लाइव टीवी

खुशखबरी! एक अप्रैल से खाना पकाना और गाड़ी चलाना होगा सस्ता, नैचुरल गैस के दाम में होगी बड़ी कटौती

भाषा
Updated: February 23, 2020, 1:26 PM IST
खुशखबरी! एक अप्रैल से खाना पकाना और गाड़ी चलाना होगा सस्ता, नैचुरल गैस के दाम में होगी बड़ी कटौती
देश में प्राकृतिक गैस के दाम में अप्रैल से 25 प्रतिशत की हो सकती है कटौती

सार्वजनिक क्षेत्र की ओएनजीसी (ONGC) और ऑयल इंडिया लिमिटेड (OIl India Ltd) एक अप्रैल से छह महीने की अवधि के लिये गैस के दाम में 25 फीसदी की कटौती कर सकती है.

  • Share this:
नई दिल्ली. वैश्विक स्तर पर दाम में नरमी के साथ देश में प्राकृतिक गैस (Natural Gas) की कीमतों में अप्रैल से 25 फीसदी की कटौती हो सकती है. सूत्रों ने यह जानकारी दी. सार्वजनिक क्षेत्र की ओएनजीसी (ONGC) और ऑयल इंडिया लिमिटेड (Oil India Ltd) एक अप्रैल से छह महीने की अवधि के लिये गैस के दाम में कटौती कर करीब 2.5 डॉलर प्रति 10 लाख ब्रिटिश थर्मल यूनिट कर सकती हैं. फिलहाल यह 3.23 डॉलर प्रति यूनट है. देश में उत्पादित गैस में इन दोनों कंपनियों की अच्छी-खासी हिस्सेदारी है. सूत्रों के अनुसार कठिन फील्डों से उत्पादित गैस के दाम भी मौजूदा 8.43 डॉलर प्रति यूनिट से कम कर 5.50 डॉलर प्रति यूनिट की जा सकती है.

हर 6 महीने पर तय होते हैं प्राकृतिक गैस के दाम
प्राकृतिक गैस के दाम हर छह महीने पर (1 अप्रैल और 1 अक्टूबर) तय किये जाते हैं. प्राकृतिक गैस का उपयोग उर्वरक और बिजली उत्पादन में किया जाता है. साथ ही उसका उपयोग वाहनों में ईंधन के रूप में उपयोग के लिये सीएनजी (CNG) और घरों में खाना पकाने की गैस (Cooking Gas) में होता है. गैस की दर से जहां यूरिया, बिजली और सीएनजी की कीमतें तय होती हैं, वहीं इससे ऑयल एंड नेचुरल गैस कॉरपोरेशन (ओएनजीसी) जैसी गैस उत्पादकों की आय भी निर्धारित होती है. ये भी पढ़ें: 1 अप्रैल से बदल जाएंगे टैक्स से जुड़े ये 4 नियम, जानिए आप पर क्या होगा असर? 





पिछले साल अक्टूबर में तय हुई थी कीमतें
इससे पहले, प्राकृतिक गैस की कीमत में एक अक्टूबर को 12.5 प्रतिशत की कटौती की गयी थी. इसके तहत दर 3.69 डॉलर प्रति यूनिट से कम कर 3.23 डॉलर प्रति यूनिट किया गया. वहीं कठिन क्षेत्रों से उत्पादित गैस के लिये कीमत उच्चतम स्तर 9.32 डॉलर प्रति यूनिट से घटाकर 8.43 डॉलर प्रति यूनिट किया गया.

ये भी पढ़ें: PM-किसान सम्मान निधि स्कीम: तीन किसानों को मिलेगा 1 लाख, 50 और 25 हजार का इनाम!

 

ONGC को लगेगा झटका
सूत्रों ने कहा कि दाम में कटौती से देश की सबसे बड़ी उत्पादक कंपनी ओएनजीसी की आय पर असर पड़ेगा. इसके अलावा रिलायंस इंडस्ट्रीज और उसकी भागीदार बीपी की आय भी प्रभावित हो सकती है जो दूसरे चरण में पूर्वी अपटीय क्षेत्र में केजी-डी6 ब्लाक में खोजे गये फील्ड से 2020 के मध्य से उत्पादन की योजना बनायी है.

गैस की कीमतों में कटौती से ओएनजीसी जैसी कंपनियों की आय कम होगी लेकिन इससे सीएनजी के दाम भी कम होंगे जिसका उपयोग कच्चे माल के रूप में प्राकृतिक गैस में किया जाता है. साथ ही घरों में पाइप के जरिये पहुंचने वाली रसोई गैस और उर्वरक तथा पेट्रोरसायन की लागतें भी कम होंगी. सूत्रों के अनुसार ओएनजीसी का गैस करोबार से आय और कमाई करीब 3,000 करोड़ रुपये कम होगी.

ये भी पढ़ें: पोस्ट ऑफिस में खुलवाया है सेविंग, PF या फिर सुकन्या खाता तो जान लीजिए नए नियमों के बारे में...

कीमत में कटौती से सरकार की सब्सिडी में आएगी कमी
गैस के दाम में एक डॉलर प्रति यूनिट के बदालाव से यूरिया की उत्पादन लागत करीब 1,600 से 1,800 रुपये प्रति टन का बदलाव आता है. कीमत में कटौती से सरकार की सब्सिडी में 2020-21 की पहली छमाही में 800 करोड़ रुपये की कमी आएगी.

ये भी पढ़ें:

अलर्ट! LIC की गारंटीड पेंशन स्कीम 31 मार्च को हो जाएगी बंद, अब क्या करें ग्राहक
अब घर बैठे SMS से हो जाएंगे आधार से जुड़े ये काम, UIDAI ने शुरू की नई सुविधा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 23, 2020, 1:25 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर