लाइव टीवी

COVID-19: NBFC's को राहत की उम्मीद, मिल सकती है कर्ज चुकाने के लिए मोहलत

भाषा
Updated: April 9, 2020, 10:37 PM IST
COVID-19: NBFC's को राहत की उम्मीद, मिल सकती है कर्ज चुकाने के लिए मोहलत
एनबीएफसी मुख्य रूप से अपनी नकदी संबंधी जरूरतों के लिये बैंकों पर आश्रित हैं.

 इस पहल का मकसद उन्हें मौजूदा संकट से पार पाने में मदद करना है. NBFC भी कर्ज लौटाने में मोहलत मांग रहे हैं. उनका कहना है कि आखिर वे भी कर्जदार हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय बैंक संघ (IBA) के अंतर्गत आने वाले बैंक गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (NBFC) को दिये गये कर्ज के मामले में भी तीन महीने की मोहलत देने पर विचार कर रहे हैं. इस पहल का मकसद उन्हें मौजूदा संकट से पार पाने में मदद करना है.

नकदी की तंगी से निपटने के लिए मांग
एनबीएफसी भी कर्ज लौटाने में मोहलत मांग रहे हैं. उनका कहना है कि आखिर वे भी कर्जदार हैं. एनबीएफसी मुख्य रूप से अपनी नकदी संबंधी जरूरतों के लिये बैंकों पर आश्रित हैं. इसके अलावा गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों ने बैंकों से अतिरिक्त वित्त पोषण की व्यवस्था की मांग की है ताकि वे कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के कारण उत्पन्न नकदी की तंगी से निपट सके.

यह भी पढ़ें: चीन से बाहर निकलने के लिए अपनी कंपनियों को खर्च देगा जापान, पैकेज का ऐलान



बैंकों और RBI से की मांग


NBFC मुख्य रूप से MSME (सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उद्यम), बुनियादी ढांचा और रीयल एस्टेट क्षेत्र की जरूरतों को पूरा करते हैं जो ‘लॉकडाउन’ से काफी प्रभावित हुए हैं. सूत्रों ने कहा कि IBA NBF क्षेत्र की मांग पर विचार कर रहा है. बैंकों तथा नियामक RBIसे इसका युक्तिसंगत हल निकालने को कहा गया है.

अभी नहीं लिया गया है अंतिम फैसला
सूत्रों ने कहा कि अब तक इस बारे में कोई निर्णय नहीं हुआ है लेकिन मौजूदा हालात को देखते हुए इस पर सभी पहलुओं से सकारात्मक रूप से विचार किया जा रहा है. सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि चूंकि इस बारे में बैंक स्वयं से कोई निर्णय नहीं ले सकते, अत: इसे RBI के नियामकीय दिशानिर्देश के तहत उद्योग स्तर पर किया जाना है.

यह भी पढ़ें: क्या खेती के लिए लॉकडाउन का समय ठीक नहीं? 7 साल के उच्चतम स्तर पर चावल का भाव

नकदी का संकट
NBFC सितंबर 2018 में ILFS संकट के बाद से ही नकदी की समस्या से जूझ रहे हैं. उल्लेखनीय है कि पिछले महीने आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने खुदरा कर्ज और फसल कर्ज समेत सभी तरह के कर्ज (न्यूनतम 12 महीने की अवधि वाला) और कार्यशील पूंजी भुगतान के लिये तीन महीने की मोहलत देने की अनुमति दी है.

यह भी पढ़ें: दुनियाभर में Oyo Rooms ने अपने कर्मचारियों को बिना सैलरी के छुट्टी पर भेजा!
First published: April 9, 2020, 10:35 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading