Home /News /business /

सितंबर 2018 के बाद कर्ज के​ लिए बैंकों पर अधिक निर्भर रहे एनबीएफसी: रिपोर्ट

सितंबर 2018 के बाद कर्ज के​ लिए बैंकों पर अधिक निर्भर रहे एनबीएफसी: रिपोर्ट

बैंकों के कर्ज में एनबीएफसी का हिस्सा 2018 से 1.9 फीसदी से बढ़कर 8.8 प्रतिशत पहुंच गया है.

बैंकों के कर्ज में एनबीएफसी का हिस्सा 2018 से 1.9 फीसदी से बढ़कर 8.8 प्रतिशत पहुंच गया है.

रेटिंग एजेंसी केयर रेटिंग्स ने अपनी एक रिपोर्ट में आंकड़ों के आाधार पर कहा है कि बैंकों द्वारा एनबीएफसी को पहले ही अधिक कर्ज दिया जा रहा है. सितंबर, 2018 से एनबीएफसी पूंजी बाजार से अन्य ऋणों के बजाय बैंकों से मिलने वाले कर्ज पर अधिक निर्भर हैं.

अधिक पढ़ें ...
    मुंबई. बैंकों द्वारा गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (NBFC) को अधिक ऋण देने की मांग काफी समय से उठा रही है. लेकिन ताजा आंकड़ों से पता चलता है कि बैंकों द्वारा NBFC को पहले ही अधिक कर्ज दिया जा रहा है. केयर रेटिंग (Care Ratings) की एक रिपोर्ट के अनुसार सितंबर, 2018 से जून, 2020 के दौरान बैंकों के रिण में एनबीएफसी का हिस्सा 1.9 अंक बढ कर 8.8 फीसदी हो गया है.

    8 लाख करोड़ रुपये पहुंचा एनबीएफसी पर बैंक का ऋण
    रेटिंग एजेंसी द्वारा जुटाए गए आंकड़ों के अनुसार कुल मिलाकर इस अवधि में एनबीएफसी पर बैंकों का बकाया ऋण 47.1 फीसदी बढ़कर 5.47 लाख करोड़ रुपये से 7.99 लाख करोड़ रुपये हो गया है.

    एनबीएफसी के लिए नकदी का संकट अभी भी जारी
    रिपोर्ट के अनुसार म्यूचुअल फंड कंपनियों से इस अवधि में एनबीएफसी को ऋण घटा है. सिर्फ मई, 2020 में सालाना आधार पर इसमें वृद्धि हुई है. सितंबर, 2018 में आईएलएंडएफएस संकट सामने आने के बाद से एनबीएफसी के लिए मुश्किलें बढ़ी हैं. इसके चलते बैंकों ने एनबीएफसी को नकदी समर्थन कम किया है. हालांकि, एनबीएफसी के लिए नकदी का संकट जारी है लेकिन भारतीय रिजर्व बैंक ने फरवरी से कई उपायों की घोषणा की है जिससे उन्हें पर्याप्त नकदी सुनिश्चित हो सके.

    यह भी पढ़ें: आम आदमी की बढ़ी मुश्किलें आलू का दाम हुआ दोगुना, जानिए क्यों बढ़ रही है कीमत

    सितंबर 2018 के बाद बैंक पर अधिक निर्भर रहे एनबीएफसी
    रेटिंग एजेंसी की शुक्रवार को जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि बैंकों के ऋण में एनबीएफसी का हिस्सा सितंबर, 2018 के 6.9 फीसदी से बढ़कर जून, 2020 में 8.8 फीसदी हो गया है. आंकड़ों से पता चलता है कि सितंबर, 2018 से एनबीएफसी पूंजी बाजार से अन्य ऋणों के बजाय बैंकों से मिलने वाले कर्ज पर अधिक निर्भर हैं.

    हालांकि, एनबीएफसी पर बैंकों का बकाया कर्ज जून, 2020 में घटकर 7.99 लाख करोड़ रुपये रह गया, जो अप्रैल, 2020 में 8.12 लाख करोड़ रुपये था. जून, 2019 में यह 8.41 लाख करोड़ रुपये था. मई, 2020 में एनबीएफसी को बैंकों का ऋण मामूली घटकर 9.36 लाख करोड़ रुपये रह गया, जो मई, 2020 में 9.49 लाख करोड़ रुपये था.

    यह भी पढ़ें: Health ID Card: 15 अगस्त को पीएम कर सकते हैं ऐलान, हर नागरिक के लिए होगा जरूरी

    म्यूचुअल फंड कंपनियों से एनबीएफसी को ऋण अप्रैल, 2020 तक लगातार घटा. उस समय यह घटकर 1.34 लाख करोड़ रुपये रह गया. हालांकि, मई, 2020 में इसमें वृद्धि हुई. हालांकि, जून, 2020 में यह फिर घटकर 1.38 लाख करोड़ रुपये रह गया.

    Tags: Bank, Business news in hindi, NBFCs

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर