ऐप हिंदी, अंग्रेजी, उर्दू समेत 12 भाषाओं में है. इस ऐप को डाउनलोड करने के बाद आपको भाषा चुननी होगी. फिर अगले स्टेप में आपको CHC/ सर्विस प्रोवाइडर और किसान/उपयोगकर्ता दिखेंगे.



    इस तरह से ले सकते हैं सब्सिडी

    (1) अगर किसान द्वारा कृषि यंत्र का पूरा भुगतान कर दिया गया है, तो वह सब्सिडी का पैसा अपने खाते में ले सकता है.

    (2) वहीं, दुकानदार को देना चाहता है, तो एक लिखित प्रार्थना पत्र देना होगा. इसके बाद दुकानदार के खाते में सब्सिडी का भुगतान किया जा सकता है.

    (3)  इसके अलावा किसान और दुकानदार की सहमति पर सब्सिडी का पैसा कृषि यंत्र निर्माता कंपनी के खाते में भी भेजा जा सकता है. किसानों के लिए ऑनलाइन आवेदन के लिए पोर्टल खोल दिया गया है.

    (4)  वहीं पोर्टल पर अभी किस ब्लॉक में कितने कृषि यंत्र छूट पर दिए जाएगे, इसकी जानकारी लोड नहीं है, जो जल्द ही कर दी जाएगी.



    ये भी पढ़ें-आम आदमी को ये बड़ा तोहफा देने की तैयारी में मोदी सरकार

    किराये पर मिलेंगे खेती के उपकरण
    >> ओला, उबर की तर्ज पर किराए पर मिलेंगे
    >> सरकार खुद एग्रीगेटर बन गई है.
    >> कृषि मंत्रालय ने कस्मट हायरिंग सेंटर्स के लिए ऐप लॉन्च किया
    >> 50 किलोमीटर दायरे में उपलब्ध उपकरण की जानकारी
    >> किसान मनमर्जी के सस्ती दरों पर उपकरणों का चुनाव कर सकेगा
    >> ऐप 12 भाषओं में उपलब्ध है.
    >> 40,000 कस्टम हायरिंग सेंटर्स को जोडा गया है.
    >> 1 लाख 21 हजार किसान ऐप से जुड़े है.

    किसान ऐसे करें आवेदन- अगर किसी किसान को कृषि यंत्रों पर छूट के लिए आवेदन करना है तो वह सीएससी (कॉमन सर्विस सेंटर) पर जाकर आवेदन कर सकता है. यहां जाकर किसान अपनी पसंद का यंत्र सीएससी संचालक को बता सकता है. इसके बाद सीएससी सेंटर संचालक आवेदन नंबर किसान को दे देगा. इसके साथ ही किसान साइबर कैफे आदि से भी आवेदन कर सकते हैं. इसके लिए किसान को एग्री मशीनरी.इन पोर्टल पर जाकर आवेदन करना होगा.

    (असीम मनचंदा, संवाददाता, सीएनबीसी आवाज़)

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें