नेशनल पेंशन सिस्टम को लेकर बदला नियम, अब एक साल में 2 बार मिलेगी ये सुविधा

बच्चों के लिए निवेश करने में बड़ी सावधानी बरतनी चाहिए.
बच्चों के लिए निवेश करने में बड़ी सावधानी बरतनी चाहिए.

पीएफआरडीए ने नेशनल पेंशन सिस्टम के तहत एक वित्त वर्ष में दो बार सेंट्रल रिकॉर्ड कीपिंग एजेंसी बदलने का विकल्प दे दिया है. 13 अप्रैल को ही PFRDA ने इस संबंध में एक प्रस्ताव लाया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 18, 2020, 8:55 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. नेशनल पेंशन सिस्टम (National Pension Scheme) में निवेश करने वाले ऑल सीटिजन मॉडल के तहत अब निवेशकों को सेंट्रल रिकॉर्ड कीपिंग एजेंसी (CRA's) बदलने के लिए साल में दो बाद विकल्प मिलेंगे. इसके पहले यह सुविधा एक वित्त वर्ष में केवल एक बार ही मिलता था. पेंशन फंड रेग्युलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (PFRDA) ने शुक्रवार को एक सर्कुलर जारी कर इस बारे में जानकारी दी है.

PFRDA ने 17 अप्रैल 2020 को जारी एक सर्कुलर में कहा, 'यह फैसला लिया गया है कि ऑल सीटिजन मॉडल के तहत आने वाले निवेश अब एक वित्त वर्ष में 1 बार की जगह दो बार CRA's बदल चुन या बदल सकेंगे. इसके अलावा, जो सब्सक्राइबर नियोक्ता-कर्मचारी संबंध के दायरे में आते हैं, वो दो से अधिक बार CRA's चुन/बदल सकते हैं. यह नियोक्ता पर निर्भर करेगा कि वो सीआरए बदलना चाहता है या नहीं'

यह भी पढ़ें: अगर कराई है FD तो आपके मुनाफे पर RBI के फैसले का होगा सीधा असर, जानें यहां



इन्हें एक साल में दो बार सीआरए बदलने की सुविधा
इस सर्कुलर में आगे कहा गया कि जिन सब्सक्राइबर्स ने एक वित्त वर्ष में पहले ही दो CRA's चुन लिया है, उन्हें 2 बार से अधिक बार CRA's बदल सकते हैं. यह इस बात पर निर्भर करता है कि उनके नियोक्त सरकारी या कॉरपोरेट मॉडल के अंतर्गत आते हैं. इसी प्रकार, अगर कोई सब्सक्राइबर अपने नियोक्ता के जरिए NPS मेंबर बना है तो वह भी एक वित्त वर्ष में दो से अधिक बार अपना CRA's बदल सकते हैं.

PFRDA लेकर आया था प्रस्ताव
PFRDA ने कहा, 'CRA's बदलने के बाद भी NPS ट्रांजैक्शन स्टेटमेंट में पुराने CRA's के जरिए होने वाला ट्रांजैक्शन ​भी दर्शाया जाएगा.' इसके पहले 13 अप्रैल को पीएफआरडीए ने Online Pran Generation Module (OPGM) के तहत ऑन बोर्डिंग प्रोसेस को स्ट्रीमलाइन करने का प्रस्ताव लेकर आया था. इसके ​तहत सीआरए को ऑनलाइन फोटो, सिग्नेचर आदि अपडेट करने की सुविधा देनी होगी.

अगर किसी सब्सक्राइबर ने यह काम पूरा नहीं किया है तो सीआरए को अपनी तरफ से सब्सक्राइबर्स को इस बारे में अवगत कराने और अपने डॉक्युमेंट अपडेट करने के लिए मैसेज करना होगा.

यह भी पढ़ें: LIC की बेस्ट पॉलिसी! रोजाना सिर्फ 74 रुपये देकर पाएं 10 लाख रुपये, जानें यहां
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज