Narolac सेलिब्रेट कर रहा 100वां स्थापना दिवस, कोरोना महामारी में कंपनी ने ऐसे लोगों की जिंदगी में भरे रंग

Narolac सेलिब्रेट कर रहा 100वां स्थापना दिवस

Narolac सेलिब्रेट कर रहा 100वां स्थापना दिवस

देशभर में फैली महामारी ने हर किसी के रहन सहन के स्तर को बदल दिया है. Narolac ने अपनी #AajCareful toh Kal Colourful फिलॉसफी के तहत लोगों के बीच छोटी-छोटी खुशियां बांटने का फैसला किया. अपनी स्थापना का 100वां वर्ष सेलिब्रेट करने वाला Kansai Nerolac, AKAC के माध्यम से खुशियां बांट रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 23, 2021, 3:27 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: देशभर में फैली महामारी ने हर किसी के रहन सहन के स्तर को बदल दिया है. इस महामारी के दौरान लोगों की आदतों में भी बड़ा बदलाव देखने को मिला है. अचानक हुए लॉकडाउन में हम सभी को सैनिटाइजेशन से जुड़ी आदतों और तरीकों को अपनाना पड़ा था. इसके अलावा और भी कई तरह के बदलाव देखने को मिले. बता दें इस दौरान एक बड़ी मुहिम में शामिल होकर हम सब बेहतर कल सुनिश्चित करने और खुद को बचाने के लिए जरूरी उपायों का सावधानीपूर्वक चुनाव करने में सफल रहे.

Narolac ने अपनी #AajCareful toh Kal Colourful फिलॉसफी के तहत लोगों के बीच छोटी-छोटी खुशियां बांटने का फैसला किया. अपनी स्थापना का 100वां वर्ष सेलिब्रेट करने वाला Kansai Nerolac, AKAC के माध्यम से खुशियां बांट रहा है और लोगों के द्वारा दिखाए गए मनोबल को सलाम कर रहा है.

यह भी पढ़ें: खुशखबरी: इस साल बढ़ सकता है आपका वेतन! जानिए किस सेक्टर के कर्मचारियों की सैलरी सबसे ज्यादा बढ़ेगी?

आपको बता दें ऐसे में, Narolac ने लोगो से अपने और अपने प्रियजनों की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए उठाए गए सावधानीपूर्ण फैसलों और लाइफस्टाइल में अपनाए गए नए रीति-रिवाजों से जुड़ी कहानियों को शेयर करने का अनुरोध किया गया. सबसे अच्छी कहानी को Narolac की तरफ से कलरफुल सरप्राइज मिला, जिसके तहत उनके घर के किसी एक कमरे को पेंट किया जाएगा.
ये सभी प्रतियोगिता के वे विजेता हैं जो जानते हैं कि आज लिए गए सावधानीपूर्ण फैसले अच्छे और खुशहाल भविष्य के लिए जरूरी हैं, लेकिन सच तो यह है कि हम सभी विजेता हैं. हम सभी भारतीयों ने सैनिटाइजेशन और हाइजीनिक आदतों को अपने जीवन का अभिन्न हिस्सा बनाकर और इस महामारी से लड़कर एक उदहारण पेश किया है.

यह भी पढ़ें: इंटरनेट यूजर्स के मामले में बिहार के गांव और दिल्ली के शहरी लोग हैं सबसे आगे, यहां देखें देशभर की लिस्ट

आखिरकार, ये सब हमारे बेहतर भविष्य के लिए है. उम्मीद है कि ये नए रीति-रिवाज हमारी ज़िंदगी का तरीका बनेंगे और हम सब हाथ से हाथ मिलाकर एक सुरक्षित, बेहतर और खुशहाल भविष्य की ओर बढ़ेंगे. उम्मीद है कि ये नए रीति-रिवाज हमारी जिंदगी का तरीका बनेंगे और हम सब हाथ से हाथ मिलाकर एक सुरक्षित, बेहतर और खुशहाल भविष्य की ओर बढ़ेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज